loading...

स्वप्न विचार / फल

Swapn Vichar

आपके सपने आपके जीवन के बारे में क्या कहना चाहते है इसे समझिये के लिए इस साईट पर अवश्य आयें ...

स्वप्न विचार / फल


अंअ: श्र

जब हम जागते हैं ,विचारों पर हमारा नियंत्रण रहता है, पर जब हम निद्रावस्था में होते हैं तब विचारों पर हमारा नियंत्रण नहीं रह पाता । निद्रावस्था में हमारा स्थूल शरीर सुप्तावस्था में रहता है पर हमारा सूक्ष्म शरीर एवम मस्तिष्क क्रियाशील रहता है और हमें स्वप्नों के माध्यम से अनेक प्रकार के दृश्य,घटनाएं ,व्यक्ति,वस्तुएं एवम स्थान आदि दिखलाता है । ज्योतिष शास्त्र के अनेकों ग्रंथों एवम हमारे पुराणों में स्वप्नों के शुभा अशुभ फल का वर्णन दिया गया है । कई बार इन स्वप्न के माध्यम से हमें भविष्य में होने वाली घटनाओं का संकेत भी मिलता है ।

इन सपनों का भी आपके जीवन में बड़ा महत्‍व है। ज्‍योतिष विद्या के अनुसार व्‍यक्ति जो कुछ भी सपने में देखता है, उसका प्रभाव उसके जीवन पर जरूर पड़ता है। कई बार आपको याद रहता है कि आज आपने सपने में क्‍या देखा और कई बार भूल जाते हैं।यदि आपको सपना याद नहीं रहता है या आप चाह कर भी याद नहीं रख पाते हैं, तो उसके लिये आपको सिर्फ एक काम करें। जैसे ही आपकी आंख खुले, बस मनमें दो बातें सोचिये, "मैं कहां हूं और मैं क्‍या कर रहा ?" फिर ईश्वर से अपने पर कृपा बनाये रखने की प्रार्थना अवश्य करें।फिर आप अपना स्‍वप्‍न भूल नहीं सकते।

भारतीय ग्रंथों, ज्योतिष शास्त्रों में स्वप्न देखे जाने के समय, उसकी तिथि व अवस्था के आधार पर इनके परिणामों का बहुत सूक्ष्मता और सरलता से विश्लेषण किया गया है।

रात के पहले पहर में आने वाले स्वप्न बुरे स्वप्न होते है लेकिन आधी रात के बाद आने वाले स्वप्न समान्यता शुभ स्वप्न माने जाते है ।

* शुक्ल पक्ष की षष्ठी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी और दशमी तथा कृष्ण पक्ष की चतुर्दशीतथा सप्तमी तिथि को देखा गया स्वप्न शीघ्र फल देने वाला होता है।

* पूर्णिमा को देखे गए स्वप्न का फल हमें अवश्य ही प्राप्त होता है।

* शुक्ल पक्ष की द्वितीया, तृतीया एवं कृष्ण पक्ष की अष्टमी, नवमी को देखा गए स्वप्न का हमें विपरीत फल मिलता है।

* शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा और कृष्ण पक्ष की द्वितीया के स्वप्न का हमें देरी से फल प्राप्त होता है।

* शुक्ल पक्ष की चतुर्थी एवं पंचमी को देखे गए स्वप्न का हमें दो मास से दो वर्ष के भीतर फल प्राप्त हो जाता है।

शास्त्रों के अनुसार रात्रि के प्रथम प्रहर का स्वप्न एक वर्ष में , दूसरे प्रहर का स्वप्न आठ महीने में ,तीसरे प्रहर का स्वप्न तीन मॉस में ,चौथे प्रहर का स्वप्न एक मास में ,ब्रह्म मुहूर्त का स्वप्न दस दिन में तथा सूर्योदय से पूर्व देखे गये स्वप्न का फल उसी दिन प्राप्त की संभावना प्रबल होती है।

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार यदि रात में शुभ स्वप्न दिखाई दे और नींद टूट जाय तो स्वप्न देखने के बाद दोबारा नहीं सोना चाहिए। उसी समय स्नानादि करके भगवान की पूजा करके उन्हें धन्यवाद देना चाहिए। शुभ स्वप्न को देखने पर उसके फल प्राप्ति के लिए अपना स्वप्न किसी को नहीं बताना चाहिए।

अशुभ स्वप्न दिखने पर यदि फिर से सो जाएँ तो उसका अशुभ प्रभाव समाप्त हो जाता है |
अशुभ स्वप्न देखने पर प्रात: काल घर के बड़े बुजुर्गो को अथवा पीपल के पेड़ को इस स्वप्न के विषय में बता देना चाहिए। इससे स्वप्न के अशुभफल में कमी आ जाती है। अशुभ स्वप्न आने पर उसकी शान्ति के लिए ईश्वर का पूजन ,,हवन, ब्राह्मण भोजन और दान करने से अशुभ फल समाप्त हो जाते है |


सपनों का फल

अपना निरादर देख्ना -   मान सम्मान की प्राप्ति ।

अखरोट देखना -   धन वृद्धि ।

अनाज देखना    चिंता मिले ।

अनार खाना (मीठा) -   धन मिले ।

अजनबी मिलना -   अनिष्ट की सम्भावना ।

अध्यापक देखना -   सफलता मिले ।

अँधेरा देखना -   विपत्ति आये ।

अप्सरा देखना -   धन,यश की प्राप्ति ।

अर्थी देखना -   सफलता / धन लाभ ।

अमरुद खाना -   धन लाभ ।

अदरक खाना -   मान सम्मान की प्राप्ति ।

अलमारी बंद देखना -   धन की प्राप्ति ।

अलमारी खुली देखना -   धन की हानि ।

अंगूर खाना -   स्वस्थ्य लाभ ।

अंग कटा हुआ देखना -   स्वास्थ्य लाभ ।

अंग दान करना -   पुरस्कार, सम्मान की प्राप्ति ।

अंगूठा चूसना -   पैत्रक में विवाद ।

अंतिम संस्कार देखना -   परिवार में मांगलिक कार्य होने की सम्भावना ।

अख़बार पढ़ना, देखना, खरीदना    वाद विवाद की आशंका ।

अट्हास करना -   दुःख के समाचार मिल सकते है ।

अध्यक्ष बनना -   मान हानि की आशंका ।

अध्यन करना -   असफलता मिलने की आशंका ।

अपहरण देखना -   लम्बी उम्र ।

अभिमान करना -   अपमानित होना ।

अगरबत्ती देखना -   धार्मिक अनुष्ठान हो ।

अपठनीय अक्षर पढना -   दुखद समाचार मिले ।

अंगीठी जलती देखना -   अशुभ संकेत ।

अंगीठी बुझी देखना -   शुभ संकेत ।

आग उठाना -   कष्ट मिले ।

अंडे देखना -   झगडा होवे ।

अजगर देखना -   शुभ संकेत ।

अस्त्र देखना -   सभी संकटों से रक्षा ।

अंगारों पर चलना -   शारीरिक कष्ट मिलना |

अपने को आकाश में उड़ते देखना -   सफलता प्राप्त हो ।

अपने पर हमला देखना -   दीर्घ आयु ।

अपने आप को अकेला देखना -   लम्बी यात्रा का योग ।

अपने दांत गिरते देखना -   परिजनों को कष्ट मिले ।

अपने को बीमार देखना -   कष्ट मिले |

अपने को ऊंचाई पर देखना -   अपमानित हो सकते है ।

अपना कद छोटा देखना -   परेशानी उठाना ।

अपना कद बड़ा देखना -   संकटों के आगमन की संभावना ।


आम खाना -   सुंदर स्त्री मिले ।

आग देखना -   परिवार में शान्ति होवे ।

आग लगाना -   दुःख मिले ।

आंसू देखना -   परिवार में मंगल कार्य हो ।

आवाज सुनना -   शुभता का सूचक ।

आंधी देखना -   सफ़र में कष्ट मिले ।

आंधी में गिरना -   सफलता मिले ।

आइना देखना -   इच्छित वास्तु की प्राप्ति ।

आइना में अपना चेहरा देखना -   नौकरी/व्यापार में परेशानी ।

आसमान देखना -   मान सम्मान प्राप्त हो ।

आसमान में स्वयं को देखना -   शुभ योग ।

आसमान से स्वयं को गिरते देखना -   रोज़गार में हानि ।

आग से कपड़े जलना -   दुख मिले ।

आग में स्वय जलना -   मान सम्मान मिले ।

आजाद होते देखना -   चली आ रही परेशानियों से मुक्ति ।

आलू देखना -   इच्छित भोजन की प्राप्ति ।

आंवला देखना -   मनोकामना पूर्ण न होना ।

आंवला खाते देखना -   मनोकामना पूर्ण हो ।

आत्महत्या करना या देखना -   लम्बी आयु मिले ।

आँचल से आंसू पोछना -   शुभ समय का आगमन ।

आँचल में मुँह छिपाना -   मान सम्मान मिले ।

आवेदन करना या लिखना -   लम्बी यात्रा हो सकती है ।

आइसक्रीम खाना -   अच्छा समय का आगमन ।

इश्तहार पढना -   अपयश / धोखा मिले ।

इत्र लगाना -   मान सम्मान की प्राप्ति ।

इमारत देखना ऊँची -   धन यश की प्राप्ति ।

इंजन चलता देखना -   यात्रा का योग ।

इन्द्रधनुष देखना -   संकटों की पूर्व सूचना ।

इनाम मिले -   अपमानित हो सकते है ।

ईंट /पत्थर देखना -   कष्ट मिलने की सम्भावना ।


अंअ: श्र

स्वप्न फल के बारे में अपने विचार सुझाव भी लिखे :-----
नाम:     

ई-मेल:   

उपाय:    


  • All Post
  •  
  • Admin Reply
1.
Khub uchi sidhi per baith kar ghumna father ke saath aur upar se girna
(jai0953@gmail.com)
Jitender prasad  

2.
Khub uchi sidhi per baith kar ghumna father ke saath aur upar se girna
(jai0953@gmail.com)
Jitender prasad  

3.
Kisi murde ko khud le ja ke antyasanskar karna yeh swapn is ka Kya matlab hai?
(mansilonandkar@icloud.com)
Manasi  

4.
swapn me chhota bacha kapda pahnane ko kahe to
(2508 1992)
anand mishra  

5.
Gana gane ka
(9234888761UP@GMAIL.COM)
Uday in  

6.
Gana gane ka
(9234888761UP@GMAIL.COM)
Uday in  

7.
Swapn me kisi anya ko Kusht roge hua dikhai de to kya prabhav hota h
(Madhu sharma247@gmail.com)
Madhusharrma  

8.
mujhe sapana aya ki mere jute gum ho gaye h me usko tlas raha hu kripa mujhe batao ki eska kiya vichar banta h
(prsharma1974@gmail.com)
prithviraj  

9.
mujhe kai bar ye ek hi sapna bar bar aata h ki kisne mujhe goli mar di.ya teris se girke death ho jana
(sofia97721@gmail.com)
s.h  

10.
Sir mai apne khet me gahari - gahari nali aur amrud ka bagicha dekha eska keya arth yoga ? Yah swapna 1 baje ke pahale ka hai.
(tra194885@gmail.cim)
a.k  

11.
सर मुझे सुबह मै सुपने मै सोने के आभूषण गिरवी रखते देखा । इसका सवपन विचार क्या है ।
(vinodbsf5@gmail.com)
vinod Kumar   

12.
Sapne mai aam ka paid dekhna dekhna khub khub khub sare aam dekhna aam ka bagicha bagicha dekhna
(srkvnyk@gmail.com)
vinayak  

13.
Sapne mai aam ka paid dekhna dekhna khub khub khub sare aam dekhna aam ka bagicha bagicha dekhna
(srkvnyk@gmail.com)
vinayak  

14.
Sapne mai aam ka paid dekhna dekhna khub khub khub sare aam dekhna aam ka bagicha bagicha dekhna
(srkvnyk@gmail.com)
vinayak  

15.
Swapan main kana g ki murti dekhna aur mehndi dekhna
(pardeep.sharma 48@gmail.com)
kavita  

16.
mujhe sapne me bar bar mai khi yatra karti hu
(sarojbala844@gmail.com)
saroj bala  

17.
Spno me adi rat me yumraj ka dekhana kya parinam ho sakta nahi
(anupkashyap 124@gmail .com)
anup  

18.
सर जी मुझे सुबह सपने मे मैनै एक आदमी को तलवार से मार दिया क्या मतलब है
(vinodbsf5@gmail.com)
sapna singh  

19.
sapne me machali pakte dekhna. kala sarf pani me katate dekhna
(axprajesh@gmail.com)
rajesh kumar  

20.
Sapne me mansh dikhna
(laxminegi1992@gmail.com)
laxmi  

21.
ganna dekhna
(k_arjunsingh@yahoo.com)
ARJUN SINGH  

22.
ganna dekhna
(k_arjunsingh@yahoo.com)
ARJUN SINGH  

23.
ganna dekhna
(k_arjunsingh@yahoo.com)
ARJUN SINGH  

24.
sapne me tone totke dekhe to kya kare
(mohit18nov1986@gmail.com )
mohit   

25.
Apne 2 two friends ko bhut serious dekhna ...
Eska minis bataye
(kamalbhandari17@ gmail.com)
kamal singh  

26.
Apne frend.ko serious dekhna
(kamalbhandari17@gmail.com)
kamal singh  

27.
Maine swap me chaukhat aur uski deewar ko toot te hue dekha iska kya arth hai aur iske ashubh fal ko khatm karne ka upay kya hai? Maine Yeh swapn subah dekha.
(mamtasingh3789@gmail.com)
Mamta singh   

28.
Maine swap me chaukhat aur uski deewar ko toot te hue dekha iska kya arth hai aur iske ashubh fal ko khatm karne ka upay kya hai? Maine Yeh swapn subah dekha.
(mamtasingh3789@gmail.com)
Mamta singh   

29.
tote ko ghayl karna v use pakdne ki kosish karna
(Dharmendrakpatel0@gmail.com)
Dharmendra Kumar patel  

30.
tote ko ghayl karna v use pakdne ki kosish karna
(Dharmendrakpatel0@gmail.com)
Dharmendra Kumar patel  



1.
अपने अशुभ सपनों के दुष्प्रभाव को समाप्त करने के लिए पीपल के पेड़ पर जाकर पीपल को अपना देखा हुआ सपना सुनाकर उनसे कृपा बनाने का निवेदन करें ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

2.
यदि आपको लगता है कि आपने जो स्वप्न देखा है उसका परिणाम अनिष्टकारी हो सकता है तो उसके निवारण का उपाय अवश्य ही करना चाहिए।

शास्त्रों के अनुसार चित्रकूट वास के समय भगवान श्री राम ने भी एक स्वप्न देखा था जिसके अनिष्ट फल को दूर करने हेतु उन्होंने भगवान शंकर की पूजा की थी। कहते है उचित उपाय करने से बुरे स्वप्न से होने वाला दुष्प्रभाव समाप्त हो जाता है। यदि बुरा स्वप्न रात्रि 12 से 2 बजे के बीच देखा गया है और नींद खुल जाय तो तुरंत भगवान भोलेनाथ का स्मरण करते हुए "ऊँ नमः शिवाय" का जप करते हुए फिर से सो जाएं। सुबह ब्रह्ममुहूर्त में उठकर स्नानादि करके किसी शिवमंदिर में जाकर शिवलिंग पर जल, कच्चा दूध चढ़ाकर पूजा करें व मंदिर में पुजारी को कुछ दान दें । इससे स्वप्न का बुरा फल नष्ट हो जाता है।

यदि बुरा स्वप्न प्रात: 4 बजे के बाद देखा गया है तो प्रातः उठकर बिना किसी से कुछ कहे अपना स्वप्न तुलसी के पौधे से कह डालें। इससे स्वप्न का दुष्प्रभाव दूर हो जाता है। फिर स्नान के बाद " ऊँ नमः शिवाय " की एक माला का जप अवश्य करें।

हनुमान जी सब प्रकार का अनिष्ट दूर करने वाले हैं। बुरा स्वप्न देखने पर उसका अनिष्ट दूर करने के लिए नित्य हनुमान चालीसा का पाठ करें । सुंदरकांड, बजरंग बाण, संकटमोचन स्तोत्र का पाठ करने से भी जातक कोई कोई भी भय नहीं रहता है । यदि आपने बुरा स्वप्न देखा है और आपके घर में तुलसी का पौधा नहीं है, तो सुबह उठकर एक सफेद कागज पर अपने स्वप्न को लिखकर उसे जला दें फिर उसकी राख को नाली में पानी डाल कर बहा दें। फिर स्नान करने के बाद एक माला " ऊँ नमः शिवाय " का जाप करें। इससे भी स्वप्न का दुष्प्रभाव नष्ट हो जाता है।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Loading...

स्वप्न विचार / फल

Swapn Fal Vichar

अपने सभी सपनो का अपने जीवन पर होने वाले प्रभाव को जानें ..आपके सपने क्या इशारा कर रहे है ..इसे समझने के लिए इस साईट पर अवश्य आये .