Bootstrap Example


श्रीराम शलाका प्रश्नावली


Ram Ji
हर व्यक्ति चाहता है की उसका जीवन एक परी कथा की तरह हो, उसे जीवन में हर सुख सुविधा मिले, सभी कार्य उसके अनुरूप हों। लेकिन यह जीवन कोई परी कथा नहीं वरन इस जीवन में हमें नित्य नयी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है । हम कार्य तो बहुत से करते है,सपने हमारे असीमित है लेकिन बहुत से कार्य बहुत से सपने पूरे नहीं हो पाते है, कई बार दूसरे लोग जिस कार्य में सफल हो रहे होते है हम असफल हो जाते है या तमाम परिश्रम तमाम योजनाओं के बाद भी अपेक्षित परिणाम नहीं मिलते है ......तब हम असमंजस में पड़ जाते है की हम क्या करे ......हमें अमुक कार्य करना चाहिए अथवा नहीं हमें सफलता मिलगी अथवा हमारी मेहनत व्यर्थ चली जाएगी,ऐसी असमंज की स्तिथि से पार पाने के लिए पवित्र श्रीराम शलाका से हमें सच्चा मार्ग दर्शन प्राप्त हो सकता है । हमारे धार्मिक साहित्य में इस अदभुत पवित्र श्रीराम शलाका की बहुत मान्यता है और इसका उपयोग भी बहुत ही सरल है।

सर्वप्रथम प्रभु श्री राम का सच्चे हर्दय से ध्यान करते हुए अपने मन में अपना प्रश्न सोचें जिस पर आप प्रभु की कृपा चाह रहे है, फिर उस कार्य की सफलता की प्रार्थना करते हुए नीचे दिए गए "किसी भी शब्द पर अपनी आंख बंद करके क्लिक कर दें , जिस शब्द पर आपने क्लिक किया है उससे हर नौ खानों में दिए गए शब्दों को जोड़कर एक चौपाई बनती है जो आपका समाधान है अब आप अपनी आँखे खोल दें आपकी आँखों के सामने आपके प्रश्न का उत्तर होगा।"

श्रीराम शलाका प्रश्नावली

सु
प्र
बि
हो
मु
सु
नु
बि
धि
रु
सि
सि
रहिं
बस
हि
मं
अं
सुज
सो
सु
कु
धा
बे
नो
त्य
कु
जो
रि
की
हो
सं
रा
पु
सु
सी
जे
सं
रे
हो
नि
हुँ
चि
हिं
तु
का
मि
मी
म्हा
जा
हू
हीं
ता
रा
रे
री
हृ
का
खा
जू
रा
पू
नि
को
जो
गो
मु
ने
मनि
हि
रा
मि
रि
न्मु
खि
जि
जं
सिं
नु
को
मि
निज
र्क
धु
सु
का
गु
रि
नि
ती
ना
पु
तु
नु
वै
सि
हु
सु
म्हा
रा
ला
धी
री
हू
हीं
खा
जू
रा
रे

नोट:-- * इस प्रश्नावली को कोई भी किसी भी धर्म का व्यक्ति अपने इष्टदेव को याद करके प्रयोग कर सकता है।
* गंदे हाथों से, बिना नहाये हुए, जूते चप्पल पहन कर, बहुत जल्दी में इस प्रश्नावली का कतई प्रयोग न करें।
* एक ही प्रश्न को को बार बार न पूछें।
* एक दिन में एक व्यक्ति अलग अलग ३-४ से ज्यादा प्रश्नों का अर्थ ना निकालें।

यदि आपका प्रश्न उत्तम है आपको सफलता प्राप्त होने का आशीर्वाद मिला है तो आप किसी भी धर्म स्थान / राम /हनुमान मंदिर में जाकर अपनी श्रद्धा अनुसार प्रसाद चड़ाकर उसे ज्यादा भाग वहीँ पर बाँट दें और बचा हुआ थोड़ा सा हिस्सा घर में आकर सबसे पहले अपने माता - पिता ,बड़े बुजुर्गो,बच्चो,भाई बहन और स्त्री को दें उसके बाद ही आप स्वयं प्रसाद ग्रहण करें और कार्य सिद्ध हो जाने के बाद पुन: सपरिवार धर्म स्थान पर जाकर अपनी श्रद्धा, सामर्थ्य अनुसार प्रसाद चड़ाकर उसे वितरित करना बिलकुल भी न भूलें।

यदि आपको उत्तर प्राप्त हुआ है की कार्य की सफलता में संदेह है और आप तब भी उसे करना चाहते है, आपको लगता है की वह कार्य आपके लिए बहुत ही जरुरी है और आपके लिए उसे त्यागना काफी मुश्किल है तो आप किसी भी धर्म स्थान /राम/हनुमान मंदिर में जाकर एक जटा वाला नारियल के ऊपर कलावा बांधकर कुछ दक्षिणा के साथ चड़ा दें, और मन ही मन अपनी मनोकामना दोहराते हुए कार्य के फल को ईश्वर के ऊपर छोड़ दें।

यदि आप हिन्दु धर्म को मानने वाले है तो लगातार ७ शनिवार को हनुमान जी पर सिंदूर में चमेली का तेल मिलकर उनके पैरों से शुरू करते हुए ऊपर सारे शरीर पर लगायें और उसके बाद अगर संभव हो तो चाँदी का वर्क भी लगायें और यदि आपको कार्य में सफलता मिल जाती है तो हनुमान जी पर पूरा चोला अर्पित करें और भंडारा या गरीबों में भोजन अवश्य ही वितरित करें ।

यह पवित्र श्रीराम शलाका हिन्दुओं के पवित्र ग्रन्थ रामचरितमानस से ली गयी है तथा बहुत लम्बे समय से इसकी मान्यता चली आ रही है। यह साईट इसकी अकाट्यता के लिए कोई भी दावा नहीं करती है।





loading...

श्रीराम शलाका प्रश्नावली
Ram Shilakha Prashnavali

केवल एक क्लिक पर पलक झपकते ही पवित्र श्री राम शलाका के माध्यम से अपने जीवन के सभी प्रश्नों / अपनी सभी जिज्ञासाओं का समाधान पाने के लिए इस साईट पर अवश्य ही विज़िट करें

श्रीराम शलाका प्रश्नावली
Ram Shilakha

अत्यंत पूजनीय, परीक्षित श्री राम प्रश्नावली से अपने जीवन के सभी महत्वपूर्ण प्रश्नों का हल जानने के लिए इस साईट को अवश्य ही विज़िट करें .....

श्रीराम शलाका प्रश्नावली
Shri Ram Shilakha

अपने मन के भटकाव, असमंजस की स्तिथि, अपने जीवन के अनबूझ प्रश्नों का उत्तर जानने के लिए पवित्र श्री राम प्रश्नावली का प्रयोग करें और हल प्राप्त करें मात्र एक क्लिक पर ....