Memory Alexa Hindi

kalash गणेश उत्सव 2018, गणेश परिवार kalash
kalash Ganesh utsav 2018, Ganesh Pariwar kalash


गणेश जी

kalash गणेश चतुर्थी 2018, गणेश जी का परिवार kalash
kalash ganesh chaturthi 2018, Ganesh Ji Ka Pariwarkalash



Kalash One Image श्री गणेश Shri Ganesh भगवान शिव Bhagwaan Shiv व पार्वती के पुत्र हैं, ये बात तो सभी लोग जानते हैं, लेकिन श्रीगणेश जी के परिवार Shri Ganesh ji ke pariwar के बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं।
कहते है कि नित्य या हर बुधवार और गणेश चतुर्थी / Ganesh Chaturthi, गणेश उत्सव Ganesh Utsav को गणपति जी के परिवार ganesh ji ke pariwar का नाम लेने से जीवन में शुभ फल मिलते है समस्त मनोकामनाएँ अवश्य ही पूर्ण होती है।
भगवान गजानन के परिवार के सभी सदस्यों का नाम गणपति उत्सव में लेना अत्यन्त फलदायी है।

Kalash One Image शास्त्रो के अनुसार गणपति एकमात्र ऐसे देवता हैं, जिनके परिवार का हर सदस्य अत्यंत पूजनीय और सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाला है। श्रीगणेश के परिवार के सभी सदस्यों का अपना विशेष महत्व है। जानिए भगवान श्री गणेश के परिवार के बारे में Shree Ganesh ke pariwar, श्री गणेश के परिवार के सदस्य, shree ganesh ke sadasy ।

अवश्य पढ़ें :- इन उपायों से परीक्षा में मिलेगी श्रेष्ठ सफलता,

Kalash One Image गणपति जी के पिता भगवान शिव जी हैं। शिव को सृष्टि का प्राण माना जाता है। अगर शिव नहीं हों तो सृष्टि शव समान हो जाती है। इस कारण शिव को कालों का काल यानी महाकाल कहा गया है। शिव प्राण देते हैं, जीवन देते हैं और संहार भी करते हैं। शिव का पूजन समस्त सुख देने वाला माना गया है।

Kalash One Image गणेश जी की माता पार्वती जी हैं। धर्मग्रंथों के अनुसार, ये पर्वतराज हिमालय व मैना की पुत्री हैं। पार्वती को ही शक्ति माना गया है। शरीर में शक्ति ना हो तो शरीर बेकार है। शक्ति तेज का पुंज है। मानव को हर काम में सफलता की शक्ति पार्वती यानी दुर्गा देती हैं। भगवान शिव ने अर्धनारीश्वर स्वरूप में स्वयं शक्ति के महत्व को प्रतिपादित किया है।

यह भी देखें :- प्रेम में सफलता के उपाय, मनचाहा प्यार पाने के उपाय,

Kalash One Image भगवान गणेश जी के भाई कार्तिकेय है । कार्तिकेय के पास देवताओं के सेनापति का पद है। वे साहस के अवतार हैं। कम आयु में ही अपने अदम्य साहस के बल पर उन्होंने तारकासुर का नाश किया था। इसलिए आत्मविश्वास और आत्मबल की प्राप्ति कार्तिकेय से होती है।
शिवपुराण के अनुसार, कार्तिकेय ब्रह्मचारी हैं, वहीं ब्रह्मवैवर्त पुराण में इनकी पत्नी का नाम देवसेना बताया गया है।



Ad space on memory museum


Published By : Memory Museum
Updated On : 2018-09-10 16:30:00 PM

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।