Memory Alexa Hindi

शुभ मुहूर्त Shubh Muhurat

शुभ योग Shubh Yog


योग कई प्रकार से बनते हैं जैसे ग्रहों के मिलने से, तिथि ( Tithi ) व नक्षत्र ( Nakshtra ) के मिलने से या फिर तिथि ( Tithi ) और वार ( Var ) के मिलने से । योग अगर कार्य की दृष्टि से अनुकूल होता है तो शुभ कहलाता है और अगर कार्य की दृष्टि से प्रतिकूल होता है तो अशुभ कहा जाता है। यहां हम आपसे सिद्धयोग ( Sidhyog ) के बारे में बताने जा रहे हैं।

नक्षत्र अनुसार शुभ मुहूर्त Nakshtra Anusar Shubh Muhurat

नक्षत्र अनुसार शुभ योग Nakshtar Anusar Shubh Yog


hand logo अगर शुक्रवार के दिन नन्दा तिथि ( Nanda tithi ) अर्थात प्रतिपदा ( Pratipada ), षष्ठी ( Shashthi ) या एकादशी ( Ekadashi ) पड़े तो बहुत ही शुभ होता है ऐसा होने पर सिद्धयोग ( Sidhi Yog ) का निर्माण होता है जिसमें हर कार्य में सफलता मिलती है । ।

hand logo भद्रा तिथि ( Bhadra Tithi ) यानी द्वितीया, सप्तमी, द्वादशी अगर बुधवार के दिन हो तो सिद्धयोग ( Sidhi Yog ) बनता है जो कि हर द्र्ष्टि से लाभदायक मन जाता है । ।

hand logo जया तिथि ( Jya Tithi ) यानी तृतीया, अष्टमी या त्रयोदशी अगर मंगलवार के दिन पड़े तो यह बहुत ही मंगलमय होता है इससे भी सिद्धयोग का निर्माण होता है।

hand logo ज्योतिषशास्त्र के अन्तर्गत चतुर्थ, नवम और चतुर्दशी को रिक्ता तिथि ( Rikta Tithi ) के नाम से जाना जाता है, लेकिन अगर शनिवार के दिन कोई भी रिक्ता तिथि पड़े तो यह भी कल्याणकारी सिद्धयोग ( Sidhi Yog ) का निर्माण करती है।

hand logo पंचमी, दशमी, पूर्णिमा, अमावस को ज्योतिषशास्त्र के अन्तर्गत पूर्णा तिथि के नाम से जाना जाता है। इनमें से कोई भी पूर्णा तिथि बृहस्पतिवार के दिन पड़ने से भी उत्तम सिद्ध योग ( Sidhi Yog ) बनता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि द्वितीया शुक्रवार को , तृतीया बुधवार को , षष्टी गुरुवार को , सप्तमी रविवार को , अष्टमी मंगलवार को , एकादशी , सोमवार को और द्वादशी रविवार को हो , तो उस दिन किसी शुभ कार्य के आरंभ से बचना चाहिए। क्योंकि इन सभी दिनों में सफलता की संभावना कम ही होती है।

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सिद्धयोग ( Sidhi Yog ) बहुत ही शुभ होता है । इस योग के रहते कोई भी शुभ कार्य सम्पन्न किया जा सकता है, यह योग सभी प्रकार के मंगलकारी कार्य के लिए शुभफलदायी कहा गया है।
इस प्रकार इन उपयोगी मुहूर्त कि जानकारी का उपयोग दैनिक जीवन में करके हम लाभ प्राप्त कर सकते है, वर्तमान में इस मुहूर्त शास्त्र के नियमों का पालन करके पूरी दुनिया में लाखों लोग लाभान्वित हो रहे हैं।

Ad space on memory museum