Ad space on memory museum


Published By : Memory Museum
Updated On : 2019-09-15 17:10:00 PM
यह साइट इस दुनिया के समस्त पित्तरों को समर्पित है। आप अपने समस्त श्रद्धेय दिवंगत प्रियजनों / पूर्वजों का यहाँ पर प्रोफाइल बना कर, उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि देकर उनके नाम को अमर कर दीजिये।

पितृ दोष के निवारण के उपाय


Pitradosh Nivaran ke upay


वर्तमान समय में समान्यतः हर मनुष्य कड़ी प्रतिस्पर्धा एवं अति व्यस्तता के कारण अपने माता पिता, बड़े बुजर्गो तथा पित्तरों की चाहे अनचाहे अनदेखा कर देता है। उसका धर्म के विरूद्ध आचरण, गुरू की पत्नी, पुत्री या अन्य स्त्री से अनैतिक सम्बन्ध, माँस मदिरा का सेवन करना, किसी को बेवजह सताना, उधार लेकर धन वापस न करना, दूसरो का धन हड़पना, झूठी गवाही देना, प्रभु, पित्तरों के नाम से दान ना देना आदि पितृ दोष Pitradosh के कारण बनते है। व्यक्ति के मरने के बाद इन कर्मों के कारण दोबारा जन्म लेने पर उसकी कुण्डली में पितृ दोष Pitradosh होता है। पितृ दोष के कारण व्यक्ति को वंशानुगत, मानसिक एवं शारीरिक घोर कष्ट प्राप्त होते है।


Tags : पितृ, Pitra, पितृ पक्ष, Pitru paksha, श्राद्ध, Shradh, श्राद्ध पक्ष, Shradh Paksha, पितरों का श्राद्ध, Pitron Ka Shardh, तर्पण, Tarpan, तर्पण विधि, Tarpan Vidhi पितरों का तर्पण, Pitron ka Tarpan, तर्पण का महत्व Tarpan Ka Mahtva, हमारे पितृ, Hamare Pitra, पितृ पूजा, पितर देवता, Pitra Devta, पितृ विसर्जन, Pitra Visarjan, पितृ विसर्जन अमावस्या, Pitra Visarjan Amavasya 2017, पित्र दोष निवारण पूजा, Pitra Dosh Nivaran Puja, पितरों को कैसे प्रसन्न करें, Pitro Ko Kaise Prasan Kare, पितरों का आशीर्वाद कैसे प्राप्त करें, Pitron Ka Ashirwad Kaise Prapt Kare

कभी-कभी व्यक्ति की जन्म कुण्डली में उत्तम ग्रह योग होते है व्यक्ति बहुत परिश्रम भी करता है उसके घर का वास्तु भी ठीक होता है, वह धर्म का पालन भी करता है परन्तु फिर भी वह जीवन में अस्थिरता, परेशानियां, घर में बीमारी, कलह, धन की न्यूनता या खूब धनार्जन के बाद भी अत्याधिक खर्चा, अचानक अपयश, विवाह में विलम्ब आदि से पीड़ित रहता है तो इसका अर्थ है कि वे वर्तमान समय कलयुग के सबसे घातक दोष पितृ दोष Pitradosh से पीड़ित है।

संसार के सभी धर्मों में पित्तरों को अति महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है, हिन्दू धर्म में तो पित्तरों को देवतुल्य माना गया है। आप चाहे किसी भी धर्म को मानने वाले हो घर में प्रत्येक नवीन एवं शुभ कार्य में सर्वप्रथम पित्तरों का स्मरण करके उनसे आशीर्वाद लेकर ही कार्य प्रारम्भ करना चाहिए तब उस कार्य में कभी भी किसी प्रकार का अवरोध उत्पन्न नही होता है।

पितृ दोष से पीड़ित व्यक्ति को प्रतिदिन शिव लिंग पर जल चढ़ाकर महामृत्यूंजय का जाप करना चाहिए । माँ काली की नियमित उपासना से भी पितृ दोष Pitradosh में लाभ मिलता है। कौएं तथा पीपल के वृक्ष को पित्तरों का प्रतीक माना गया है अतः मनुष्यों द्वारा रविवार को छोड़कर पीपल के जड़ में प्रतिदिन सादा जल एवं शनिवार को दूध, शहद मिश्रित जल देने से तथा कौओं को नित्य रोटी खिलाने से भी बहुत लाभ मिलता है।

पितृ दोष निवारण Pitradosh Nivaran के लिये यदि कोई व्यक्ति सोमवती अमावस्या Somvati Amavasya के दिन पीपल के पेड़ पर मीठा जलए मिष्ठान एवं जनेऊ अर्पित करते हुये “ऊँ नमो भगवते वासुदेवाएं नमः” मंत्र का जाप करते हुये 108 परिक्रमा करे तत्पश्चात् अपने अपराधों एवं त्रुटियों के लिये क्षमा मांगे तो पितृ दोष से उत्पन्न समस्त समस्याओं का निवारण हो जाता है।

शास्त्रो के अनुसार प्रत्येक अमावस्या Amavasya को पित्तर अपने घर पर आते है अतः इस दिन हर व्यक्ति को यथाशक्ति उनके नाम से दान करना चाहिएए इस दिन बबूल के पेड़ पर संध्या के समय भोजन रखने से भी पित्तर प्रसन्न होते है। प्रत्येक अमावस्या Amavasya को गाय को पांच फल भी खिलाने चाहिए।

आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हो घर में भोजन बनने पर सर्वप्रथम पित्तरों के नाम की खाने की थाली निकालकर गाय को खिलाने से उस घर पर पित्तरों का सदैव आशीर्वाद रहता है घर के मुखियां को भी चाहिए कि वह भी अपनी थाली से पहला ग्रास पित्तरों को नमन करते हुये कौओं के लिये अलग निकालकर उसे खिला दे। प्रत्येक मौसम का नया फल सर्वप्रथम किसी भी धार्मिक स्थान या निर्धन व्यक्ति को पित्तरो का स्मरण करके देने से भी पितृ प्रसन्न होकर आशीर्वाद प्रदान करते है।

इस संसार के प्रत्येक मनुष्य को अपने-अपने पित्तरों का उनकी बरसी तथा पितृ पक्ष में श्राद्ध एवं तर्पण करके यथासम्भव निर्धनों एवं धार्मिक स्थल में दान देने से भी पित्तर बहुत बहुत प्रसन्न होते है।

पित्तरों को मोक्ष प्रदान करने के लिये पिण्डदान Pind Daan करना चाहिए, शरीर को पिण्ड का प्रतीक माना गया है, पिण्ड का अर्थ है गोलाकार। पिण्डदान करने के लिये जौ, चावल के आटे को गूंदकर गोलाकार पिण्ड बनाया जाता है या पके हुये चावल को मसलकर भी पिण्ड बनाते है। हिन्दू धर्म में गया, कुरूक्षेत्र, पुष्कर, हरिद्वार, वाराणसी में पिण्डदान का बहुत महत्व बताया गया है वस्तुतः पिण्डदान को मोक्ष प्राप्ति का सरल मार्ग भी कहा गया है। पितृ पक्ष में श्रद्धा एवं भक्ति के साथ नियमपूर्वक अपने समस्त पित्तरों का श्राद्ध करने, तर्पण करने एवं उनके निमित दान-पुण्य करने पर से भी पित्तर प्रसन्न होकर, आशीर्वाद देकर मनुष्य के जीवन के समस्त कष्टों का निवारण करते है।