Free Astro, Vastu & Health-Tips

शनि देव को अनुकूल करने का उपाय
शनि देव को अनुकूल करने का उपाय
शनि देव को न्याय का देवता कहा गया है, जब शनि देव मनुष्यों को उनके कर्मों के अनुसार ही फल प्रदान करते है। शनि देव को प्रसन्न करने का एक अचूक उपाय है, जिसको करने से निश्चय ही शनि ग्रह के अशुभ प्रभावों में कमी आती है। यह उपाय शनिवार को बिलकुल चुपचाप करना चाहिए. जानिए शनि देव को अनुकूल करने का अचूक उपाय
http://www.memorymuseum.net/hindi/shani-ki-sadesati.php
शनिवार का पंचाग
शनिवार का पंचाग
"ऊँ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः"।। आज मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि दिन शनिवार है। आचार्य मुक्ति नारायण जी के अनुसार शनिवार को पीपल पर प्रात: दूध मिश्रित मीठा जल चढ़ाकर सात परिक्रमा करने एवं साँय काल पीपल पर चौमुखा दीपक जलाने से शनि देव प्रसन्न होते है।शनिवार को काले चने, उड़द की खिचड़ी या काले नमक का सेवन अवश्य ही करें। अष्टमी तिथि को भगवान शिव की पूजा करने, शिवलिंग का अभिषेक करने से समस्त सिद्धियां प्राप्त होती है, अष्टमी को नारियल का सेवन करने से बुध्दि का नाश होता है, जीवन में शुभ फलो के लिए नित्य पंचाग को पढ़कर / सुनकर ही घर से अपने कार्यो के लिए निकले। जानिए आज शनिवार का पंचाग
http://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Saturday
गुरु ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपायें
गुरु ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपायें
कुंडली में जब बृहस्पति ग्रह ( गुरु ग्रह ) शुभ हो, तो ऐश्वर्य, सुख, संपन्नता मिलती है। गुरू ग्रह की कृपा से व्यक्ति को मान सम्मान, ज्ञान, और पारिवारिक सुख की प्राप्ति होती है। लेकिन गुरु के अशुभ होने पर विवाह में विलम्ब, दाम्पत्य जीवन में निराशा, धोखा मिलना, दुश्मनो का बढ़ना, गुर्दे, आंतों की समस्याएं, मधुमेह, आदि की शिकायत होती है।अवश्य ही जानिए गुरु ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपायें, बृहस्पति देव की कृपा के लिए अवश्य ही देखे/पढे, गुरु ग्रह का 27 का यंत्र्
http://www.memorymuseum.net/hindi/guru-grah-ke-upay.php
गुरुवार का पंचांग
गुरुवार का पंचांग
"ॐ नमो नारायण, ॐ नमो नारायण"।। आज मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की षष्टी तिथि दिन गुरुवार है। गुरुवार को श्री विष्णु की पीले पुष्पों से पूजा करने से सांसारिक सुखो की प्राप्ति होती है , गुरुवार को विष्णु सस्त्रनाम का पाठ करने से विष्णु जी के साथ माँ लक्ष्मी की भी कृपा मिलती है। गुरुवार को सर, कपडे धोने, नाख़ून, बाल और दाढ़ी काटने से माँ लक्ष्मी रुष्ट हो जाती है। षष्ठी तिथि को भगवान कार्तिकेय की पूजा करने से व्यक्ति वीर, शक्ति सम्पन्न एवं यशवान बनता है, मुक़दमे राजद्वार से सफलता मिलती है। जीवन में निरंतर सफलता, कुंडली के ग्रहो को अनुकूल करने के लिए नित्य पंचाग अवश्य ही पढ़े, जानिए आज गुरुवार का पंचांग
http://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Thursday
बुद्ध ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय
बुद्ध ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय
बुध ग्रह को धन, वैभव, सुख - समृद्धि, वाणी, बुद्धि, त्‍वचा, ज्ञान, वाकपटुता और मस्तिषक का कारक कहा गया है। लेकिन ख़राब बुध बहुत से संकट खड़े कर देता है,व्यापार, दलाली, नौकरी आदि कार्यों में नुकसान उठाना, रोजगार का संकट, धन अटकना, पागलखाना या जेलखाना की यात्रा भी करा देता है। आपका बुध अच्छा हो तो आपको कार्यक्षेत्र में श्रेष्ठ सफलता मिलती है। अवश्य ही जानिए बुद्ध ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय, आज अवश्य देखें बुध ग्रह का शुभ यंत्र
http://www.memorymuseum.net/hindi/budh-grah-ke-upay.php
बुधवार का पंचांग
बुधवार का पंचांग
आज मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि दिन बुधवार है। बुधवार के दिन गणेश जी की रोली का तिलक लगाकर, दूर्वा चढ़ाकर लड्डू / गुड़ अर्पित करके पूजा करने से समस्त विघ्न दूर होते है कार्यो में सफलता मिलती है। पंचमी तिथि के दिन नाग देवता के नामो का उच्चारण करने से भय तथा कालसर्प दोष दूर होता है, जातक को निर्भयता प्राप्त होती है । सुखी जीवन के लिए, ग्रहो के शुभ फलो के लिए नित्य पंचांग को पढ़ने/सुनने को अपनी अनिवार्य आदत बनायें, जानिए आज बुधवार का पंचांग
http://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Wednesday
शरीर पर तिल
शरीर पर तिल
सामुद्रिक शास्त्र में शरीर पर तिल का बहुत महत्व है।तिल से हमारे शारीरिक, आर्थिक एवं चरित्र के बारे में भी काफी कुछ मालूम पड़ता है । अवश्य जानिए आपके शरीर पर तिल आपके बारे में क्या क्या बताते है,
https://www.memorymuseum.net/hindi/til-vichar.php
मंगल ग्रह के उपाय
मंगल ग्रह के उपाय
कुंडली में मंगल हो कमजोर तो आएगा क्रोध, ऋण, मुकदमा, शत्रु करेंगे परेशान, विवाह में विलम्ब, दाम्पत्य जीवन में अस्थिरता, भूमि, भवन और वाहन के सुख में रहेगी कमी,......... लेकिन मजबूत मंगल होने पर दोस्तों का साथ, अच्छा जीवन साथी, बड़ा भवन, जमीन जायदाद, उच्च पद, मंत्री पद के योग होते है प्रबल। मंगल को मजबूत करने के लिए जल में इस चीज़ को डालकर करें स्नान और अवश्य ही देखे, पढ़े दिव्य मंगल यंत्र, जानिए मंगल ग्रह के उपाय
https://www.memorymuseum.net/hindi/mangal-grah-ke-upay.php
मंगलवार का पंचांग
मंगलवार का पंचांग
"सुनु सिय सत्य असीस हमारी। पूजिहि मन कामना तुम्हारी"॥ आज मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि दिन मंगलवार है। आचार्य मुक्ति नारायण जी के अनुसार जीवन के समस्त संकटो के निवारण के लिए मंगलवार को हनुमान जी को गुड़ चना, लाल गुलाब चढ़ाकर हनुमान चालीसा का पाठ, हनुमान जी के मंदिर में जाकर राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें। मंगलवार को ऋण देने से धन के डूब जाने की आशंका रहती है। माह की दोनों चतुर्थी तिथि को गणेश जी को घी, गुड़ का भोग लगाकर गाय को खिलाने से आर्थिक पक्ष मजबूत होता है, नित्य पंचांग पढ़ने वाले जातको का भाग्य प्रबल होता है, कुंडली के ग्रह शुभ फल देने लगते है, मंगलवार का पंचांग पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें
http://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Tuesday
चंद्र देव को कैसे करें अपने अनुकूल,
चंद्र देव को कैसे करें अपने अनुकूल,
कुंडली में चंद्रमा के शुभ होने पर जातक को सौंदर्य, मानसिक शांति मिलती है, परिवार मे प्रेम, सुख-समृद्धि होती है। लेकिन अशुभ होने पर चिंताएं घेर लेती है, स्वास्थ्य ख़राब हो जाता है, सुखो में कमी, मन में घबराहट, डिप्रेशन, आत्महत्या के विचार आने लगते है। जानिए चंद्र देव को कैसे करें अपने अनुकूल, अवश्य करें चंद्र यंत्र के दर्शन, चंद्रदेव का अचूक मन्त्र
https://www.memorymuseum.net/hindi/chandr-grah-ke-upay.php
सोमवार के पंचाग
सोमवार के पंचाग
"ॐ नम: शिवाय"।। आज मार्गशीष माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि दिन सोमवार है। जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए हर सोमवार को शिवलिंग का, दूध, शहद, घी से अभिषेक करें। तृतीया के दिन माँ गौरी, कुबेर जी की आराधना करें, तृतीया को कुबेर जी की आराधना से अतुल धन-सम्पत्ति की प्राप्ति होती है, तृतीया को परवल खाने से शत्रुओं की वृद्धि होती है। नित्य पंचांग को पढ़ने से भाग्य साथ देने लगता है, सोमवार के पंचाग के लिए क्लिक करे
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Monday
सदा जवान रहने का उपाय
सदा जवान रहने का उपाय
कार्य क्षमता / रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने, लंबे समय तक फिट और जवान बने रहने, शरीर में अश्व के समान बल पाने, ह्रदय, और हड्डियों को मजबूत करने, दिमाग तेज करने के लिए मात्र 3 महीने ही करे यह आसान किन्तु रामबाण घरेलु उपाय, जानिए अपनी कार्य शक्ति, इच्छा शक्ति बढ़ाने, सदा जवान रहने का उपाय,
http://www.memorymuseum.net/hindi/javan-rahne-ka-upay.php
रविवार का पंचांग
रविवार का पंचांग
ऊँ ह्यं हृीं हृौं सः सूर्याय नमः"। आज मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि दिन रविवार है। रविवार को अदरक और मसूर की दाल का सेवन ना करें। नित्य पंचांग पढ़ने से हमें प्रत्येक दिन के देवताओं, नक्षत्रो और शुभ शक्तियों का आशीर्वाद मिलता है, कुंडली के शत्रु ग्रहो के दुष्प्रभाव भी दूर होने लगते है। जानिए आज रविवार का पंचांग,
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Sunday
आज का राशिफल
आज का राशिफल
आज करेंगे ये उपाय तो मिलेगी शनि देव की कृपा, सिद्ध होंगे सभी मनोरथ, पंडित कृष्ण कुमार शास्त्री जी से जानिए आज शनिवार का राशिफल और, यह भी अवश्य जाने कि आपका आज कितने प्रतिशत भाग्य आपका साथ दे रहा है, जानिए आज का राशिफल, शनिवार का अचूक उपाय, https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-rashifal.php https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-rashifal.php
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-rashifal.php
शनिवार का पंचांग
शनिवार का पंचांग
"ॐ शं शनिचराये नम:"।।आज मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि दिन शनिवार है। आचार्य मुक्ति नारायण पांडेय जी के अनुसार शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष की सेवा, पूजा से शनि देव की कृपा मिलती है। शनिवार के दिन कुंडली के ग्रहो के शुभ फलो के लिए मंदिर में शनि देव के दर्शन करके उनपर तेल चढ़ाएं। प्रतिपदा के स्वामी अग्नि देव है, अग्निदेव सब देवताओं के मुख हैं और यज्ञ में इन्हीं के द्वारा देवताओं को समस्त यज्ञ-वस्तु प्राप्त होती है। प्रतिपदा को कद्दू का सेवन नहीं करना चाहिए। शास्त्रानुसार नित्य पंचांग पढ़ने वाले जातको को देवताओं का आशीर्वाद मिलता है , जानिए क्या है शनिवार का पंचांग,
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Saturday
शुक्र ग्रह के उपाय
शुक्र ग्रह के उपाय
कुंडली में शुक्र जब उच्च स्थि‍ति में होता है, तो जातक सुंदर, जोश से भरा होता है। जातक घूमने-फिरने का शौकीन और सुंदर, साफ-सुथरे घर का स्वामी होता है, ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। वैवाहिक जीवन मधुर होता है। और अशुभ होने पर आर्थिक कष्ट, स्त्री सुख में कमी, मधुमेह, मूत्राशय संबंधी रोग, गर्भाशय संबंधी रोग और गुप्त रोगों की संभावना बढ जाती है, सांसारिक सुखों में कमी होती है। जानिए शुक्र ग्रह के उपाय, शुक्र को अनुकूल कैसे करें, अवश्य देखे शुक्र ग्रह का यंत्र
http://www.memorymuseum.net/hindi/shukr-grah-ke-upay.php
शुक्र्वार का राशिफल,
शुक्र्वार का राशिफल,
आज मार्गशीर्ष माह की अमावस्या दिन शुक्रवार है, जानिए कैसे रहेगा आपका आज का दिन, आज कैसे मिलेगा लाभ और क्या रखनी होगी सावधानियाँ , पंडित कृष्ण कुमार शास्त्री जी से जानिए आज आपको शुक्रवार के दिन किस तरह के फल प्राप्त होंगे , जानिए सभी राशि के आज शुक्र्वार का राशिफल,
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-rashifal.php
शुक्रवार का पंचांग
शुक्रवार का पंचांग
लक्ष्मी जी का मन्त्र :- "ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम:"॥ आज मार्गशीर्ष माह की अमावस्या, दिन शुक्रवार है। आचार्य मुक्ति नारायण जी के अनुसार शुक्रवार के दिन लक्ष्मी माँ को लाल पुष्प अर्पित करके श्री सूक्त का पाठ करने, माँ अष्ट लक्ष्मी का नाम लेने से लक्ष्मी माँ उस घर में सदैव निवास करती है। हर अमावस्या को गहरे गड्ढे या कुएं में एक चम्मच दूध डालें इससे कार्यों से बाधायें दूर होती है। अमावस्या के दिन घर के मुखिया को जल में काले तिल डाल कर पितरो का तर्पण अवश्य करना चाहिये। शास्त्रों के अनुसार नित्य पंचांग को पढ़ने से कुंडली के ग्रहो के शुभ फल, देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है, जानिए शुक्रवार का पंचांग
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Friday
अमावस्या का महत्व
अमावस्या का महत्व
07 दिसंबर शुक्रवार को मार्गशीर्ष माह की अमावस्या है। ज्योतिष एवं तंत्र शास्त्र में अमावस्या का अत्यधिक महत्व है। अमावस्या कालसर्प योग, शनि की ढैय्या तथा साढ़ेसाती सहित कुंडली की समस्त ग्रह बाधाओं से मुक्ति, समस्त संकटो से निवारण पाने का दुर्लभ समय होता है। प्रत्येक अमावस्या को नियम से करें ये उपाय, भाग्य सदैव देगा साथ। जानिए अमावस्या का महत्व, क्यों अमावस्या तिथि मानी जाती है अति विशेष, कृपया इसे आगे भी शेयर करें। धन्यवाद
https://www.memorymuseum.net/hindi/amavasya-ke-chamatkari-upay.php
गुरु ग्रह को अपने अनुकूल कैसे करें
गुरु ग्रह को अपने अनुकूल कैसे करें
बृहस्पति ग्रह ( गुरु ग्रह ) जब कुंडली में उच्च अवस्था में बैठे हो, तो व्यक्ति को जीवन में सुख समृद्धि, मान सम्मान, धन संपदा, प्रसिद्धि, शांति, प्रसन्नता, ज्ञान, आरोग्य की प्राप्ति होती है। लेकिन गुरु के अशुभ होने पर मूर्खता, मानहानि, विवाह में विलम्ब, दाम्पत्य जीवन में निराशा, धोखा मिलना, दुश्मनो का बढ़ जाना, गुर्दे और आंतों की समस्याएं, मधुमेह, आदि की शिकायत रह सकती है। अवश्य ही जानिए गुरु ग्रह को अपने अनुकूल कैसे करें, अवश्य ही देखें गुरु ग्रह का दिव्य यंत्र
http://www.memorymuseum.net/hindi/guru-grah-ke-upay.php
गुरुवार का पंचांग
गुरुवार का पंचांग
"ॐ नमो भगवते वासुदेवाये"।। आज मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि दिन गुरुवार है। आचार्य मुक्तिनारायण जी के अनुसार गुरुवार को भगवान श्री विष्णु जी दूध / पंचामृत से अभिषेक करके शंख के जल से स्नान कराकर चन्दन का तिलक लगाने, तुलसी, पीले फूल, केले अर्पित करके गुड़ का भोग लगाकर उनकी पूजा करने से माँ लक्ष्मी उस घर में स्थाई निवास करती है गुरुवार के दिन विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना परम फलदाई है। चतुर्दशी के स्वामी शिव जी है। चतुर्दशी को भगवान शिव की बेलपत्र, शमीपत्र, सफ़ेद पुष्प अर्पित करके काले तिल और अक्षत चढ़ाने से आरोग्य और दीर्घायु की प्राप्ति होती है। शास्त्रों के अनुसार नित्य पंचांग पढ़ने वालो को देवताओं का आशीर्वाद मिलता है, जानिए गुरुवार का पंचांग,
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Thursday
बुद्ध ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय
बुद्ध ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय
बुध ग्रह को धन, वैभव, सुख - समृद्धि, वाणी, बुद्धि, त्‍वचा और मस्तिषक का कारक कहा गया है। बुध ग्रह व्यक्ति को ज्ञान, वाकपटुता, की क्षमता प्रदान करता है। लेकिन ख़राब बुध बहुत से संकट खड़े कर देता है,व्यापार, दलाली, नौकरी आदि कार्यों में नुकसान उठाना, रोजगार का संकट, धन अटकना, पागलखाना, जेलखाना या दवाखाना किसी की यात्रा भी करा देता है। अवश्य ही जानिए बुद्ध ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय, बुधवार को अवश्य देखें, पढ़ें बुध ग्रह का यंत्र, बुध ग्रह का मन्त्र
http://www.memorymuseum.net/hindi/budh-grah-ke-upay.php
बुधवार का पंचांग
बुधवार का पंचांग
गणेश जी का मन्त्र :- "वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा"॥ आज मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की त्रियोदशी तिथि दिन बुधवार है। आचार्य मुक्ति नारायण पांडेय जी के अनुसार बुधवार के दिन गणेश जी की आराधना से समस्त विघ्न दूर होते है। बुधवार को गाय को हरा चारा / हरी सब्जी खिलाने से धन लाभ के योग प्रबल होते है। त्रियोदशी को प्रेम के देवता कामदेव की आराधना करने से जातक रूपवान होता है उसे योग्य और इच्छित जीवनसाथी मिलता है, दाम्पत्य जीवन सुखमय होता है। जीवन में निरंतर शुभ फलो के लिए, कुंडली के ग्रहो के अशुभ प्रभाव को दूर करने, नित्य पंचाग को पढ़ना अपनी अनिवार्य आदत बनाएं । इससे देवताओं का आशीर्वाद मिलता है । जानिए क्या है बुधवार का पंचांग
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Wednesday
जानिए चंद्र देव को कैसे करें अपने अनुकूल,
जानिए चंद्र देव को कैसे करें अपने अनुकूल,
पुराणों के अनुसार समुद्र मंथन में चंद्रमा जी सागर से प्रकट हुए थे जिन्हें शंकर जी ने अपने मस्तक पर धारण कर लिया था। कुंडली में चंद्रमा के शुभ होने पर जातक को सौंदर्य, मानसिक शांति मिलती है, परिवार मे प्रेम, सुख-समृद्धि होती है।लेकिन अशुभ होने पर चिंताएं घेर लेती है, स्वास्थ्य ख़राब हो जाता है, सुखो में कमी, मन में घबराहट, डिप्रेशन, आत्महत्या के विचार आने लगते है। जानिए चंद्र देव को कैसे करें अपने अनुकूल, सोमवार के दिन अवश्य करें चंद्र यंत्र के दर्शन, चंद्रदेव का अचूक मन्त्र
https://www.memorymuseum.net/hindi/chandr-grah-ke-upay.php
आज का राशिफल
आज का राशिफल
जानिए कैसा रहेगा आप सभी का आज का दिन, आज किस राशि वालो के सितारे है बुलंदी पर और किसे रखनी होगी सावधानी , गणेश जी से जानिए आज कौन सा आसान किन्तु विशेष उपाय करके पूरे दिन को शुभ बना सकते है, आज सभी राशियों वालो का भाग्य कितने प्रतिशत साथ देगा, जानिए आज का राशिफल, आने वाले कल का राशिफल, Aaj Ka Rashifal
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-rashifal.php
सोमवार का पंचांग,
सोमवार का पंचांग,
"नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांगरागाय महेश्वराय| नित्याय शुद्धाय दिगंबराय तस्मे"न" काराय नमः शिवायः"॥ आज मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी, 'उत्पन्ना एकादशी' दिन सोमवार है। आचार्य मुक्ति नारयण पांडेय जी के अनुसार जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए हर सोमवार को शिवलिंग पर पंचामृत या मीठा कच्चा दूध, शहद, अक्षत, काले तिल और सफ़ेद पुष्प चढ़ाएं, इससे भगवान महादेव की कृपा बनी रहती है। आज उत्पन्ना एकादशी है ।आज ही के दिन एकादशी को श्री विष्णु जी का आशीर्वाद मिला था, और वह विष्णु जी की प्रिय बनी थी। एकादशी को श्री सूक्त, विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ अत्यंत फलदायी है। नित्य पंचाग पढ़ने वाले जातको का भाग्य चमकने लगता है, जानिए आज सोमवार का पंचांग,
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Monday
शुक्र ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय
शुक्र ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय
शुक्र ग्रह जब कुंडली में उच्च अवस्था में बैठे हो, तो जातक सुंदर होता है और जोश से भरा होता है। उसे दाम्पत्य जीवन में प्रेम, समस्त सुख और जीवन में ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। लेकिन शुक्र के अशुभ होने पर आर्थिक कष्ट, स्त्री सुख में कमी, मधुमेह, मूत्राशय संबंधी रोग, गर्भाशय संबंधी रोग और गुप्त रोगों की संभावना बढ जाती है और सांसारिक सुखों में कमी आती प्रतीत होती है, विवाहिक जीवन अत्यंत कष्टमय हो जाता है। जानिए शुक्र ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय, शुक्रवार को अवश्य ही देखे, पढ़े शुक्र देव का यन्त्र
http://www.memorymuseum.net/hindi/shukr-grah-ke-upay.php
शुक्रवार का पंचांग
शुक्रवार का पंचांग
लक्ष्मी मन्त्र :- "ऊंं श्री विघ्नहराय पारदेश्वरी महालक्ष्यै नम:"।। आज मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि दिन शुक्रवार है। आचार्य मुक्ति नारायण पांडेय जी के अनुसार शुक्रवार को माँ लक्ष्मी को लाल गुलाब अर्पित करके, श्रीसूक्त का पाठ करने, माँ अष्टलक्ष्मी की आराधना करने से लक्ष्मी माता की कृपा प्राप्त होती है। धन लाभ के लिए शुक्रवार को साँयकाल लक्ष्मी मंदिर में सुगन्धित धूप अगरबत्ती अर्पित करके कुछ वहीँ पर जला दें। नवंमी तिथि को माँ दुर्गा को लाल पुष्प अर्पित करके माँ की आराधना से समस्त संकट दूर होते है। नवमी को लौकी नहीं खानी चाहिए। नित्य पंचाग पढ़ने वाले जातको का भाग्य प्रबल होता है , इसलिए नित्य पंचाग पढ़कर ही अपने दिन की शुरुआत करनी चाहिए। जानिए शुक्रवार का पंचांग
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Friday
गुरु ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय,
गुरु ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय,
बृहस्पति ग्रह ( गुरु ग्रह ) जब कुंडली में उच्च अवस्था में बैठे हो, तो ऐश्वर्य, सुख, संपन्नता मिलती है। गुरू ग्रह की कृपा से व्यक्ति को जीवन में सुख समृद्धि, मान सम्मान, धन संपदा, प्रसिद्धि, शांति, प्रसन्नता, ज्ञान, आरोग्य की प्राप्ति होती है। लेकिन गुरु के अशुभ होने पर मूर्खता, मानहानि, विवाह में विलम्ब, दाम्पत्य जीवन में निराशा, धोखा मिलना, दुश्मनो का बढ़ जाना, गुर्दे, आंतों की समस्याएं, मधुमेह, आदि की शिकायत रह सकती है। अवश्य ही जानिए गुरु ग्रह को अपने अनुकूल करने के उपाय, कैसे गुरु ग्रह के शुभ फल प्राप्त करें, बृहस्पति देव की कृपा के लिए अवश्य ही देखे/पढे, गुरु ग्रह का 27 का यंत्र्
http://www.memorymuseum.net/hindi/guru-grah-ke-upay.php
गुरुवार का पंचांग,
गुरुवार का पंचांग,
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय। आज मार्गशीष माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि 'भैरव अष्टमी' दिन गुरुवार है। गुरुवार के दिन भगवान श्री विष्णु जी की पूजा से समस्त सांसारिक सुख प्राप्त होते है। आज भैरव जयंती के दिन कालभैरव जी का दर्शन-पूजन अत्यंत मनवाँछित फलो को प्रदान करने वाला है। काल भैरव सभी शत्रुओं, विपदाओं, पापो और कष्टों का नाश करते हैं। आचार्य मुक्ति नारायण के अनुसार कालभैरव अष्टमी के दिन शिव मंदिर में जाकर शिवजी का दूध से अभिषेक करके उन्हें अक्षत, काले तिल अर्पित करें। इससे भोलेनाथ और भैरव जी दोनों की ही कृपा मिलती है, जानिए आज गुरुवार का पंचांग,
https://www.memorymuseum.net/hindi/aaj-ka-panchag.php?dayName=Thursday