Memory Alexa Hindi

गणेशजी का परिवार


Ganesh ji Ka Pariwar


गणेश जी

Kalash One Image शास्त्रो में भगवान शिव Bhagwaan Shiv और माता पार्वती की पुत्री अशोक सुंदरी को गणेशजी Ganesh ji की बहन है। अशोक सुंदरी का विवाह राजा नहुष से हुआ था।

Kalash One Image मुद्गलपुराण में स्वयं शिवजी ने गणेश जी Ganesh ji की स्तुति करते हुये उनके परिवार का वर्णन किया है–
सिद्धिबुद्धिपतिं वन्दे ब्रह्मणस्पतिसंज्ञितम्।
मांगल्येशं सर्वपूज्यं विघ्नानांनायकं परम्।।

अर्थात श्री गणेश जी Ganesh ji सिद्धि और बुद्धि के पति हैं। जो जातक उनकी उपासना करता है उन्हें वे अपने कार्य में सिद्धि (पूर्णता) प्रदान करते हैं साथ ही बुद्धि (विवेक, ज्ञान शक्ति) देते हैं।

Kalash One Image शिवपुराण के अनुसार सिद्धि और बुद्धि प्रजापति विश्वरूप की पुत्रियां हैं। कुछ स्थानों पर रिद्धि और सिद्धि का नाम मिलता है, लेकिन अधिकांश ग्रंथों नें सिद्धि और बुद्धि को ही गणपति की पत्नी माना गया है।
सिद्धि कार्यों में, मनोरथों में सफलता देती है। बुद्धि ज्ञान के मार्ग को प्रशस्त करती हैं। भगवान गणपति के वाम भाग में सिद्धि देवी और दक्षिण भाग अर्थात दाएं भाग में बुद्धि की संस्थिति बतायी गयी है।

Kalash One Image भगवान गणेश के दो पुत्र हैं क्षेम और लाभ। गणेशजी को अपनी पत्नी सिद्धि से क्षेम अर्थात शुभ और पत्नी बुद्धि से लाभ नाम के पुत्र हुए है।
किसी भी व्यापार, कारोबार में सदैव शुभ लाभ की ही आशा की जाती है और इन्ही की कृपा से जातक को सुख - समृद्धि Shukh Samridhi और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।
क्षेम हमारे अर्जित पुण्य, धन, ज्ञान और ख्याति को सुरक्षित रखते हैं। सीधा अर्थ है हमारे पुरुषार्थ से कमाई गई हर वस्तु को सुरक्षित रखते हैं, उसे क्षय नहीं होने देते और धीरे-धीरे उसे बढ़ाते हैं।
लाभ का काम निरंतर उसमें वृद्धि देने का है। लाभ हमें धन, यश आदि में निरंतर बढ़ोत्तरी देता है।

Kalash One Image शास्त्रो में कई स्थानों में तुष्टि एवं पुष्टि को गणेश जी की बहुएं कहा गया है तथा आनंद एवं प्रमोद गणेश जी Ganesh Ji के पौत्र है । जैसा नाम वैसे ही गुण, तुष्टि जातक को पूर्ण आत्म सन्तुष्टि एवं पुष्टि आरोग्य प्रदान करती है ।
इसी प्रकार अमोद एवं प्रमोद जातक के जीवन में सर्वत्र सुख समृद्धि एवं हर्ष-उल्लास का वातावरण बनाते है ।

Kalash One Image इस प्रकार गणपति जी के पूरे परिवार का नित्य / चतुर्थी एवं बुधवार को नाम लेने से जीवन में सभी मनोरथ पूर्ण होते है । विशेषकर गणेश उत्सव के समय जब भगवान गणपति स्वयं इस धरती पर आते है उनके परिवार का नित्य स्मरण करना उनकी आराधना करना अत्यंत पुण्यदायक है, इसका अक्षय फल मिलता है।




Ad space on memory museum


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।