Memory Alexa Hindi

तुलसी विवाह

Tulsi Vivah

tulsi-vivah

om तुलसी विवाह om
om Tulsi vivah om


chhath-parvi


om तुलसी विवाह का महत्व om
om Tulsi Vivah Ka Mahatvaom



हिन्दू धर्म शास्त्रो में तुलसी का बहुत महत्व Tulsi Ka Mahtva है। शास्त्रो में तुलसी जी को "विष्णु प्रिया" कहा गया है। विष्णु जी की पूजा में तुलसी का प्रयोग अनिवार्य है। भगवान विष्णु को तुलसी अर्पित किये बिना उनकी पूजा अधूरी मानी जाती है। हिन्दू धर्म में दोनों को पति-पत्नी के रूप में माना गया है। कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को भगवान श्री विष्णु जी और तुलसी जी का विवाह Tulsi ji ka vivah कराया जाता है।
बहुत से लोग अपनी अपनी मान्यताओं के अनुसार प्रबोधिनी एकादशी के दिन और बहुत से लोग द्वादशी के दिन तुलसी जी का भगवान शालिग्राम से विवाह संपन्न कराते है।
शास्त्रो के अनुसार तुलसी विवाह Tulsi Vivah में तुलसी के पौधे और भगवान श्री विष्णु जी की मूर्ति अथवा शालिग्राम पत्थर का वैदिक रीति से, पूर्ण विधि विधान से विवाह कराने से अतुलनीय पुण्य प्राप्त होता है
जानिए तुलसी विवाह, Tulsi vivah, तुलसी विवाह का महत्व, tulsi vivah ka mahatva ।

तुलसी हर घर में होती है, तुलसी की सेवा, पूजा करना महान पुण्यदायक माना जाता है। शास्त्रो के अनुसार हर जातक को जीवन में एक बार तुलसी विवाह Tulsi Vivah तो अवश्य ही करना चाहिए। इससे इस तुलसी जी Tulsi Ji का विवाह भगवान विष्णु जी के प्रतीक शालिग्राम जी से किया जाता है। तुलसा जी व शालिग्राम जी का विवाह कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी, देवोत्थान एकादशी को किया जाता है। देवोत्थान एकादशी Devutthana Ekadashi के दी भगवान श्री विष्णु क्षीर सागर से जागते है और इसी दिन से समस्त मांगलिक कार्य प्रारम्भ हो जाते है।

तुलसी विवाह से लाभ
Tulsi Vivah Se Labh



om देवोत्थान एकदशी Devutthana Ekadashi के दिन तुलसी विवाह ( Tulsi vivah ) कराने अथवा तुलसी जी की पूर्ण श्रद्धा से पूजा आने से परिवार में यदि किसी की शादी में विलम्ब होता है तो वह समाप्त होता है विवाह योग्य जातक का शीघ्र एवं उत्तम विवाह होता है ।

om तुलसी विवाह ( Tulsi vivah ) / तुलसी पूजा से जातक को वियोग नहीं होता है, बिछुड़े / नाराज सेज संबंधी भी करीब आ जाते हैं।

om जिन जातको की कन्या नहीं है उन्हें विधिपूर्वक तुलसी विवाह ( Tulsi vivah ) / तुलसी पूजा अवश्य ही करनी चाहिए इससे उन्हें कन्यादान का पूर्ण फल प्राप्त होता है ।

om देवोत्थान एकादशी Devutthana Ekadashi के दिन तुलसी विवाह / तुलसी पूजा से जातक को इस पृथ्वी में सभी सुख प्राप्त होते है , उसके जीवन में कोई भी संकट नहीं आता है, उसे भगवान श्री विष्णु एवं तुलसी माँ की पूर्ण कृपा मिलती है।




Ad space on memory museum


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।