Home Uncategorized स्वप्न फल, स्वप्न विचार | Swapna phal, Swapna vichar

स्वप्न फल, स्वप्न विचार | Swapna phal, Swapna vichar

स्वप्न फल, स्वप्न विचार

सपने देखना ( sapne dekhna ) एक स्वाभाविक क्रिया है | जब हम जागते हैं ,विचारों पर हमारा नियंत्रण रहता है, पर जब हम निद्रावस्था में होते हैं तब विचारों पर हमारा नियंत्रण नहीं रह पाता । निद्रावस्था में हमारा स्थूल शरीर सुप्तावस्था में रहता है पर हमारा सूक्ष्म शरीर एवम मस्तिष्क क्रियाशील रहता है और हमें सपनों

( sapno ) के माध्यम से अनेक प्रकार के दृश्य,घटनाएं ,व्यक्ति,वस्तुएं एवम स्थान आदि दिखलाता है । ज्योतिष शास्त्र के अनेकों ग्रंथों एवम हमारे पुराणों में सपनों ( sapno ) के शुभा अशुभ फल का वर्णन दिया गया है । कई बार इन स्वप्न के माध्यम से हमें भविष्य में होने वाली घटनाओं का संकेत भी मिलता है ।

इन सपनों ( Sapno ) का भी आपके जीवन में बड़ा महत्‍व है। शास्त्रों में स्वप्न फल ( Swapn Fal ) को विस्तार से बताया गया है| ज्‍योतिष विद्या के अनुसार व्‍यक्ति जो कुछ भी सपने ( Sapne ) में देखता है, उसका प्रभाव उसके जीवन पर जरूर पड़ता है। कई बार आपको याद रहता है कि आज आपने सपने ( sapne ) में क्‍या देखा और कई बार भूल जाते हैं।

यदि आपको सपना याद नहीं रहता है या आप चाह कर भी याद नहीं रख पाते हैं, तो उसके लिये आपको सिर्फ एक काम करें। जैसे ही आपकी आंख खुले, बस मनमें दो बातें सोचिये, “मैं कहां हूं और मैं क्‍या कर रहा ?” फिर ईश्वर से अपने पर कृपा बनाये रखने की प्रार्थना अवश्य करें।फिर आप अपना स्‍वप्‍न भूल नहीं सकते।

kalash

भारतीय ग्रंथों, ज्योतिष शास्त्रों में स्वप्न देखे जाने के समय, उसकी तिथि व अवस्था के आधार पर स्वप्न परिणाम ( swapn parinam ) का बहुत सूक्ष्मता और सरलता से विश्लेषण किया गया है।

kalash


रात के पहले पहर में आने वाले स्वप्न बुरे सपने ( Bure sapne ) अर्थात अशुभ स्वप्न ( Ashubh swapn ) होते है लेकिन आधी रात के बाद आने वाले स्वप्न समान्यता अच्छे सपने ( Achche sapne ) अर्थात शुभ स्वप्न ( shubh swapn ) माने जाते है ।

kalash


शुक्ल पक्ष की षष्ठी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी और दशमी तथा कृष्ण पक्ष की चतुर्दशीतथा सप्तमी तिथि को देखा गया सपना ( Sapna ) शीघ्र फल देने वाला होता है।

kalash

पूर्णिमा को देखे गए स्वप्न का फल ( swapn ka fal ) हमें अवश्य ही प्राप्त होता है।

kalash

शुक्ल पक्ष की द्वितीया, तृतीया एवं कृष्ण पक्ष की अष्टमी, नवमी को देखा गए स्वप्न ( swapn ) का हमें विपरीत फल मिलता है।

kalash

शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा और कृष्ण पक्ष की द्वितीया के स्वप्न का हमें देरी से फल प्राप्त होता है।

kalash

शुक्ल पक्ष की चतुर्थी एवं पंचमी को देखे गए सपने ( sapne ) का हमें दो मास से दो वर्ष के भीतर फल प्राप्त हो जाता है।



शास्त्रों के अनुसार रात्रि के प्रथम प्रहर का स्वप्न एक वर्ष में , दूसरे प्रहर का स्वप्न आठ महीने में ,तीसरे प्रहर का स्वप्न तीन मॉस में ,चौथे प्रहर का स्वप्न एक मास में ,ब्रह्म मुहूर्त का स्वप्न दस दिन में तथा सूर्योदय से पूर्व देखे गये स्वप्न का फल उसी दिन प्राप्त की संभावना प्रबल होती है।

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार यदि रात में शुभ स्वप्न दिखाई दे और नींद टूट जाय तो स्वप्न देखने के बाद दोबारा नहीं सोना चाहिए। उसी समय स्नानादि करके भगवान की पूजा करके उन्हें धन्यवाद देना चाहिए। शुभ स्वप्न ( Shubh Swapn ) को देखने पर उसके फल प्राप्ति के लिए अपना स्वप्न किसी को नहीं बताना चाहिए।

( Ashubh Swapn ) अशुभ स्वप्न दिखने पर यदि फिर से सो जाएँ तो उसका अशुभ प्रभाव समाप्त हो जाता है |
अशुभ स्वप्न देखने पर प्रात: काल घर के बड़े बुजुर्गो को अथवा पीपल के पेड़ को इस स्वप्न के विषय में बता देना चाहिए। इससे स्वप्न के अशुभफल में कमी आ जाती है। अशुभ स्वप्न आने पर उसकी शान्ति के लिए ईश्वर का पूजन ,,हवन, ब्राह्मण भोजन और दान करने से अशुभ फल समाप्त हो जाते है |

kalash

सपनों का फल ( Sapno Ka fal )

hand-logo

अपना निरादर देख्ना –   मान सम्मान की प्राप्ति ।

hand-logo

अखरोट देखना –   धन वृद्धि ।

hand-logo

अनाज देखना    चिंता मिले ।

hand-logo

अनार खाना (मीठा) –   धन मिले ।

hand-logo

अजनबी मिलना –   अनिष्ट की सम्भावना ।

hand-logo

अध्यापक देखना –   सफलता मिले ।

hand-logo

अँधेरा देखना –   विपत्ति आये ।

hand-logo

अप्सरा देखना –   धन,यश की प्राप्ति ।

hand-logo

अर्थी देखना –   सफलता / धन लाभ ।

hand-logo

अमरुद खाना –   धन लाभ ।

hand-logo

अदरक खाना –   मान सम्मान की प्राप्ति ।

hand-logo

अलमारी बंद देखना –   धन की प्राप्ति ।

hand-logo

लमारी खुली देखना –   धन की हानि ।

hand-logo

अंगूर खाना –   स्वस्थ्य लाभ ।

hand-logo

अंग कटा हुआ देखना –   स्वास्थ्य लाभ ।

hand-logo

अंग दान करना –   पुरस्कार, सम्मान की प्राप्ति ।

hand-logo

अंगूठा चूसना –   पैत्रक में विवाद ।

hand-logo

अंतिम संस्कार देखना –   परिवार में मांगलिक कार्य होने की सम्भावना ।

hand-logo

अख़बार पढ़ना, देखना, खरीदना    वाद विवाद की आशंका ।

hand-logo

अट्हास करना –   दुःख के समाचार मिल सकते है ।

hand-logo

अध्यक्ष बनना –   मान हानि की आशंका ।

hand-logo

अध्यन करना –   असफलता मिलने की आशंका ।

hand-logo

अपहरण देखना –   लम्बी उम्र ।

hand-logo

अभिमान करना –   अपमानित होना ।

hand-logo

अगरबत्ती देखना –   धार्मिक अनुष्ठान हो ।

hand-logo

अपठनीय अक्षर पढना –   दुखद समाचार मिले ।

hand-logo

अंगीठी जलती देखना –   अशुभ संकेत ।

hand-logo

अंगीठी बुझी देखना –   शुभ संकेत ।

hand-logo

आग उठाना –   कष्ट मिले ।

hand-logo

अंडे देखना –   झगडा होवे ।

hand-logo

अजगर देखना –   शुभ संकेत ।

hand-logo

अस्त्र देखना –   सभी संकटों से रक्षा ।

hand-logo

अंगारों पर चलना –   शारीरिक कष्ट मिलना |

hand-logo

अपने को आकाश में उड़ते देखना –   सफलता प्राप्त हो ।

hand-logo

अपने पर हमला देखना –   दीर्घ आयु ।

hand-logo

अपने आप को अकेला देखना –   लम्बी यात्रा का योग ।

hand-logo

अपने दांत गिरते देखना –   परिजनों को कष्ट मिले ।

hand-logo

अपने को बीमार देखना –   कष्ट मिले |

hand-logo

अपने को ऊंचाई पर देखना –   अपमानित हो सकते है ।

hand-logo

अपना कद छोटा देखना –   परेशानी उठाना ।

hand-logo

अपना कद बड़ा देखना –   संकटों के आगमन की संभावना ।




hand-logo

आम खाना –   सुंदर स्त्री मिले ।

hand-logo

आग देखना –   परिवार में शान्ति होवे ।

hand-logo

आग लगाना –   दुःख मिले ।

hand-logo

आंसू देखना –   परिवार में मंगल कार्य हो ।

hand-logo

आवाज सुनना –   शुभता का सूचक ।

hand-logo

आंधी देखना –   सफ़र में कष्ट मिले ।

hand-logo

आंधी में गिरना –   सफलता मिले ।

hand-logo

आइना देखना –   इच्छित वास्तु की प्राप्ति ।

hand-logo

आइना में अपना चेहरा देखना –   नौकरी/व्यापार में परेशानी ।

hand-logo

आसमान देखना –   मान सम्मान प्राप्त हो ।

hand-logo

आसमान में स्वयं को देखना –   शुभ योग ।

hand-logo

आसमान से स्वयं को गिरते देखना –   रोज़गार में हानि ।

hand-logo

आग से कपड़े जलना –   दुख मिले ।

hand-logo

आग में स्वय जलना –   मान सम्मान मिले ।

hand-logo

आजाद होते देखना –   चली आ रही परेशानियों से मुक्ति ।

hand-logo

आलू देखना –   इच्छित भोजन की प्राप्ति ।

hand-logo

आंवला देखना –   मनोकामना पूर्ण न होना ।

hand-logo

आंवला खाते देखना –   मनोकामना पूर्ण हो ।

hand-logo

आत्महत्या करना या देखना –   लम्बी आयु मिले ।

hand-logo

आँचल से आंसू पोछना –   शुभ समय का आगमन ।

hand-logo

आँचल में मुँह छिपाना –   मान सम्मान मिले ।

hand-logo

आवेदन करना या लिखना –   लम्बी यात्रा हो सकती है ।

hand-logo

आइसक्रीम खाना –   अच्छा समय का आगमन ।

hand-logo

इश्तहार पढना –   अपयश / धोखा मिले ।

hand-logo

इत्र लगाना –   मान सम्मान की प्राप्ति ।

hand-logo

इमारत देखना ऊँची –   धन यश की प्राप्ति ।

hand-logo

इंजन चलता देखना –   यात्रा का योग ।

hand-logo

इन्द्रधनुष देखना –   संकटों की पूर्व सूचना ।

hand-logo

इनाम मिले –   अपमानित हो सकते है ।

hand logo ईंट /पत्थर देखना –   कष्ट मिलने की सम्भावना ।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

ऐसे रहें स्वस्थ | Aise Rahen Swasth

ऐसे रहें स्वस्थ | स्वस्थ रहने का उपाय साथियों आज भारत की बहुत बड़ी आबादी...

How To Copy A Live WordPress Site To Localhost Manually (2)

You can select what widgets to display in the how to speed up wordpress sidebar and footer. With widgets providing easy drag and drop...

रविववार के शुभ -अशुभ मुहूर्त | Raviwar Ke Shub -Ashubh Muhurt

आज का शुभ मुहूर्तAaj Ka Shubh Muhurt अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज का...

शनिवार के शुभ -अशुभ मुहूर्त | Shaniwar Ke Shub -Ashubh Muhurt

आज का शुभ मुहूर्तAaj Ka Shubh Muhurt अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज का...

Recent Comments