Memory Alexa Hindi

श्री सूक्त , श्री सूक्त का महत्व

shri-sukt
हे माँ लक्ष्मी आप अपने भक्तो की समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण करने की कृपा करें , उन्हें धन, यश, सुख-समृद्धि, ऐश्वर्य और कार्यो में श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो। हे माँ आपकी सदा जी जय हो।

Kalash One Image श्री सूक्त, श्री सूक्तम Kalash One Image
Kalash One Image Shri Sukt, Shri Suktam Kalash One Image


shri-sukt


Kalash One Image श्री सूक्त का महत्व Kalash One Image
Kalash One Image Shri sukt ka mahtv Kalash One Image


Kalash One Image श्री सूक्त shri sukt अर्थात श्री सूक्तम् shree suktam देवी लक्ष्मी की अाराधना करने हेतु उनको समर्पित मंत्र हैं। इसे 'लक्ष्मी सूक्तम्' lakshmi suktam भी कहते हैं। यह सूक्त ऋग्वेद से लिया गया है। श्री सूक्त shri sukt का पाठ धन-धान्य की अधिष्ठात्री, देवी लक्ष्मी की कृपा प्राप्ति के लिए किया जाता है। श्री सूक्तम shree suktam का पाठ यश, सुख-समृद्धि ऐश्वर्य प्राप्ति का अचूक उपाय है । इस उपाय का प्रचलन अति प्राचीन काल से होता रहा है ।

Kalash One Image श्री सूक्त Shri sukt ऋग्वेदोक्त सिद्ध मंत्र हैं। श्री सूक्त में सोलह मंत्र है , इसके प्रत्येक सूक्त या मन्त्र में कुछ ऐसा गूढ़ रहस्य , चमत्कार है जिनसे अथाह धन-सम्पत्ति की प्राप्ति संभव है। यदि माँ का भक्त इसे पूर्ण श्राद्ध एवं विधि पूर्वक नित्य प्रात: पढे तो उसका भाग्य चमकने लगता है, शुभ समाचारो की प्राप्ति होती है, समस्त कार्यो में श्रेष्ठ सफलता मिलने लगती है, अकस्मात् धन लाभ के भी योग बनते है। श्री सूक्तम् के शुभ फलो में जरा भी संदेह की गुंजाइस नहीं है ।

Kalash One Image मान्यता है कि लक्ष्मी माता की कृपा प्राप्त करने का इससे अमोघ और सरल उपाय कोई भी नहीं है। चाहे कुंडली में कैसे भी ग्रह बैठे हो , कितनी भी विपरीत परिस्थितियां क्योँ ना हो , पिछले कई जन्मो के कैसे भी पाप हो सब कट जाते है , ना केवल इस जन्म में वरन आने वाले जन्मो में भी सुख-समृद्धि प्राप्त होती है । जातक की आने वाली पीढ़ियाँ भी सुख समृद्धि को प्राप्त करती है ।

Kalash One Image श्री सूक्तम् का पाठ पूर्व अथवा उत्तर दिशा में मुख करके सफ़ेद / गुलाबी आसान पर बैठकर करना चाहये । श्री सूक्तम् पढ़ने से पहले माँ लक्ष्मी के सामने घी का दीपक जलाकर, रोली / कुमकुम का तिलक करके कमल / लाल गुलाब / लाल गुड़हल का पुष्प अर्पित करें एवं प्रशाद चढ़ाएं ।

Kalash One Image अगर संस्कृत में पाठ ना कर पा रहे हो तो उसे हिंदी में धीरे धीरे बिलकुल साफ पढे। श्री सूक्त का पाठ करते समय पूरा ध्यान माँ लक्ष्मी की तरफ रहना चाहिए । नवरात्र, दीपावली, शुक्रवार को तो इसको एक से अधिक बार पढे ।


pandit-ji

ज्योतिषाचार्य अखिलेश्वर पाण्डेय
भृगु संहिता, कुण्डली विशेषज्ञ

वैदिक, तंत्र पूजा एवं अनुष्ठान के ज्ञाता


Ad space on memory museum


Published By : Memory Museum
Updated On : 2018-03-07 01:28:55 PM
दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।