Memory Alexa Hindi

थाइरोइड में सावधानियाँ
thyroid me savdhaniya


 thyroid-me-savdhaniya

खानपान में रखे सावधानियाँ
Khanpaan me rakhe savdhaniya


hand logo सोया एवं इससे बने अन्य पदार्थों को थायराइड की समस्या ( thyroid ki samasya ) के लिए सबसे बड़ा कारण माना गया है, शोधो से यह सिद्ध हो गया है कि थायरायड से सम्बंधित समस्याओं के लिए सोया से बने पदार्थ, सोया-मिल्क का ज्यादा सेवन एक बड़ा कारण हैं। अत: थाइराइड के मरीज को सोया के पदार्थों से बिलकुल दूरी बना लेनी चाहिए ।

hand logo थायराइड ( thyroid ) के मरीजों को ज्यादा तली-भुनी चीजें, चाय, कॉफी, मैदा, चीनी, सिगरेट, शराब एवं डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।

hand logo थायराइड ( thyroid ) के रोगियों को धूम्रपान से बिलकुल दूर रहना चाहिए । धूम्रपान उन लोगो के लिए जहर के समान है । सिगरेट के धुएं में पाया जानेवाला थायोसायनेट थायराइड ग्रंथि को बहुत नुकसान पहुँचाता है अत: ना केवल खुद ही धूम्रपान से बचे वरन जो लोग धूम्रपान करते है अथवा जिस जगह ज्यादा धूम्रपान किया जाता है ऐसी जगह से भी दूरी ही बनाये रखें ।

hand logo थायराइड ( thyroid ) के मरीजों को ज्यादा शारीरिक श्रम, और तनाव से दूर रहना चाहिए । इन लोगो को पर्याप्त नींद अवश्य ही लेनी चाहिए ।

hand logo थाइराइड ( thyroid ) के रोगी को फूलगोभी, ब्रोकली एवं पत्ता गोभी से भी परहेज करना चाहिए क्योंकि यह थायरायड हार्मोन्स के प्रोडक्शन पर प्रतिकूल असर डालते हैं।

hand logo थाइराइड की समस्या ( thyroid ki samasya ) झेल रहे लोगो को प्रतिदिन अदरक का ज्यादा से ज्यादा सेवन करना चाहिए। अदरक में पोटेशियम और मैग्नीश्यिम प्रचुर मात्रा में होता है जिससे थायराइड की समस्या में बहुत ज्यादा लाभ मिलता है। अदरक ना केवल थायराइड को बढ़ने से रोकता है वरन वह उसकी कार्यप्रणाली को भी सुधारता है ।

hand logo थायराइड ( thyroid ) में आयोडीन की महत्वपूर्ण भूमिका होती है । आयोडीन पर थायरायड की कार्यकुशलता निर्भर रहती है ।शोधों से यह पता चला है कि थाइराइड का मूल कारण आयोडीन की कमी भी है । इसीलिए केवल आयोडाईज्ड नमक का ही सेवन करना चाहिए ।

hand logo थाइराइड ( thyroid ) होने पर विटामिन - डी का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए । ऑटोइम्यून समस्या के कारण कम थायरोक्सिन बनना या अधिक थायरोक्सिन बनना दोनों ही अवस्थओं में विटामिन-डी का पर्याप्त मात्रा में अवश्य सेवन करना चाहिए । अंडे, मछली, दूध एवं मशरूम में भरपूर विटामिन डी होता है अत: इन पदार्थों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करना चाहिए ।




इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।