Memory Alexa Hindi

Backword ImageBackword Image बुधवार का पंचाग शुक्रवार का पंचागForward ImageForward Image

आप सभी को सावन माह की हार्दिक शुभकामनाएं।

Kalash One Image गुरुवार का पंचाग Kalash One Image
Kalash One Image Guruvar Ka PanchangKalash One Image

आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang

vishnu-ji


vishnu-ji

Kalash One Image पंचाग, पंचाग 2018 Kalash One Image
Kalash One Imagepanchang, panchang 2018, epanchang Kalash One Image


Panchang, पंचाग, ( Panchang 2018, हिन्दू पंचाग, Hindu Panchang ) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं :- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचाग (panchang) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग (panchang) का श्रवण करते थे ।
जानिए गुरुवार का पंचांग (Guruvar Ka Panchang)।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना, पढ़ना चाहिए ।

Kalash One Image आज का पंचाग (Aaj Ka Panchang) Kalash One Image
Kalash One Image गुरुवार का पंचांग (Guruvar Ka Panchang) Kalash One Image

16 अगस्त 2018

विष्णु रूपं पूजन मंत्र :

शांता कारम भुजङ्ग शयनम पद्म नाभं सुरेशम।
विश्वाधारं गगनसद्र्श्यं मेघवर्णम शुभांगम।
लक्ष्मी कान्तं कमल नयनम योगिभिर्ध्यान नग्म्य्म ।
वन्दे विष्णुम भवभयहरं सर्व लोकैकनाथम।।


।। आज का दिन मंगलमय हो ।।



Kalash One Image दिन (वार) - गुरुवार के दिन तेल का मर्दन करने से धनहानि होती है । (मुहूर्तगणपति)

गुरुवार के दिन धोबी को वस्त्र धुलने या प्रेस करने नहीं देना चाहिए । गुरुवार को ना तो सर धोना चाहिए, ना शरीर में साबुन लगा कर नहाना चाहिए और ना ही कपडे धोने चाहिए ऐसा करने से घर से लक्ष्मी रुष्ट होकर चली जाती है ।

गुरुवार का दिन भगवान श्री हरि, भगवान विष्णु का माना जाता है । गुरुवार को शंख से भगवान विष्णु को स्नान करा के उन्हें पीले चन्दन का तिलक करके वस्त्र, यज्ञोपवीत, केसर और घी मिश्रित खीर का भोग लगाकर पूजा करने से आरोग्य और दीर्घ आयु की प्राप्ति होती है ।

*विक्रम संवत् 2075 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1940
*अयन - उत्तरायण
*ऋतु - ग्रीष्म ऋतु
*मास - श्रावण (सावन) माह
*पक्ष - शुक्ल पक्ष

Kalash One Image तिथि (Tithi)- षष्ठी - रात्रि 01:02 तक तदुपरांत सप्तमी ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - षष्ठी तिथि के स्वामी भगवान कार्तिकेय जी है तथा सप्तमी तिथि के स्वामी भगवान सूर्यदेव जी है ।

आज सावन माह की शुक्ल पक्ष की षष्टी है। षष्टी तिथि के स्वामी भगवान शिव के पुत्र भगवान कार्तिकेय है । षष्ठी को इनकी पूजा करने से व्यक्ति वीर, शक्ति सम्पन्न एवं यशवान बनता है। जिनकी कुंडली में मंगल की दशा चल रही हो या कोई जातक मुक़दमे में फंसा हो तो उसे भगवान कार्तिकेय की पूजा करने से विशेष लाभ मिलता है ।

मुक़दमे / राज द्वार में विजय प्राप्त करने के लिए षष्टी की शाम को किसी भी शिव मंदिर में जाकर भगवान कार्तिकेय को 6 दीपक अर्पित करने चाहिए । षष्टी के दिन भगवान कार्तिकेय पर नीला रेशमी धागा चढ़ाकर उसे अपनी बाँह में बाँधने से शत्रु परास्त होते है समाज में विजय मिलती है ।



Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra)- चित्रा - 15:49 तक तदुपरांत स्वाती ।

Kalash One Image नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी- चित्रा नक्षत्र के देवता विश्वकर्मा जी है एवं स्वाती नक्षत्र के देवता समीर देव है ।

Kalash One Image योग(Yog) - शुभ - 16:50 तक तदुपरांत शुक्ल ।

Kalash One Image प्रथम करण : - कौलव - 13:20 तक ।

Kalash One Image द्वितीय करण : - तैतिल - रात्रि 01:02 तक ।

Kalash One Image गुलिक काल : - बृहस्पतिवार को शुभ गुलिक दिन 9:00 से 10:30 तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- बृहस्पतिवार को दक्षिण दिशा एवं अग्निकोण का दिकशूल होता है । यात्रा, कार्यों में सफलता के लिए घर से सरसो के दाने या जीरा खाकर जाएँ ।


Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal)-दिन - 1:30 से 3:00 तक।


Kalash One Imageसूर्योदय - प्रातः 05:50


Kalash One Imageसूर्यास्त - सायं 06:45


Kalash One Image विशेष - षष्ठी तिथि को नीम का सेवन नहीं करना चाहिए ।

Kalash One Image पर्व त्यौहार-

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt) - षष्ठी तिथि यात्रा, पितृ कर्म, मंगल कार्य, संग्राम, शिल्प, वास्तु, भूषण के लिए शुभ है।

"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी ), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण,आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।


pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।
Ad space on memory museum


Published By : Memory Museum
Updated On : 2018-08-06 18:17:00 PM

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

thursay-ka-panchag vishnu-ji

जानिए क्या है आज का पंचाग