Memory Alexa Hindi

लकवे के अचूक उपाय
Lakve ke achuk upay


lakve




पक्षाघात के उपाय
Pakshaghat ke upay



जब हमारी मांसपेशियाँ कार्य करने में पूर्णतः असमर्थ हों जाती है उस स्थिति को पक्षाघात Pakshaghat, लकवा lakva या फालिज कहते हैं। लकवे Lakve होने पर प्रभावी क्षेत्र के भाग को उठाना, घुमाना, फिराना या चलना-फिरना लगभग असम्भव हो जाता है। लकवा अति भागदौड़, क्षमता से बहुत ज्यादा परिश्रम या बहुत अधिक व्यायाम, अति गरिष्ठ भोजन बहुत अधिक मात्रा में लेने से हो सकता है,
जानिए लकवे के अचूक उपाय, Lakve ke achuk upay,पक्षाघात के उपाय, Pakshaghat ke upay ।

हमारे शरीर के सभी अंगो को कार्य करने के लिए रक्त की आवश्यकता पड़ती है लेकिन जब अचानक मस्तिष्क के किसी हिस्से मे खून का दौरान रुक जाता है या मस्तिष्क की कोई रक्त वाहिका फट जाती है और मस्तिष्क की कोशिकाओं के आस-पास खून एकत्र हो जाता है ऐसी अवस्था में शरीर के किसी भी हिस्से में लकवा हो सकता है अथवा किसी हिस्सों में रक्तवाहिका में खून का थक्का बनने के कारण खून की पूर्ति बंद हो जाय तो उस अंग में लकवा हो जाता है ।
यदि तुरंत इलाज मिल जाय और रक्तवाहिका में रुधिर का प्रवाह पुन: शुरू हो जाय अर्थात खून का थक्का ठीक हो जाय तो रोगी की स्थिति में शीघ्र सुधार हो सकता है, वह जल्दी ही बिलकुल ठीक भी हो सकता है, लेकिन यदि रुधिर का प्रवाह शुरू ना हो सके तो स्थायी पक्षाघात हो जाता है। इससे उबरंने में बहुत वक्त लगता है या स्थिति ला इलाज भी बन जाती है ।

om लकवे Lakva की स्थिति ज्यादातर प्रौढ़ अवस्था में ही आती है , लेकिन इसकी स्थिति बहुत पहले से बनने लगती है।

om जवानी की बहुत सी गलतियाँ जैसे बहुत ज्यादा भोग-विलास करना, मादक द्रव्यों का सेवन करना, मासपेशियों की किसी चोट में लापरवाही करना या बहुत आलस करना आदि कई कारणों से शरीर का स्नायविक प्रक्रिया कमजोर पड़ती जाती है इसीलिए उम्र बढ़ने के साथ साथ इस रोग की आशंका भी अधिक हो जाती है।

om हम आपको यहाँ पर कई महत्वपूर्ण जानकारियाँ और उपाय बता रहे है जिसको अपनाकर लकवे में निश्चित रूप से बहुत ही ज्यादा आराम मिल सकता है ।

om लकवे Lakva के रोगी को किसी भी प्रकार की नशीली चीजों से कतई परहेज करना चाहिए। उन्हें भोजन में तेल, घी, मांस, मछली आदि का उपयोग भी नहीं करना चाहिए ।

om जैसे ही लकवे का अटैक पड़े तुरंत उसी समय तिल का तेल 50 से 100 ग्राम की मात्रा में थोड़ा-सा गर्म करके पी जायें व साथ में लहसुन भी चबा चबा कर खायें। अटैक आते ही लकवे से प्रभावित अंग एवं सिर पर सेंक भी करना शुरू कर दें व आठ दिन बाद मालिश करें। लकवे में ज्यादा से ज्यादा उपवास करना चाहिए । उपवास में पानी में शहद मिलाकर लेते रहे ।

om लकवे Lakva में एक बहुत ही सटीक उपचार माना जाता है । उसके अनुसार इस उपचार में पहले दिन लहसुन की पूरी कली पानी के साथ निगल जाएँ । फिर नित्य 1-1 कली बढ़ाते हुए 21वें दिन पूरी 21 कलियाँ निगलें। तत्पश्चात नित्य 1-1 कली घटाते हुए निगले । इस प्रयोग को करने से लकवे में शीघ्र ही आराम मिलता है ।

om नित्य सौंठ और उड़द को उबालकर इसका पानी पिए । इसके नियमित सेवन से लकवे में बहुत सुधार होता है। यह बहुत ही परीक्षित प्रयोग है।

om लकवे Lakva के रोगी को प्रतिदिन दूध में भिगोकर छुहारा खाने से लकवे के रोग में बहुत लाभ प्राप्त होता है। लेकिन एक बार में 4 से अधिक छुहारे नहीं खाने चाहिए।

om लकवा Lakva रोग होने पर कलौंजी के तेल को हल्का गर्म करके जहां पर लकवा को उस अंग पर मालिश करें और एक बड़ी चम्मच तेल का दिन में तीन बार लें। 30 दिन में ही बहुत आराम मिल जायेगा ।

om 60 ग्राम काली मिर्च लेकर इसे 250 ग्राम तेल मे मिलाकर कुछ देर तक पकायें। फिर इस तेल का लकवे से प्रभावित अंग पर पतला-पतला लेप करने से लकवा दूर होता है। इस तेल को उसी समय बनाकर गुनगुना लगाया जाता है। इसका एक माह तक नियमित रूप से उपयोग करने पर आशातीत सफलता मिलती है ।

om शरीर के जिस अंग पर लकवा हो , उस पर खजूर का गूदा मलने से भी लकवा रोग में बहुत आराम मिलता है ।

om लकवा के रोग में 50 ग्राम शहद का 2 महीने तक नियमित रूप से सेवन करें, इससे लकवाग्रस्त अंगों में बहुत लाभ मिलता है ।

om नित्य सुबह और शाम लहसुन की 5 कली को पीसकर उसे दो चम्मच शहद में मिलाकर चाटें, एक महीने में ही लाभ नज़र आने लगेगा ।

om इसके अतिरिक्त लहसुन की 5 कली दूध में उबालकर उसका सेवन करें । इससे ब्लडप्रेशर भी ठीक रहेगा लकवे ग्रस्त अंग में जान भी आ जाएगी ।

om काली उड़द की दाल को खाने के तेल के साथ गर्म करके उस तेल से लकवे से ग्रस्त अंग पर मालिश करने से बहुत ही फायदा होता है।

om 10 ग्राम काली उड़द की दाल, 5 ग्राम बारीक पिसी अदरक, को 50 ग्राम सरसों के तेल में पांच मिनट तक गर्म करके इसमें दो ग्राम पिसा हुआ कपूर का चूरा डाल दें। फिर इस तेल से गुनगुना या हल्का गर्म रहने पर ही जोड़ों की मालिश करने से उसमे दर्द में राहत मिलती है। इस तेल से लकवे और गठिया की समस्या में गजब का लाभ मिलता है ।

om देसी गाय के 2 बूंद शुद्द घी को सुबह शाम नाक में डालने से माइग्रेन की समस्या जड़ से समाप्त हो जाती है, दिमाग तेज होता है, बाल झड़ने बंद होते है, कोमा के रोगी की चेतना भी लौटने लगती है और लकवा के रोग में भी बहुत ज्यादा आराम मिलता है ।

om लकवे Lakve के रोगियों को करेला ज्यादा से ज्यादा खाना चाहिए। लकवे की समस्या में करेला जबरदस्त फायदा पहुंचाता है। लकवे के मरीज को कच्चा करेला भी खाना चाहिए।

प्रतिदिन सूर्योदय से पूर्व उठकर, ताँबे के बर्तन में रात का रखा हुआ एक लीटर / 4 बड़े गिलास पानी किसी गर्म आसन अथवा विद्युत की कुचालक वस्तु पर बैठकर उसे पी ले। पानी भरकर ताँबे के बर्तन को हमेशा विद्युत की कुचालक वस्तु प्लास्टिक, लकड़ी या कम्बल) आदि के ऊपर ही रखें और उस पानी में चाँदी का एक सिक्का भी डाल दें । ध्यान रहे कि खड़े होकर पानी बिलकुल भी नहीं पीना है नहीं तो इससे आगे चलकर घुटनो और पिण्डलियों में दर्द की शिकायत होती है। इस पानी पीने के 45 मिनट तक कुछ भी खायें-पीयें नहीं। इससे कब्ज, मधुमेह, ब्लडप्रेशर, लकवा ,लीवर के रोग, स्त्रियों का अनियमित मासिक स्राव, बवासीर , कील-मुहाँसे एवं फोड़े-फुंसी, एनीमिया, मोटापा, टी.बी., कैंसर ,पेशाब की बीमारियाँ , सिरदर्द, जोड़ों का दर्द, आँखों की बीमारियाँ,मानसिक दुर्बलता, पेट के रोगो में बहुत ही लाभ मिलता है । हर मनुष्य को इस आसान से उपाय को अवश्य ही करना चाहिए ।

यदि उसमें चौथाई चम्मच काली मिर्च का पाउडर, थोड़ी सोंठ और थोड़ी सी अजवायन मिला दी जाय तो यह बहुत ही उत्तम साबित होता है । पेट के रोग और गठिया तो दूर दूर ही रहते है । लेकिन गुर्दों की तकलीफ वाले इसे न. पियें ऐसे व्यक्ति अपने चिकित्सक की सलाह लेकर ही पानी पियें ।

लकवे के ज्योतिषीय उपाय
Lakve ke jyotish upay



om लकवा का रोग होने पर एक काले कपड़े में पीपल की सूखी जड़ को बांधकर उसे लकवा से पीडि़त व्यक्ति के सिर के नीचे रखें तो कुछ ही दिनों में इससे लाभ मिलना शुरू हो जाता है ।

om लकवा होने पर रोगी को लोहे की अंगूठी में नीलम और तांबे की अंगूठी में लहसुनिया जड़वाकर उसे क्रमश: मध्यमा और कनिष्ठा अंगुली में पहना दें। इससे भी लकवा में बहुत लाभ मिलता है ।

om प्रत्येक शनिवार के दिन एक नुकीली कील से लकवा के रोगी के प्रभावित अंग को आठ बार उसारकर मन ही मन में शनिदेव का स्मरण करते हुए उसे पीपल के वृक्ष की मिट्टी में गाड़ दें। साथ ही यह निवेदन करें कि हे शनि देव जिस दिन लकवा का रोग दूर हो जाएगा, हम उस दिन किलों को निकाल लेंगे। ऐसा लगातार 21 शनिवार तक करें और जब लकवा का रोग ठीक हो जाए तब शनिदेव व पीपल को आभार प्रकट करते हुए वह सभी कीलें निकालकर उन्हें नदी में प्रवाहित कर दें।

Ad space on memory museum


इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।

यहाँ पर आप अपनी समस्याऐं, अपने सुझाव , उपाय भी अवश्य लिखें |
नाम:     

ई-मेल:   

उपाय:    


  • All Post
  •  
  • Admin Reply
1.
Lakwa mara turant homeopath Ka ilaj chal raha h sir isse juda koi sujhaw dijie
Rajesh  

2.
Lakwa mara turant homeopath Ka ilaj chal raha h sir isse juda koi sujhaw dijie
Rajesh  

3.
Aaj subah mujhe uthne me kafi paresani ho rahi thi Mai apne pairo khada nahi ho paraha tha Kya Karan ho sakta hai
Ravi Bhushan Thakur   

4.
Hello,sir meri ma ko lakwa mar diya hai , na khana ,chalna ,bolna ,sab band ho gya hai , KYa kare samjh me nhi aarha hai !
arjun singh  

5.
Lakwa muh se aawaj n aana
shri vaisnav  

6.
Lakwa muh se aawaj n aana
shri vaisnav  

7.
Lakwa muh se aawaj n aana
shri vaisnav  

8.
sir mere Papa ko aaj se 1mahina pahele lakwa Mar diya .baya side adha ang kam Nahi kar raha tha ilaj karne ke baad sab thik ho gaya par Sir hath thik Nahi ho raha hai kirpa kar Sir kuch upay bataye
Deepak kumar   

9.
Upay
deepak  

10.
बाए पेर काम नही कर हे है पैर की ऊगली हीलाने पर हिलता है इस का किया इलाज है
मिसटर  

11.
बाए पेर काम नही कर हे है पैर की ऊगली हीलाने पर हिलता है इस का किया इलाज है
मिसटर  

12.
बाए पेर काम नही कर हे है पैर की ऊगली हीलाने पर हिलता है इस का किया इलाज है
मिसटर  

13.
Paralysis and stomach pain
Gurupreet diwakar  

14.
Paralysis and stomach pain
Gurupreet diwakar  

15.
Lake ki matriz hu m or maipuei tarah se thk ho chuki hu pr mujhe kbhi2 aisa mehsoos hota h ki mujhe fr se lkwe ka attack aa ra h or hath pair thanks ho jata hai or jis left pair me Leja aaya tha us pair m Sujan hmesa rehta h kya kuch upaye aap bta saktey h
sunaina gupta  

16.
Sar mere left hath m dard rehata h or left peer m me kya karu please bto sar
sunny  

17.
mere bhaya ko peralisis ki thudi problam hi par un ko sb se zyda eyes me problem hi jese nazar rukte nahi hi nazar chakrati rehte hi us se un ki chaal sahi nahi ho pati , mujhe aap se ye puchna hi un ke leye kaya upaye hoga or un ki weekness me hum unko kaya daiet de , thanks
PRIYA  

18.
Mere baye pair me Bhari bhari sa Lagta Hai aur kap kapasi sa Lagta Hai kya ye laqwa Hai
Sunil netam  

19.
hello sir g...muje bachpan m muh pr hwaa lgi thi or aakh pr b...jis karan s phle shi s treatment naa hone pr..meri dono aakho m fark nazar aata h.....plzzz koii upaye btaye...meri age 23 h
sandhya  

20.
Sir Namste
Sir mera Problem hai Ki Aaye Din Mere Pet Gus Ki Probelm Rahti Hai Deva Leta Hu To Thik Ho Jata Lekin Phir Ek Do Mahine Same Problem Rahta hai
RAM ASISH KASHYAP  

21.
Sir Namste
Sir mera Problem hai Ki Aaye Din Mere Pet Gus Ki Probelm Rahti Hai Deva Leta Hu To Thik Ho Jata Lekin Phir Ek Do Mahine Same Problem Rahta hai
RAM ASISH KASHYAP  

22.
,pat,cansar,ke,uphar,hindi,kale,pat,lasan,ras,khna,ha,42,den,me,teec,hojatha,he,
sajid,rs  

23.
My father 93 year old last 2 months he is suffering from paralasis
Minal vaidya  

24.
My father 93 year old last 2 months he is suffering from paralasis
Minal vaidya  

25.
mera muh thoda tircha ho gaya hai upay bataye
rupendra kushwaha  

26.
लगवा
आनि   

27.
Lakve ke liye kuch acha tarika bataye
Akash kushwah  

28.
सौंठ और उड़द को पानी में मिलाकर उसे हल्की आंच में गरम करें । इसे लकवे के मरीज को नित्य पिलाने से लकवा 3 -4 माह में ही ठीक हो जाता है।
admin memorymuseum.net  

29.
sir,
jay shree krishna ji.
ek aadami ko cencer jang me ganth ho gai he ushane ilaj me jadi ki or ahamdabad ja kar shek kar vaya ushase jyada ho gaya
ab vo hatash he jang ka itana bada hona ki usase uthati bhi nahi he. me madad karna chahata hu. bilakul free kunki vo peshe se khali he. chote-2 ladakiya he3 dhekha kaleja hil gaya. upachar ayuravedic karana chahata hu. vo bhi free. upachar abataye.
manak sharma  

30.
sir,
jay shree krishna ji.
ek aadami ko cencer jang me ganth ho gai he ushane ilaj me jadi ki or ahamdabad ja kar shek kar vaya ushase jyada ho gaya
ab vo hatash he jang ka itana bada hona ki usase uthati bhi nahi he. me madad karna chahata hu. bilakul free kunki vo peshe se khali he. chote-2 ladakiya he3 dhekha kaleja hil gaya. upachar ayuravedic karana chahata hu. vo bhi free. upachar abataye.
manak sharma  


1.
सौंठ और उड़द को पानी में मिलाकर उसे हल्की आंच में गरम करें । इसे लकवे के मरीज को नित्य पिलाने से लकवा 3 -4 माह में ही ठीक हो जाता है।
admin memorymuseum.net  

2.
लकवा से पीडित रोगी को लगातार तीन माह तक दूध में खजूर को मिलाकर देने से लकवा ठीक होने लगता है।
admin memorymuseum.net  

3.
लकवा से पीडित रोगी को लगातार तीन माह तक दूध में खजूर को मिलाकर देने से लकवा ठीक होने लगता है।
admin memorymuseum.net  



दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।