Memory Alexa Hindi

गोपाचल जैन मंदिर
Gopachal Jain Mandir


images

गोपाचल पर्वत के जैन मंदिर
Gopachal Parvit ke Jain Mandir






भारत के मध्यप्रदेश के ग्वालियर जिले में ग्वालियर किले के अंचल में गोपाचल पर्वत में प्राचीन सुन्दर एवं कलात्मक जैन मूर्ति समूह का विशाल भंडार स्थित है। यहाँ पर हजारों विशाल जैन मूर्तियाँ सन् 1398 से सन् 1536 के मध्य पर्वत को तराशकर बनायी गयी है। इन अदभुत एवं विशाल मूर्तियों का निर्माण तोमरवंशी राजा वीरमदेव डूँगर सिंह व कीर्ति सिंह के काल में हुआ। महाकवि पण्डित रइधू ने इनकी विधि विधान से प्रतिष्ठा करायी थी।

गोपाचल पर्वत में स्थित मंदिरों में जैन धर्म के तीर्थकारों की मूर्तियां स्थापित है, इसमें छोटी 6 इंच से लेकर 57 फिट तक की मूर्तियां बड़ी संख्या में स्थापित है। यहाँ की प्रतिमाएं अपने वास्तु एवं शिल्प के कारण विश्व में अपना अलग ही स्थान रखती है। यहाँ पर सम्भवतः विश्व की सबसे विशाल 42 फिट ऊँची पद्यासन पारसनाथ की मूर्ति अति दर्शनीय तथा जैन समाज के लिये परम श्रद्धा एवं आस्था का केन्द्र है।

ग्वालियर के किले में अनेकों दुर्लभ एवं प्राचीन जैन मूर्तियां है अतः गोपाचल पर्वत को जैन गढ़ भी कहा जाता है तथा यह पर्वत संसार को प्रेम एवं अहिंसा का संदेश देता है।

यहाँ पर मुगल सम्राट अकबर ने चन्द्रप्रभु जी की मूर्ति को हटवाकर बाबर की सेना की मदद करने वाले गौस मोहम्मद के शव को दफना दिया था जिसे आज मोहम्मद गौस के मकबरे के नाम से जाना जाता है।


Ad space on memory museum



दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।