Memory Alexa Hindi
loading...

मुख्य द्वार का वास्तु

Rashi Anusaar Rog Nivaran Ke Upay

जानिए भवन के मुख्य द्वार के वास्तु टिप्स...

मुख्य द्वार का वास्तु
Mukhya Dwar ka Vastu


 mukhya dwar vastu

मुख्य द्वार के शुभ वास्तु से लाभ
Mukhya dwar ke shubh vastu se labh





वास्तुशास्त्र के अनुसार किसी भी भवन या ऑफिस के मुख्य द्वार का बहुत महत्व होता है। घर की खुशहाली के लिए परम आवश्यक है कि सबसे पहले उसके मुख्‍य द्वार की दिशा और दशा को बिलकुल ठीक किया जाए।
जैसे मानव शरीर में जो महत्‍ता हमारे मुख की है, वही महत्‍ता किसी भी भवन में मुख्‍य द्वार की होती है। इसलिए मुख्य द्वार को हमेशा अन्य द्वारों की अपेक्षा बड़ा व सुसज्जित रखा जाता है।
भारतीय परम्परानुसार मुख्‍य द्वार को कलश, खूबसूरत बंदनवार, अशोक, केले के पत्तों अथवा ॐ, स्वास्तिक के चिन्हो से सुसज्जित करने की प्रथा चली आ रही है। हम यहाँ पर आपको मुख्य द्वार के कुछ महत्वपूर्ण वास्तु के उपायों के बारे में बता रहे है जिनको अपनाकर आप निश्चय ही अपने जीवन में सुख समृद्धि ला सकते है
जानिए मुख्य द्वार का वास्तु, Mukhya Dwar ka Vastu,मुख्य द्वार के शुभ वास्तु से लाभ, Mukhya dwar ke shubh vastu se labh ।

House मुख्य द्वार Mukhya dwar भवन की जिस दिशा में हो उस दिशा को नौ समान भागों में बाँटकर पाँच भाग दाहिने ओर से और दो भाग बायीं ओर से छोड़कर बीच के शेष भाग में ही मुख्य द्वार बनाना शुभ रहता है ।

House भवन के मुख्य द्वार bhawan ke Mukhya dwar का आकार भवन के अन्य द्वारों की अपेक्षा बड़ा होना चाहिए ।

House भवन के मुख्य द्वार के लिए उत्तर या पूर्व दिशा को काफी अच्छा माना जाता है। मुख्य द्वार को यथासंभव मध्य पश्चिम या दक्षिण में नहीं बनाना चाहिए।

House मुख्य द्वार Mukhya dwar चार भुजाओं की चौखट वाला बनाना चाहिए। अर्थात इसमें दहलीज भी होनी चाहिए हैं। दहलीज युक्त भवन का मुख्य द्वार अति शुभ माना जाता है । यह मान्यता है कि बिना दहलीज़ के भवन में माँ लक्ष्मी प्रवेश नहीं करती है या टिकती नहीं है और ऐसे घर के सदस्य भी संस्कारहीन हो जाते है । यह भी माना जाता है कि दहलीज वाले घर में नकारात्मक उर्जा या किसी के भी द्वारा किया गया बुरा कर्म भवन में प्रवेश नहीं कर पाता ।

House लेकिन ध्यान रहे की ऑफिस में दहलीज नहीं बनानी चाहिए। क्योंकि मान्यता है की इससे कार्यो में अवरोध उत्पन्न होता है।

House आपके घर के प्रवेश द्वार पर सदैव अच्छी रौशनी की व्यवस्था होनी चाहिए। जिससे कि लोग आपके घर के प्रवेश द्वार को अच्छे तरह से देख सकते हैं । प्रवेश द्वार पर कोई चमकदार रोशनी लगाये तो अति उत्तम है ।

House अगर आपके घर के शुरुआत में पर्याप्त जगह हो तो अपने घर में दो दरवाजे लगाएं एक दरवाजा अंदर आने के लिए और दूसरा दरवाजा बाहर जाने के लिए प्रयोग करें ।

House अगर आप दो दरवाजे बनवाते है तो एक बात का अवश्य ध्यान दें कि मुख्य प्रवेश द्वार से बाहर जाने वाला दरवाज़ा थोड़ा छोटा अवश्य ही होना चाहिए।



Published By : Memory Museum
Updated On : 2019-11-24 06:00:55 PM

Ad space on memory museum


अपने उपाय/ टोटके भी लिखे :-----
नाम:     

ई-मेल:   

उपाय:    


  • All Post
  •  
  • Admin Post
1.
please guide me for vastu
uttam sharma  

2.
yadi 64*57 ka plot paschim mukh ka hai to gate kaise lagayen
SHANKAR BABU  

3.
Ghar ke vastu
Shumbhu mallick  

4.
man gate se andar jate samay chdav kis disha me hona chahiye and water tank bhi kis disha me hona chahiye
priyanka  

5.
Hum Apne nivas me septic tank aur jeena banana chaha rahe hai please sahi direction guide kare hamare pass space enough hai. Regards
Prabha Kalakoti  

6.
Bastu tips
Rajesh Thapa   

7.
Mere Ghar Ke Samne Ek foot aage Ishan kon Purab Disha Mein letting bathroom septic tank hai kya ghar ki Char Diwari se bahar ka bhi dost Hota Hai
Rambaran Verma   

8.
Mere Ghar ka main darbaja pichhe sabhi darbaje se chhota h. Krapya upay batay
Rajesh sharma  

9.
मेहनत करते पर पैसा घर मे टिकता नही
बाबुलाल धतरवाल बायतु भोपजी  

10.
मैन गेट सड़क से मकान के अंदर घुसने पर सिढ़िया किस हाथ को होनी चाहिए
राम प्रकाश तिवारी   

11.
Darwaja banwane ke tim parpars ken niche Kuch paise dal sakte hai kya
gopal s kunchikorve  

12.
Home ka mukay dhvar
Rajuram   

13.
Sir, Darwaje par Suryadev ka lagane ka aata hai to kya labh hai. Sir

Kripya Batane ka Kast kare.

Your
Obi- Bhojraj sahu
BHOJRAJ SAHU  

14.
Main door west
BHOORESH jain  

15.
Hamare plot ke do raste h east. And west to mukhya dwar kidhar banaya jaye. Or. Latrine bathroom rasoi kidhar banai jaye
Nishikant sharma  

16.
Hamare plot ke do raste h east. And west to mukhya dwar kidhar banaya jaye. Or. Latrine bathroom rasoi kidhar banai jaye
Nishikant sharma  

17.
hamare ghar ka mukhya dvar uttar dish me hai pr farsh mukhya dwar k bahar yani uttar dish uchhi hai aur mukhya dvar k andar yani dakhsin disha me nichhe hai, kripya bina tod fod kiya agar koi upay hai to batane ki kripa kre.
Dhanyawad
ANAND TIWARI  

18.
ईशान कोण में लेट्रिन का उपाय बताएं क्या किया जाय।
Dinanath Dinkar  

19.
Sampurn Vastu dosh yantra koi dukan me kha lagae Jha dukan ka mukh pachchim me hoi. Please
bhimaram  

20.
office kay baray may janna chahati hu
rama sharma  

21.
Mera ghar ka south estt corner per ledder aur uska bad kitchen banana vastu ka anusar thik hoga
s n tiwari  

22.
Hello sir,
Main ek residential plot lena chahta hun. Uske main gate ke samne sadak ke dusri or electric pole hai.
Kripya btaye kya theek rahega. Agar vastu dosh bnta hai to kripya kuch upay btaye
Sudhir  

23.
Alvasn is goood
aashik ali  

24.
Agar 3 darwaza ek sath ho to kay karana padega.
Diptiranjan maharana  

25.
12*100 ye mera plot ka size hai me isme badh kaam suru karne wala hu plz muje bataye ke pure ghar ka vastu ke hisab se ghar kese banavu
SUJAL PANCHAL  

26.
मेरे घर का मैप - उ0✘पूर्व ( 16फिट ✘26 फिट ) है , मैं uper ground बनाना चाहता हूँ । मैपानुसर मैं गराज , सेप्टि टैंक , बोरिंग , सीढ़ी , पूजा घर ,Bed Room , रसोई , Dying Room , एक अन्य कमरा बनाना चाहता हूँ जबकि मेरे घर का मुख्य द्वार दक्षिण दिशा में है । कृप्या उचित सलाह दें । धन्यवाद ॥
संजय कुमार   

27.
Mere ghar ka Pravesh Uttar Purva me he to Makan Lena Chahiye . Sudarshan Makan paschim dakshin me Pravesh he koonsa Lena Chahiye.
mahendra jain  

28.
Mera ghar ka main gate pashim disha me hai kripa kuch uppay bataye
vikash kumar  

29.
Vastu dosh
jagseer  

30.
Agar flat purab mukhi hai aur balkani pachim mukhi hai to kya vastuk anusar shi hai...agar galat to koi upay bataye.
Purab se sun light nhi aati hai samne dusra flat hai
Pz help
rahu kumar  

1.
भवन में जिस दिशा में मुख्य द्वार बनाना हो, उस ओर मकान की लंबाई को नौ बराबर बराबर भागों में बांटकर दाएं से पांच भाग और बाएं से दो भाग छोड़कर शेष (बाईं ओर से तीसरे और चौथे) भाग में मुख्य द्वार बनाना चाहिए। दायां और बायां भाग का अर्थ है जो आपके घर से बाहर निकलते समय हो।
admin memorymuseum.net  

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।