Memory Alexa Hindi

Kalash One Image धन वैभव का उपाय Kalash One Image
Kalash One Image Dhan Vaibhav Ka upay Kalash One Image


                         dhan-vaibhav-ka-upay

Kalash Fourth Image शिवपुराण का उपाय Kalash Fourth Image
Kalash Fourth Image Shiv Puran ka upay Kalash Fourth Image



Kalash Fourth Image शास्त्रों के अनुसार प्राचीन काल में देवताओं के कोषाध्यक्ष कुबेर देव Kuber Dev अपने पिछले जन्म में गुणनिधि नामक निर्धन व्यक्ति थे। वे एक रात भगवान शिव के मंदिर में चोरी करने पहुंच गए। रात की वजह से वहां काफी अंधेरा था। अंधेरे में उन्हें कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था। तब उन्होंने चोरी करने के लिए एक दीपक जलाया।
दीपक के प्रकाश में वह मंदिर का सामान की चोरी कर ही रहे थे कि हवा से दीपक बुझ गया। उन्होंने पुन: दीपक जलाया लेकिन वह फिर हवा से बुझ गया, यह प्रक्रिया कई बार हुई। रात के समय बार-बार दीपक जलाने से भगवान शंकर उनसे अति प्रसन्न हो गए।

Tags : धन वैभव का उपाय, Dhan Vaibhav Pane Ke upay, शिवपुराण के उपाय, Shiv Puran Ke upay, यश, वैभव और धन पाने के उपाय

Kalash Fourth Image कुबेर देव Kuber Dev ने चोरी करते समय बार-बार दीपक जलाकर अनजाने में ही जो शिव जी की पूजा की थी, इसके फलस्वरूप भगवान भोलेनाथ ने उन्हें अगले जन्म में देवताओं का कोषाध्यक्ष बना दिया।

Kalash Fourth Image शास्त्रों के अनुसार जो भी व्यक्ति रात के समय शिव मंदिर में शिवलिंग के निकट प्रकाश करता है, उसे प्रभु शंकर की विशेष कृपा प्राप्त हो जाती है। दीपक को जलाते समय भगवान भोलेनाथ के प्रिय मन्त्र "ऊँ नम: शिवाय" का लगातार जप करते रहना चाहिए।


Kalash Fourth Image इसलिए सभी मनुष्यों को जीवन में सभी तरह के संकटों के निवारण शिवलिंग shivling के निकट रात्रि में शुद्द घी का दीपक जलाना चाहिए। अथवा सावन माह / सोमवार को तो शिवमन्दिर में पूरी रात्रि दीपक से प्रकाश अवश्य ही करना चाहिए ।

Kalash Fourth Image इस उपाय को सावन के प्रत्येक दिन अथवा सावन के सोमवार की रात्रि में करने से मनुष्य पर भगवान शिव की विशेष कृपा रहती है । उसे समस्त सांसारिक सुखो की प्राप्ति होती है घोर से घोर आर्थिक संकट भी दूर होते है आने वाली पीढ़ियाँ भी धन वैभव Dhan Vaibhav को प्राप्त करती है।



Published By : Memory Museum
Updated On : 2018-08-07 04:15:55 PM

<< पिछले पेज पर जाएँ                                           अगले पेज पर जाएँ >>



pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

Ad space on memory museum



दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

यहाँ पर आप अपनी समस्याऐं, अपने सुझाव , उपाय भी अवश्य लिखें |
नाम:     

ई-मेल:   

उपाय:    


  • All Post
  •  
  • Admin Reply
1.
विनोद तिवारी
जन्म समय ८.००pm
जन्म दि० ७.१२.१९६४
जन्म स्थान उन्नाव यूपी
प्रश्न - मेरा जन्म संधि लग्न मे है परिणाम किस लग्न के माने
पं०विनोद तिवारी  

2.
Nokriमैंरूकावट समाज मैमान हानी
sanjay 14/01/1984  

3.
Sab kam ulta hotahe nokrime rukavt
sanjay 14/01/1984  

4.
I want to know about my marriage and financial problem
prautl sood  

5.
Mere data of birth 27/2/1987 hai me muje job kab take mile GI ya me business karu kripya Bataye
abhishek  

6.
Dob 28/8/1980 Ambala @ 03:03am mera karobar / naukri kasi rahegi abhi to bahut credit hai sir pe
Ajay  

7.
D. O. B 28/8/1980
@ 3:03am Ambala
Mujhe Apna makaan banana hai. Abhi flat mein rehta hun. Khud jameen le kar bada makan banana hai.
Ajay  

8.
मेरा parlour हैं पहले बहुत अच्छा चलता था लेकिन अब नहीं चल रहा है मुझे १ बेटी है मेरे पति अलग रहते हैं parlour rent से है
Ranjana sambhaji shinde   



No Tips !!!!