Memory Alexa Hindi

क्या है राहु काल

rahu

जानिए क्या है राहु काल


क्या है राहु काल


                    rahu kaal


भारतीय ज्योतिष शास्त्र में हर शुभ कार्य के लिए मुहूर्त देखने की परम्परा है। माना जाता है की शुभ मुहूर्त में किये गए कार्यों के अच्छे फल प्राप्त होते है । लेकिन दिन में एक समय ऐसा भी आता है जब कोई भी शुभ कार्य करना पूर्णतया वर्जित माना गया है वह समय है राहुकाल।

राहु को एक पाप ग्रह माना जाता है। हमारे धर्म शास्त्रों के अनुसार राहु ग्रह को सभी शुभ कार्यो में विघ्न, बाधा डालने वाला ग्रह कहा गया है अत: राहु काल में किसी भी अच्छे कार्य को, यात्रा को बिलकुल भी शुरू नहीं करना चाहिए । चूँकि ग्रहों के गोचर के क्रम में सभी ग्रहों का अपना एक नियत समय होता है इसीलिए हर दिन एक निश्चित समय में ही राहु काल होता है|
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हर दिन में राहु काल आता है, सूर्योंदय और सूर्यास्त के आधार पर राहुकाल की अवधि का अलग अलग स्थानों में अंतर होता है। राहु काल प्रातकाल में कभी भी नहीं होता है और हफ्ते के हर दिन इसका अलग अलग समय होता है. ज्योतिषिय गणना के अनुसार यह काल कभी सुबह, कभी दोपहर तो कभी शाम के समय आता है, लेकिन सूर्यास्त से पूर्व ही पड़ता है सोमवार को यह दिन के दूसरे हिस्से में, शनिवार को तीसरे हिस्से में, शुक्रवार को चौथे हिस्से में, बुधवार को पांचवें हिस्से में, गुरूवार को छठे हिस्से में, मंगलवार को सातवें हिस्से में और इतवार को दिन आठवें हिस्से में राहु का प्रभाव होता है।
राहु काल ज्ञात करने के लिए वैदिक ज्योतिष शास्त्र में एक विशेष नियम बनाया गया है, इसके अनुसार सूर्योदय से सूर्यास्त तक पूरे दिन को आठ बराबर हिस्सों में विभाजित किया जाता है, इसके अनुसार सूर्योदय का समान्य समय प्रात: 6 बजे माना जाता है और सूर्यास्त का शाम को 6 बजे , चूँकि एक दिन 12 घंटे का होता है अता: 12 घंटे को 8 से विभाजित किया जाता है,इसके अनुसार सूर्योदय से सूर्यास्त तक दिन का हर भाग 1.5 घंटे का होता है और इसी में एक खास नियत अवधि राहु काल कहलाती है। हम यहाँ आप लोगो की सुविधानुसार राहु काल का प्रत्येक दिन का समय बता रहे है जिसको ध्यान में रखकर आप अपने सभी कार्यों को अपने अनुसार कर सकते है।

सोमवार--


मंगलवार --


बुधवार --


गुरूवार --


शुक्रवार --


शनिवार --


रविवार --


सुबह - 7.30 से 9.00 तक ।


दिन - 3.00 से 4.30 तक ।


दिन - 12.00 से 1.30 तक ।


दिन - 1.30 से 3.00 तक ।


सुबह - 10.30 से 12.00 तक ।


सुबह - 9.00 से 10.30 तक ।


सायं - 4.30 से 6.00 तक ।


Loading...


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।