Memory Alexa Hindi

उच्च रक्तचाप के उपचार
Uchch raktchap ke upachaar




Raktchaap Image
रक्तचाप ( जिसे हाईपरटेंशन भी कहते हैं एक बहुत ही गंभीर और भयंकर रोग है क्योंकि अगर रोगी को सही समय पर सही चिकित्सीय मदद नहीं मिलती तो इससे हार्ट अटैक, ब्रेन हैंमरेज, वगैरह भी होने की संभावना रहती है।उच्च-रक्तचाप वह रोग है जिसमें हृदय के संकुचन की अवस्था में रक्त वाहिकाओं में रक्त का दबाव पारे के 140 mm से ज्यादा या हृदय के विस्तारण की अवस्था में 90 mm से ज्यादा रहता है या दोनों अवस्थाओं में ज्यादा रहता है। इसकी वजह है शारीरिक गतिविधियों की कमी। मोटापा, तनाव, खाने पीने में लापरवाही, गंभीर बीमारियाँ, अनुवांशिक बीमारियाँ, धूम्रपान, नशा वगैरह वगैरह,
जानिए उच्च रक्तचाप के उपचार, Uchch raktchap ke upachaar, उच्च रक्तचाप से कैसे पाएं निजात, Uchch Raktchap Se kaise Nishad Payen ।

उच्च रक्तचाप से कैसे पाएं निजात
Uchch Raktchap Se kaise Nishad Payen

hand logo उच्च रक्तचाप ( uchch rakchap ) के मुख्य कारणों में से एक है आपके रक्त का गाढ़ा होना। रक्त गाढ़ा होने से उसका प्रवाह धीमा हो जाता है। जिससे नसों और धमनियों पर दबाव पड़ता है। लहसुन में बहुत हीं ताकतवर एंटीओक्सीडेनट्स , जैसे कि सेलेनियम, विटामिन सी और एलीसीन होते है, जो कि रक्त को पतला करने में काफी प्रभावशाली होते हैं। इसीलिए सुबह सुबह कच्चे लहसुन के दो तीन कली के टुकड़े चबाने से या उसके महीन टुकड़े करके निगलने से काफी फायदा पहुँचता है।


hand logo नमक ब्लड प्रेशर ( blood pressure ) बढाने वाला प्रमुख कारक है, इसलिए हाई ब्लड प्रेशर वालों को नमक का प्रयोग कम करना चाहिए।

hand logo एक चम्मच आंवले का रस और एक ही चम्मच शहद मिलाकर सुबह-शाम लेने से हाई ब्लड प्रेशर ( High blood pressure ) में बहुत लाभ होता है।

hand logo हाई ब्लडप्रेशर ( High Blood Pressure ) के मरीजों के लिए पपीता भी बहुत लाभकारी है, इसे खाली पेट चबा-चबाकर खाना चाहिए ।

hand logo तरबूज के बीज तथा खसखस को अलग-अलग पीसकर बराबर मात्रा में मिलाकर रख लें। प्रतिदिन खाली पेट एक चम्मच पानी के साथ लें।

hand logo गाजर और पालक का रस मिलाकर एक गिलास सुबह-शाम पीने से लाभ मिलता है।

hand logo हाई ब्लड प्रेशर ( High blood pressure ) को जल्दी कंट्रोल करने के लिये आधा गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़कर 2-2 घंटे के अंतर से पीना चाहिए।

hand logo जब ब्लड प्रेशर ( Blood pressure ) बढा हुआ हो तो आधा गिलास हल्के गर्म पानी में एक चम्मच काली मिर्च पाउडर घोलकर 2-2 घंटे में पीते रहें।

hand logo करेला और सहजन की फ़ली का नित्य सेवन उच्च रक्त चाप में परम हितकारी हैं।

hand logo सौंफ़, जीरा, शक्‍कर तीनों को बराबर लेकर पाउडर बना लें। इसे एक चम्मच एक गिलास पानी में घोलकर सुबह-शाम पीने से लाभ होता है।

hand logo हाई ब्लड प्रैशर ( High blood pressure ) में पांच तुलसी के पत्ते तथा दो नीम की पत्तियों को पीसकर 20 ग्राम पानी में घोलकर खाली पेट सुबह पिएं।

hand logo उच्च रक्त चाप ( uchch rakchap ) में मरीजों को सुबह शाम एक टुकड़ा अदरक का काली मिर्च के साथ चूसना चाहिए ।

hand logo लाल मिर्च के सेवन से नसें और रक्त वाहिकाएं चौड़ी हो जाती हैं,जिससे रक्त प्रवाह सहज हो जाता है और रक्तचाप नीचे आ जाता है।

hand logo बिना आते से चोकर निकाले गेहूं व चने के आटे को बराबर मात्रा में लेकर बनाई गई रोटी खूब चबा-चबाकर खानी चाहिए ।

hand logo पाँच ग्राम मेथीदाना पावडर द्रह दिनों तक सुबह-शाम पानी के साथ लें। इससे भी लाभ मिलता है।

hand logo प्रतिदिन नंगे पैर हरी घास पर 10-15 मिनट जरूर चलें, इससे ब्लड प्रेशर ( Blood pressure ) सामान्य रहता है।

इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।

Ad space on memory museum


यहाँ पर आप अपनी समस्याऐं, अपने सुझाव , उपाय भी अवश्य लिखें |
नाम:     

ई-मेल:   

उपाय:    


  • All Post
  •  
  • Admin Reply
1.
उच्च रक्तचाप में अदरक काफी फायदेमंद होता है। अदरक में बहुत हीं ताकतवर एंटीओक्सीडेट्स होते हैं । इसके सेवन से रक्तसंचार में सुधार होता है, यह बुरे कैलोस्ट्राल को दूर करता है जिससे धमनियों के आसपास की मांसपेशियों को आराम मिलता है और उच्च रक्तचाप नीचे रहता है।
admin memorymuseum.net  

2.
उच्च रक्तचाप में लाभ हेतु हाथ में तांबे का कड़ा पहनें और नित्य ॐ भौमाय नम:’ मंत्र का जाप करें।
मान्यता है कि गाय के शरीर पर लगातार हाथ फेरने से भी हाई ब्लड प्रैशर कंट्रोल में रहता है।
admin memorymuseum.net  

3.
उच्च रक्तचाप में एक दाना किशमिश को रात में थोड़े से गुलाब जल में भिगो दें और सुबह चबा के खा लें, दूसरे दिन किशमिश के दो दाने, तीसरे दिन तीन , चौथे दिन चार , पाचवे दिन पाँच इस तरह इक्क्सवें दिन 21 दाने तक चले जाइये ।
फिर 15 दिन के लिए इसे बंद कर दें उसके बाद फिर से 21 दाने तक यह उपाय करें , मात्र दो कोर्स करने से ही हाई बी पी / उच्च रक्तचाप में बहुत अधिक आराम मिल जायेगा ।
admin memorymuseum.net  

4.
अगर किसी का रक्तचाप लो हो जाता है तो एक नीम्बू के रस में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर उसे अदरक के साथ खाएं इससे लो ब्लडप्रेशर तुरंत नियंत्रण में आ जाता है ।
admin memorymuseum.net  

5.
ब्लड-प्रेशर के शिकार मरीज़ नित्य नहाने से पहले एक गिलास अर्थात 250 ml पानी को अवश्य पियें । यह लोग भोजन के पहले व भोजन के बाद पेशाब करने की आदत डालें । इससे धीरे-धीरे रक्त चाप बिलकुल सामान्य रहने लगेगा ।
admin memorymuseum.net  

6.
High B P के लिए 200 ग्राम बड़ी इलाइची इलाइची को तबे पर इतना भूने की इलाइची बिलकुल जल कर राख हो जाये। फिर इसे अच्छी तरह से पीस कर किसी काँच की शीशी में भर लें। अब नित्य प्रात: खाली पेट एवं रात्रि में भोजन से लगभग एक घंटा पूर्व 5 ग्राम राख को 2 चाय के चम्मच शहद में मिलाकर चाट लें।
ऐसा लगातार करने से 1 माह में ही High B P का जड़ से निदान हो जायेगा।
इस समय B P चैक करा देखे बिलकुल नार्मल होगा। अगर लगातार B P नार्मल रहे तो High B P की दवा बंद भी कर सकते है।
admin memorymuseum.net  


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।