Memory Alexa Hindi

चतुर्थी को चंद्र दोष के उपाय
Chaturthi Ko Chandra Dosh Ke upay



चतुर्थी को चंद्र दर्शन के उपाय


क्यों न करें भाद्रपद शुक्ल चतुर्दशी को चंद्र दर्शन





हमारे धर्म ग्रंथों के अनुसार भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की गणेश चतुर्थी Ganesh Chaturthi को चंद्रमा को भूल कर भी नहीं देखना चाहिए क्योंकि गणेश चतुर्थी की Ganesh Chaturthi रात्रि को चंद्र दर्शन करने से मिथ्या / झूठे आरोप लगते हैं। गणेश चतुर्थी Ganesh Chaturthi की रात्रि को चंद्र दर्शन Chandra Darshan करने के बारे में हमारे धर्म ग्रंथों में दो कथाएं बताई गई है।

Kalash One Image पहली कथा में यह बताया गया है की चंद्र दर्शन Chandra Darshan क्यों नहीं करना चाहिए
Kalash One Image दूसरी कथा को सुनने से भूलवश भी हुए चंद्र-दर्शन का पाप नहीं लगता है, अर्थात यह दोष दूर हो जाता है ।

Kalash One Image पहली कथा :- भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को चंद्र दर्शन Chandra Darshan क्यों नहीं करना चाहिए।

भगवान गणेश Bhgwaan Ganesh को बुद्धि का देवता कहा जाता है, जब उनको गज ( हाथी ) का मुख लगाया गया तो वे गजवदन के नाम से तीनो लोको में प्रसिद्द हुए ।
Kalash One Image एक बार गणेश जी और कार्तिकेय के बीच एक शर्त लगी थी । इस शर्त में गणेश जी अपने माता-पिता की परिक्रमा करने के बाद विजयी हुए उनके इस शर्त को जीतने के फलस्वरूप प्रसन्न होकर भगवान शिव तथा माता पार्वती ने उन्हें वरदान दिया कि उन्हें सभी देवों सर्वप्रथम पूजा जायेगा।

Kalash One Image जब देवतायों को इस बारे में पता चला तो वह सभी तुरंत गणेश जी की स्तुति के लिए वहां पहुँच गए। उन सभी देवों के साथ चन्द्र देव भी वहां पर पधारे। परन्तु वह गणेश जी की स्तुति के लिए आगे नही आये बल्कि दूर खड़े होकर गणेश जी को देखकर मुस्कुराते रहे। चन्द्र देव को अपने रूप एवं सौन्दर्य का बहुत अभिमान था तथा गणेश जी का गजमुख देखकर उपहास उड़ाने के लिए वह मुस्कुराने लगे।
तब भगवान गणेशजी समझ गए कि चंद्रमा अभिमान वश उनका उपहास करता है।इसलिए क्रोध में आकर भगवान गजानन ने चंद्रमा को श्राप दे दिया कि- आज से तुम काले हो जाओगे।

Kalash One Image इस श्राप के बाद चंद्रमा को अपनी भूल का अहसास हुआ। उन्होंने बार बार भगवान श्रीगणेश Bhgwaan Shri Ganesh से क्षमा मांगी तब गणेशजी पसीज गए और उन्होंने कहा कि सूर्य के प्रकाश को पाकर तुम एक दिन पूर्ण होगे अर्थात पूरी तरह से प्रकाशित होंगे, लेकिन तुम्हारे मिथ्या अभिमान के कारण आज का दिन तुम्हें दंड देने के लिए सदैव याद किया जाएगा। गणेश जी ने कहा कि आज के दिन को याद कर कोई भी व्यक्ति अब अपने सौंदर्य पर अभिमान नहीं करेगा।
और जो कोई व्यक्ति आज भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी के दिन चन्द्र दर्शन करेगा, तो वह कलंकित होगा, उस पर झूठा आरोप लगेगा। भगवान श्री गणेश जी इसी श्राप के कारण भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को चंद्र दर्शन नहीं किया जाता ।




Ad space on memory museum


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।