Wednesday, July 15, 2020
Home Hindi यंत्र संतान गोपाल यंत्र | Santan Gopal Mantra

संतान गोपाल यंत्र | Santan Gopal Mantra

घर में प्रेम, सहयोग और सुख शांति लाने के लिए

मन्त्र — ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं देवकीसुत गोविन्द वासुदेव जगत्पते,
देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गतः ।

हर दम्पति की कामना होती है कि उसे सुन्दर, स्वस्थ और योग्य संतान की प्राप्ति Santan Ki Prapti हो| सन्तान की किलकारी से ही घर का आँगन महकता चहकता है घर में सच्चा हर्ष-उल्लास का वातावरण व्याप्त होता है ।
लेकिन कई बार ऐसा भी होता है कि किसी कारणवश दम्पति को सन्तान का सुख प्राप्त नहीं हो पाता है ,लाख इलाज, प्रयासों के बाद भी संतान प्राप्त Santan Prapti नहीं होती है उस अवस्था में ज्योतिष के उपाय Jyotish Ke Upay भी करने चाहिए । शास्त्रों में सन्तान गोपाल यंत्र और संतान गोपाल मन्त्र Santan Gopal Mantra का बहुत महत्व है ।

  • भगवान श्रीकृष्ण के बाल रूप को बाल गोपाल कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार भगवान श्री कृष्ण जी अपने बाल रूप में बेहद चंचल थे और नित्य नयी नयी लीलाएं करके जशोदा मइया और समस्त ग्राम वासियों का ह्रदय मोह लेते थे।
  • शास्त्रों के अनुसार श्री कृष्ण जी ने अपनी कलाओं से सबको मोहित किया था इसीलिए उनके बाल गोपाल स्वरूप को अत्यंत पूजनीय माना जाता है, संतान गोपाल यंत्र Santan Gopal Yantra / मन्त्र में श्री कृष्ण के बाल स्वरूप की ही आराधना की जाती है।
  • मान्यता है कि जो जातक संतान गोपाल यंत्र Santaan Gopal Yantra की सच्चे ह्रदय से पूजा करता है , संतान गोपाल मन्त्र Santaan Gopal Mantra का विधिपूर्वक जाप करता है उसे अवश्य ही भगवान श्री कृष्ण जैसा ही योग्य और सका ह्रदय मोहने वाले संतान की प्राप्ति Santan Ki Prapti होती है।
  • इस यंत्र को गंगा जल से धोकर अपने घर के मंदिर में स्थापित करें साथ ही श्री कृष्ण के बाल स्वरूप की मूर्ति या चित्र भी लगाकर उसे नित्य माखन मिश्री का भोग लगाएं ।
  • हर दम्पति ( निःसंतान दम्पति ही नहीं ) जिसे योग्य, आज्ञाकारी संतान की चाह है उसे संतान गोपाल यंत्र Santan Gopal Yantra के नित्य दर्शन एवं संतान गोपाल मन्त्र Santan Gopal Mantra का नित्य जप करना चाहिए ।


जीवन में कई बार ऐसा भी समय आता है जब व्यक्ति बहुत परिश्रम करता है , धर्म में भी उसकी आस्था होती है , कोई बुरे कार्य भी नहीं करता है फिर भी उसे उचित फलप्राण नहीं होते है , जीवन में लगातार संघर्ष बना रहता है , ऐसे समय में हम यंत्रों और पूजा पाठ का सहारा लेते है । मनुष्य की हर परेशानी के हल के लिए, हर इच्छा की पूर्ति के लिए अलग – अलग यंत्रों की सहायता ली जाती है । किसी भी मनुष्य के लिए इस तमाम यंत्रों की स्वयं स्थापना और शास्त्रानुसार रखरखाव कर पाना नामुमकिन सा है । लेकिन अब विश्व में पहली बार इस साईट में अनेकों दुर्लभ सिद्ध यंत्रों की प्राण प्रतिष्ठा की गयी है । इस साईट पर दिए गए सभी यंत्रों को योग्य ब्राह्मणों द्वारा शास्त्रानुसार पूर्ण विधि विधानुसार इस तरह से जप , यज्ञ , द्वारा सिद्ध करके प्राण प्रतिष्ठित किया गया है जिससे सभी व्यक्तियों को ( चाहे वह किसी भी धर्म को मानने वाले हो) निश्चित ही अभीष्ट लाभ की प्राप्ति हो । तो अब आप भी इन अत्यंत दुर्लभ यंत्रों का अवश्य ही लाभ उठायें ।

दोस्तों इस साईट पर दिए गए संतान प्राप्ति के बहुत ही खास और अचूक उपायों से ईश्वर के सबसे अनमोल उपहार एक स्वस्थ संतान रत्न प्राप्त करें, अपने जीवन की सबसे महत्वपूर्ण क्षण के लिए बिलकुल ठोस योजना तैयार करें।

Pandit Jihttps://www.memorymuseum.net
MemoryMuseum is one of the oldest and trusted sources to get devotional information in India. You can also find various tools to stay connected with Indian culture and traditions like Ram Shalaka, Panchang, Swapnphal, and Ayurveda.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

शिवलिंग | भूतेश्वर नाथ शिवलिंग

इस दुनिया में बहुत से ऐसे रहस्य है, बहुत से ऐसे दिव्य स्थान है जिनके चमत्कार के बारे में जानकर मनुष्य खुद...

बेलपत्र का महत्व, belpatr ka mahatva,

Belpatr ka mahatva, बेलपत्र का महत्व,  बिल्व पत्र ( belv patr) के वृक्ष को " श्री वृक्ष...

भगवान शिव पर क्या चढ़ाएं

सावन में भगवान शिव पर कौन सा अनाज और फूल चढ़ाएं  सावन में नित्य शिवलिंग पर गेहूं चढ़ाने...

धन वैभव का उपाय, Dhan Vaibhav Ka Upay,

Dhan Vaibhav Ka Upay, धन वैभव का उपाय, ...

Recent Comments

एस0के0राघव *गुरुजी* on रविवार का पंचांग, Raviwar Ka Panchag,
एस0के0राघव *गुरुजी* on रविवार का पंचांग, Raviwar Ka Panchag,
राजेश द्विवेदी रतलाम (मध्यप्रदेश) on सूर्य ग्रह के उपाय | सूर्य को अनुकूल कैसे करें
इंद्राज बिश्नोई on बुधवार का पंचांग | Budhwar Ka Panchang
nikhil malhotra on Saraswati Yantra
Translate »