Memory Alexa Hindi

हनुमान जी कि पत्नी


hanuman-ji-ki-patni


om हनुमान जी कि पत्नी om
om Hanuman ji ki patni om

                         purnima




om हनुमान जी कि पत्नी सुवर्चला om
om Hanuman ji ki patni suvarchala om


संकट मोचन हनुमान जी के ब्रह्मचारी रूप से तो सभी परिचित हैं। उन्हें बाल ब्रह्मचारी भी कहा जाता है। रामभक्त हनुमान के बहुत सारे मंदिर हैं। हर मंदिर में हनुमान जी अकेले ही विराजमान हैं क्योंकि उन्हें अविवाहित और ब्रह्मचारी माना गया हैं। लेकिन क्या आपको मालूम है की हनुमान जी का विवाह भी हुआ था? और उनका उनकी पत्नी के साथ एक मंदिर भी है? जी हाँ दक्षिण भारत में एक ऐसा मंदिर है, जहां हनुमान जी को उनकी पत्नी के साथ पूजा जाता है।

Kalash One Image दक्षिण भारत में तेलंगाना राज्य में हैदराबाद से लगभग 220 कि.मी. की दूरी पर खम्मम जिले में एक प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर में हनुमान जी अपनी पत्नी सुवर्चला के साथ पूजे जाते हैं। मान्यता है कि जो भी भक्त हनुमान जी अौर उनकी पत्नी सुवर्चला के दर्शन करता है, उनके वैवाहिक जीवन की सारी परेशानियां निश्चय ही दूर हो जाती है अौर पति-पत्नी के मध्य सदैव प्रेम बना रहता है, दाम्पत्य जीवन लम्बा और सुखमय होता है ।

Kalash One Image इस मंद‍िर की मान्यता का आधार भारत के प्राचीन ग्रंथ पाराशर संहिता को माना जाता है। पाराशर संहिता के अनुसार भगवान सूर्यदेव के पास 9 विद्याएं थीं। जिनका सम्पूर्ण ज्ञान हनुमान जी पाना चाहते थे। भगवान सूर्यदेव ने हनुमान जी की प्रतिभा को देखते हुए उन्हें 5 विद्याअों का ज्ञान दे दिया लेकिन वह 4 और भी गूढ़ विद्याओं का ज्ञान हनुमान जी को नहीं दे पा रहे थे क्योंकि उन 4 बची हुई विद्याअों का ज्ञान केवल वह केवल उन्हीं शिष्टों को दे सकते थे जो वैवाहिक हों । लेकिन हनुमान जी तो ब्रह्मचारी थे।

Kalash One Image लेकिन हनुमान जी अपनी धुन के पक्के थे और सभी विद्याअों को सीखने का निश्चय कर चुके थे। उनकी इसी लगन को देखकर सूर्य भगवान ने हनुमान जी के सामने विवाह करने की बात कही। हनुमान जी ठहरे बाल ब्रह्मचारी और वह अपना ब्रह्मचर्य खोना भी नहीं चाहते थे इसलिए उन्होंने सूर्यदेव से विवाह के लिए मना कर दिया। लेकिन फिर सूर्यदेव के समझाने पर हनुमान जी ने चार शेष विद्याअों को पाने के लिए विवाह के लिए हां कर दी।

Kalash One Image दरअसल सूर्यदेव ने हनुमान जी को अपनी पुत्री सुवर्चला से विवाह का प्रस्ताव दिया । उन्होंने बताया कि उनकी पुत्री सुवर्चला एक महान तपस्वनी है और इसका तेज आप ही सहन कर सकते हो। सुवर्चला से विवाह के बाद आप इस योग्य हो जाओगे कि शेष 4 दिव्य विद्याओं का ज्ञान प्राप्त कर सको।

Kalash One Image सूर्यदेव ने हनुमान जी को बताया कि सुवर्चला के साथ विवाह के बाद भी आप ब्रह्मचारी रहोगे क्योंकि विवाह के बाद सुवर्चला फिर से अपनी तपस्या में लीन हो जाएगी। यह बताने के बाद हनुमान जी ने सूर्यदेव की पुत्री सुर्वचला से विवाह कर लिया अौर शेष चारों विद्याअों का ज्ञान प्राप्त कर लिया। हनुमान जी से विवाह के तुरंत बाद सुवर्चला फिर से अपनी तपस्या में लीन हो गई और इस प्रकार हनुमान जी विवाह के बाद भी ब्रह्मचारी बने रहे।

bipin-panday-ji

ज्योतिषाचार्य अखिलेश्वर पाण्डेय
भृगु संहिता, कुण्डली विशेषज्ञ
वैदिक, तंत्र पूजा एवं अनुष्ठान के ज्ञाता



Published By : Memory Museum
Updated On : 2018-03-30 03:50:55 PM


Ad space on memory museum


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यह साइट या इस साईट से जुड़ा कोई भी व्यक्ति, आचार्य, ज्योतिषी किसी भी उपाय के लिए धन की मांग नहीं करते है , यदि आप किसी भी विज्ञापन, मैसेज आदि के कारण अपने किसी कार्य के लिए किसी को भी कोई भुगतान करते है तो इसमें इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी । यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

हनुमान जी कि पत्नी

hanuman-ji-ki-patni