Memory Alexa Hindi


पेट में गैस
Pait Mein Gas


पेट में गैस


पेट में गैस के घरेलु उपचार
Pait Me Gas ka Gharelu Upchar



पेट में गैस ( Pait me gas ) बनने की समस्या से कई बार हमें शर्मिंदगी भी उठानी पड़ती है । समान्यता जिनको ज्यादा गैस बनती है लोग उनसे दूर ही रहते है और पीठ पीछे उनका उपहास भी उड़ाते है । पेट में गैस ( Pait me gas ) के कारण हमारा पाचन तंत्र भी बिगड़ सकता है।

गैस वैसे तो हर व्यक्ति के शरीर में बनती है । जो शरीर से बाहर डकार या गुदा मार्ग से निकलती है। लेकिन जिनकी पाचन शक्ति खराब रहती है या जो प्राय: कब्ज के शिकार रहते हैं, उनको पेट के गैस की समस्या ज्यादा ही होती है। लंबे समय तक रहने वाली पेट में गैस की समस्या ( pait me gas ki samasya ) बवासीर और अल्सर में बदल सकती है जिससे और भी कई तरह की परेशानियाँ हो सकती हैं।

पेट में दर्द, ( pait me dard ) जलन, पेट से गैस पास होना, डकारें आना, छाती में जलन, अफारा। इसके अलावा, जी मिचलाना, खाना खाने के बाद पेट ज्यादा भारी लगना और खाना हजम न होना, भूख कम लगना, पेट भारी-भारी रहना और पेट साफ न होने जैसा महसूस होना यह सब पेट में गैस बनने की निशानी है ।

पेट में गैस ( pait me gas ) बनने का सबसे प्रमुख कारण निगली हुई हवा है। सभी व्यक्ति खाते, पीते समय थोड़ी थोड़ी मात्रा में हवा निगल लेते है। लेकिन जल्दी-जल्दी खाने, पीने, धूम्रपान करने, च्यूंगम चबाने से कुछ ज्यादा ही हवा अंदर चली जाती हैं, इसमें नाइट्रोजन, ऑक्सीजन और कार्बन डाई ऑक्साइड होती हैं। कुछ हवा डकार के द्वारा बाहर चली जाती है, लेकिन कुछ हमारी आंत में चली जाती है और थोड़ी सी गैस यहां से बड़ी आंत में चली जाती है, जो गुदा मार्ग द्वारा बाहर निकलती है।

उम्र बढ़ने के साथ गैस की समस्या ज्यादा बढ़ जाती है।


पेट में गैस बनने के कारण
Pait Me Dard banne Ke karan


hand logo पेट में गैस शराब पीने , तली-भुनी, मिर्च-मसाला वाली चीजें ज्यादा खाने से,तला या बासी खाना खाने से, राजमा, छोले, लोबिया, मोठ, बींस खाने से, उड़द की दाल, फास्ट फूड, किसी-किसी को दूध या भूख से ज्यादा खाने से अथवा खाने के साथ कोल्ड ड्रिंक लेने से पेट में गैस बनती है ।

hand logo पेट में गैस बनने के सबसे आम लक्षण हैं पेट फूल जाना, पेट में दर्द होना, डकार आना और गैस पास करना है। पेट का फूलना गैस की वजह से हो सकता है या बड़ी आंत का कैंसर या हार्निया भी इसका कारण बन सकता है। ज्यादा वसायुक्त भोजन करने से पेट देर से खाली होता है। इससे भी पेट फूल जाता है और बेचैनी होती है।

hand logo जब आंत में गैस मौजूद होती है, तब कुछ लोगों को पेट दर्द होता है। जब बड़ी आंत की बायीं ओर दर्द होता है, तो इससे हृदय रोग का भ्रम होता है, लेकिन जब दर्द दायीं ओर होता है, तो यह एपेन्डिक्स हो सकता है।

hand logo इसके आलावा ज्यादा काम का बोझ, टेंशन, देर से सोना- देर से जागना, खाने-पीने का टाइम फिक्स्ड न होना आदि कारणों से भी गैस बनती है ।

hand logo इसके अतिरिक्त लीवर में सूजन, गॉल ब्लेडर में स्टोन, फैटी लीवर, मोटापे , डायबीटीज, अस्थमा या अक्सर पेनकिलर खाने से, कब्ज, खाना न पचने की वजह से भी गैस बन सकती है ।


पेट की गैस के घरेलु उपचार
Pait Ki Gas Ke Gharelu Upchar


hand logo अजवायन, जीरा, छोटी हरड़ और काला नमक बराबर मात्रा में पीस लें। इसे खाना खाने के तुरंत बाद गुनगुने पानी से, बड़ों के लिए दो से छह ग्राम लें और बच्चों के लिए इसकी मात्रा कम कर दें।

hand logo पांच ग्राम हल्दी या अजवायन और तीन ग्राम नमक मिलाकर गुनगुने पानी से लें।

hand logo खाना खाने के बाद एक गुड़ का टुकड़ा खाएं । इससे गैस नहीं बनती और आंतें भी मजबूत रहती हैं।

hand logo प्रत्येक बार भोजन के बाद एक लौंग और एक इलायची लेने से गैस वा एसिडिटी की समस्या दूर ही रहती है ।

hand logo गैस में बिना दूध की नीबू की चाय बहुत फायदा करती है, नीबू की बूंदें चाय बनाने के बाद डालनी चाहिए। इसमें चीनी की जगह हल्का-सा काला नमक डालें ।

hand logo लहसुन की दो- तीन कलियों के बारीक टुकड़े काटकर उसके ऊपर थोड़ा-सा काला नमक और नीबू की बूंदें डालकर सुबह खाली पेट उसे गर्म पानी से निगल लें। इससे गैस के साथ साथ कॉलेस्ट्रॉल भी ठीक होने में भी मदद मिलती है । गर्मियों में एक-दो कलियां ही लें।

hand logo यदि नित्य खाने के साथ थोड़ी सी अजवायन भी खाएं तो गैस नहीं बनती है और पाचन भी बढ़िया रहता है ।

hand logo खाने में सादा नमक के साथ-साथ काला नमक भी इस्तेमाल किया करें।

hand logo भोजन के बाद एक चम्मच अजवाइन के साथ चुटकी भर काला नमक मिलाकर चबाकर खाने से पेट कि गैस बहुत जल्दी निकल जाती है।

hand logo एक एक चम्मच अदरक और नींबू के रस में थोड़ा सा काला नमक मिलाकर भोजन के बाद नित्य सेवन करने से गैस की समस्त तकलीफें दूर हो जाती हैं।

hand logo अदरक के छोटे छोटे टुकड़े करके उस पर काला नमक छिड़ककर दिन में 2 - 3 बार उसका सेवन करें इससे गैस भी नहीं बनेगी और भूख भी खुलकर लगेगी ।

hand logo भोजंन के बाद अजवाइन, भुना जीरा और काला नमक डाल कर मट्ठा पियें इससे गैस में बहुत आराम मिलता है ।

hand logo मैदे अथवा महीन पिसे आटे की रोटियाँ जल्दी पच नहीं पाती है इससे भी गैस बनती है अत: सदैव चोकर युक्त या बाजार में मिलने वाले मल्टी ग्रेन आटे की ही रोटी खानी चाहिए ।

hand logo जीरा खाने से पाचन तंत्र से जुड़ी समस्याएं दूर हो जाती हैं। इसीलिए गैस की समस्या में एक चम्मच जीरा पाउडर ठंडे पानी में घोलकर पिएं, तुरंत लाभ मिलेगा ।

hand logo तीन चम्मच काला नमक, दो चम्मच जीरा, एक चम्मच अजवायन, लगभग एक इंच अदरक को एक साथ पीस लें। फिर इसे लगभग आधा लीटर पानी में उबाल लें और जब पानी लगभग 300 एमएल तक हो जाए तो इसमें 3-4 पुदीने की पत्‍तियां मिलाकर इसे ढंक कर आंच बंद कर दें। फिर इसे छान कर प्रत्येक बार भोजन के बाद गर्मागर्म पियें । इससे गैस वा एसिडिटी बिलकुल दूर हो जाएगी ।

hand logo आधे चम्मच दालचीनी को पानी मे उबाले और ठंडा होने के बाद इसमें आधा चम्मच शहद मिलाकर सुबह खाली पेट पिए , पेट से गैस की समस्या कोसो दूर रहेगी ।

Ad space on memory museum


इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी।

अपने उपाय/ टोटके भी लिखे :-----
नाम:     

ई-मेल:   

उपाय:    


  • All Post
  •  
  • Admin Reply
No Tips !!!!




Access denied for user ''@'localhost' (using password: NO)