Memory Alexa Hindi

रसोई घर का वास्तु

Dhan Prapti ke Upay

जानिए रसोईघर के वास्तु टिप्स

रसोई घर का वास्तु

                        ??? ???????

हर भवन में रसोई घर का बहुत ही प्रमुख स्थान होता है । अगर रसोई घर वास्तु सम्मत है तो वहाँ पर बना भोजन खाकर उस घर के निवासी सदैव निरोगी रहेंगे लेकिन अगर वास्तु दोष है तो उस घर में रहने वालो को तरह तरह की बिमारियों, आपसी कलह और धन के आभाव का सामना करना पड़ सकता है । यहाँ पर रसोईघर के लिए बताये गए वास्तु के सिद्धांतों को अपनाकर आप निश्चय ही उत्तम लाभ प्राप्त कर सकते है ।

 

वास्तु शास्त्र के अनुसार भवन में रसोईघर का आग्नेय दिशा ( दक्षिण-पूर्व दिशा ) में होना बहुत शुभ होता है। लेकिन किसी कारणवश ऐसा संभव न हो तो रसोई घर का निर्माण पश्चिम दिशा में किया जाना एक ओर विकल्प है। इन दिशाओं के बाद पूर्व या वायव्य दिशा ( उत्तर पश्चिम ) और अंत में दक्षिण दिशा को वरीयता दी जाती है।

 

रसोईघर का प्रवेशद्वार दक्षिण एवं आग्नेय दिशा में नहीं बनाना चाहिए, पूर्व ईशान और उत्तर की तरफ रसोई का प्रवेश द्वार होना श्रेष्ठ होता है ।

 

रसोई घर में इस बात का अवश्य ही ध्यान रहे कि खाना बनाने का चूल्हा आग्नेय कोण में ही होना चाहिए ।

 

चूल्हा ईशान कोण या उत्तर में भूलकर भी ना रखे । ईशान कोण में चूल्हा होने से संतान पर बुरा प्रभाव पड़ता है , धन हानि के साथ अपयश का सामना भी करना पड़ सकता है और उत्तर दिशा में जो कि कुबेर की दिशा है चूल्हा रखने से तमाम प्रयास के बाद भी जीवन में असफलता ही हाथ लगती है, राजा भी रंक हो सकता है ।


5.रसोई घर में खाना बनाने का चूल्हा दीवार से 2 -3 इंच की दूरी बनकर रखना चाहिए दीवार से सटा कर नहीं।

रसोई घर में खाना बनाने वाले व्यक्ति का मुँख पूर्व की ओर होना चाहिए, इससे खाना पौष्टिक बनता है और खाने वालो का स्वास्थ्य ही ठीक रहता है ।

 

वास्तु के अनुसार रसोई घर की कोई भी दिवार शौचालय के साथ नहीं लगी होनी चाहिए और रसोईघर, शौचालय या बाथरूम के ऊपर या नीचे भी नहीं होना चाहिए।

 

8.रसोई घर का दरवाजा पूर्व, उत्तर या पश्चिम दिशा में खुलना शुभ माना जाता है ।

 

रसोई घर में नल उत्तर की तरफ ही होना चाहिए । इसके अलावा पीने का पानी भी ईशान या उत्तर में ही रखना चाहिए, लेकिन अग्नेय, दक्षिण और नैत्रत्य में जल सम्बन्धी कार्य बिलकुल भी नहीं करना चाहिए ।

 

रसोईघर में जूठे बर्तन साफ करने के लिए सिंक उत्तर या पूर्व की तरफ ही बनाना चाहिए ।

 

रसोईघर में वजनदार डिब्बे रखने के लिए टांड या अलमारी दक्षिण या पश्चिम दीवार में बनानी चाहिए।

 

रसोई घर में अन्न के बर्तन / डिब्बे वायव्य कोण अर्थात उत्तर पश्चिम में रखने चाहिए इससे घर में कभी भी धन का आभाव नहीं रहता है ।

 


Ad space on memory museum



अपने उपाय/ टोटके भी लिखे :-----
नाम:     

ई-मेल:   

उपाय:    


  • All Post
  •  
  • Admin Post
1.
gharu
jaspal  

2.
यदि चुलहा दक्षीण दिशा में हो तो?
वीणा सिन्हा  

3.
किचन में कभी भी नीला,काला रंग नहीं करना चाहिए, ऐसा करने से घर के सदस्यों के स्वास्थ्य पर, उनके कैरियर पर बुरा असर पड़ता है। परिवार में कलह रहती है ।
admin memorymuseum.net  

4.
रसोई घर का वासतू सासतर
deva ram jangid   

5.
My kitchen room is north est side. Sink north side.out let is north side. Gass woven is est side.two window, one in est and one south side.one door is west side.
one glass almira in south wesr coner. u tipe kitchen platform north est south portion.Induction woven is south side.
Please gives the vastu trips for solve the vastu dosh.
Basudeb Sharma  

6.
yadi chulha uttar disha me ho to usake liye upay bataye
ramakant  

7.
घर की रसोई की उत्तर की दीवार पर शीशा लगाएं। इससे उस घर में कभी भी अन्न की कमी नहीं होती है, परिवार के सदस्यों का स्वास्थ्य ठीक रहता है, परिवार में परस्पर प्रेम और सहयोग बना रहता है , परिवार के सदस्यों के भाग्य में भी वृद्धि होती है।
admin memoryuseum.net  

8.
सुख शान्ति के लिए
आरती  

9.
very useful to all - very fine thanks
NARESH K SEHGAL  

10.
Very nice
Sanjay Pandey  

11.
Agneya कोने में भूलकर भी जलस्रोत न हो यह भवन मालिक के लिए घातक हो सकता है
pandit peeyush tripathi   

12.
सबमर्सिबल पम्प कभी भी भवन के बाहर वायव्य दिशा में नहीं बनाना चाहिए ।इससे कमाया धन दूसरे व्यक्तियों के हाथों में चला जाता है ।
पंकज कुमार गर्ग  

13.
Very Nice
Rupesh Kumar Chandrakar  

1.
किचन में कभी भी नीला,काला रंग नहीं करना चाहिए, ऐसा करने से घर के सदस्यों के स्वास्थ्य पर, उनके कैरियर पर बुरा असर पड़ता है। परिवार में कलह रहती है ।
admin memorymuseum.net  

2.
घर की रसोई की उत्तर की दीवार पर शीशा लगाएं। इससे उस घर में कभी भी अन्न की कमी नहीं होती है, परिवार के सदस्यों का स्वास्थ्य ठीक रहता है, परिवार में परस्पर प्रेम और सहयोग बना रहता है , परिवार के सदस्यों के भाग्य में भी वृद्धि होती है।
admin memoryuseum.net  


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

अब आप भी ज्वाइन करे मेमोरी म्यूजियम