Memory Alexa Hindi

Kalash One Image दशहरा Kalash One Image
Kalash One Image Dashara Kalash One Image


dashara-ke-upay


Kalash One Image दशहरा के उपाय Kalash One Image
Kalash One Image Dashara ke upay Kalash One Image


दशहरा का पर्व आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को नवरात्री के एक दिन बाद मनाया जाता है! दशहरा या विजयदशमी असत्य पर सत्य की विजय का पर्व है! दशहरे के दिन ही भगवान श्री राम ने रावण का वध किया था इसी के साथ इस दिन ही माँ दुर्गा ने असुरों का संहार करके देवता को उनका अधिकार दिलवाया था ! मान्यता है कि दशहरा के दिन किये गए उपाय अवश्य ही फलीभूत होते है , जानिए दशहरा के दिन क्या करें, dashara ke din kya karen,दशहरा के अचूक उपाय, dashara ke achuk upay

hand-logo दशहरा dashara के दिन हनुमान जी को प्रात: गुड़ चने और शाम को लड्डुओं का भोग लगाकर उनसे अपने जीवन के सभी संकटो को दूर करने की प्रार्थना करें इससे जीवन में भय समाप्त होता है और प्रगति का मार्ग प्रशस्त होता है ।

hand-logo राम नवमी ram navmi के दिन किसी पूजा की दुकान से 11 काली गूंजा ले आएं फिर विजयदशमी vijayadashami के दिन सुबह स्नान के पश्चात इन्हे गंगाजल और गाय के कच्चे दूध से धोकर पूजा घर में रखें । पूजा ख़त्म करने के बाद इनको अपने पास रख लें पूजा घर में ही या अपनी तिजोरी में रखे ।

hand-logo मान्यता है की काली गूंजा के पास होने से जीवन में कोई भी परेशानी नहीं आती है और यदि कोई संकट आया तो इसका रंग बदल जाता है उस समय इसको हटा कर बहते हुए पानी में विसर्जित कर देना चाहिए और फिर किसी शुभ मुहूर्त में पुन: स्थापित कर लेना चाहिए ।

hand-logo दशहरा dashara के दिन शाम को संध्या के समय ( अर्थात जब सूर्यास्त होने का और आकाश में तारे उदय होने का समय हो ) वो समय सर्व सिद्धिदायी विजय काल कहलाता है । जीवन में शत्रुओं पर, राजद्वार से, मुकदमो में विजय के लिए विजयादशमी Vijay Dashmi के दिन संध्या के समय इसी सर्व सिद्धिदायी विजयकाल में विजय के लिए " माँ अपराजिता " के नीचे दिए गए मंत्र का जाप अवश्य ही करे

" ॐ अपराजितायै नमः ॥ ”

मंत्र की कम से कम 5 माला का जप करें ।

hand-logo मान्यता है की भगवान श्री राम ने माता अपराजिता का पूजन करके ही राक्षस रावण से युद्ध करने के लिए प्रस्थान किया था।

hand-logo यात्रा के ऊपर माता अपराजिता का ही अधिकार होता है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन माँ अपराजिता की आराधना करने से पूरे वर्ष यात्रा में श्रेष्ठ सफलता प्राप्त होती है |

उसके पश्चात हनुमान जी का सिद्ध मन्त्र
"ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट्" ॥


की भी कम से कम दो माला का जप करें । इस दिन राम भक्त हनुमान जी के उपरोक्त मंत्र का जाप करने से निडरता, दृढ़ता और शक्ति प्राप्त होती है। मनोबल ऊँचा रहता है, शत्रु शांत हो जाते है, उसको हर जगह विजय की प्राप्ति होती है, समाज में सर्वत्र मान सम्मान मिलता है ।

hand-logo दशहरा dashara के दिन छोटी छोटी पर्चियों पर 'राम' नाम लिख कर उसे अलग अलग आटे की लोई में रखकर मछलियों को खिलाएं, इससे भगवान राजा राम की कृपा से जातक को जीवन में सभी सुख और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है ।

hand-logo राम नवमी Ram Navmi और दशहरा dashara दोनों ही दिन जीवन में शुभता, सफलता और सभी क्षेत्रो में विजय के लिए अपने घर और किसी मंदिर में लाल पताका अवश्य ही लगानी चाहिए ।

hand-logo विजयदशमी vijaydashmi के दिन से शुरू करते हुए लगातार 43 दिन तक बेसन के लड्डू कुत्ते को खिलाने चाहिए इससे धन लाभ के योग बनते है और धन में बरकत होने लगती है अर्थात घर कारोबार में धन रुकना भी शुरू हो जाता है ।

hand-logo दशहरे Dussehra से शरदपूर्णिमा तक चन्द्रमा की किरणों में अमृत होता है जो शरद पूर्णिमा shrad purnima के दिन अपने चरम पर होता है। अत: दशहरे Dussehre से शरदपूर्णिमा तक प्रतिदिन रात्रि में 15 से 20 मिनट तक चंद्रमा के आगे त्राटक (बिना पलकें झपकाये एकटक देखना) करें । इससे नेत्रों के विकार दूर होते है नेत्रों की ज्योति तेज होती है ।

hand-logo नागकेसर एक बहुत ही पवित्र और प्रभावशाली वनस्पति है।यह कालीमिर्च के सामान गोल होती है, गेरू रंग का यह गोल फूल घुण्डीनुमा होता है और इसके दाने में डण्डी भी लगी होती है । यह फूल गुच्छो में फूलता है, पकने पर गेरू रंग का हो जाता है। नागकेसर भगवान शिव को बहुत ही प्रिय है और तन्त्र शास्त्र में भी इसका बहुत ही ज्यादा महत्व है ।

hand-logo रामनवमी Ramnavmi या दशहरा dashara के दिन नागकेसर का पौधा लाएं और अपने घर में उसे दशहरा dashara के दिन लगा कर नियमपूर्वक उसकी देखभाल करें । मान्यता है कि जैसे जैसे यह पौधा बढ़ता जायेगा आपकी भी उन्नति होती जाएगी ।

hand-logo दशहरा dashara के दिन किसी भी धार्मिक स्थान में अपनी मनोकामना कहते हुए गुप्तदान अवश्य ही करें इससे कार्यों में अड़चने दूर होती है, समाज में मान सम्मान की प्राप्ति होती है ।

hand-logo दशहरा dashara के दिन सवा किलो जलेबी और पाँच अलग अलग मिठाई भैरव नाथ जी के मंदिर पर चढ़ाकर धूप, दीप जलाएं और उनसे अपने जीवन के संकटो को दूर करते हुए सभी क्षेत्रों में सफलता का आशीर्वाद माँगे फिर उसके बाद उसमें थोड़ी सी जलेबी लेकर कुत्ते को खिला दें । इससे सभी तरह की अड़चने , बुरी नज़र का प्रभाव दूर होता है और कार्यों में आशातीत सफलता मिलनी शुरू हो जाती है ।


hand-logo शास्त्रों के अनुसार इस दिन नीलकंठ पक्षी का दर्शन करना अत्यंत शुभ माना जाता है।





Published By : Memory Museum
Updated On : 2018-10-19 03:00:00 PM

Ad space on memory museum


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

अपने उपाय/ टोटके भी लिखे :-----
नाम:     

ई-मेल:   

उपाय:    


  • All Post
  •  
  • Admin Post
No Tips !!!!
No Tips !!!!
दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यह साइट या इस साईट से जुड़ा कोई भी व्यक्ति, आचार्य, ज्योतिषी किसी भी उपाय के लिए धन की मांग नहीं करते है , यदि आप किसी भी विज्ञापन, मैसेज आदि के कारण अपने किसी कार्य के लिए किसी को भी कोई भुगतान करते है तो इसमें इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी । यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।।