Memory Alexa Hindi

पथरी के अचूक इलाज
Pathri ke achuk ilaj


pathri-ke-achuk-ilaj




पथरी से छुटकारा
Pathri se chutkara


आज के युग में बहुत बड़ी आबादी पथरी की समस्या pathri ki samasya से ग्रस्त होती जा रही है, पथरी में लापरवाही pathri men laparvahi बहुत खतरनाक सिद्ध होती है, इसका समय से इलाज ना किया जाय तो गंभीर परिणाम हो सकते है। पथरी से छुटकारा pathri se chutkara पाना अत्यंत आवश्यक है। पथरी होने की एक बड़ी वजह गलत खान-पान भी है। ज्यादातर पथरी गुर्दे की पथरी Gurde ki pathri होती है, पथरी अगर छोटी हो तो वह पेशाब के रास्ते निकल जाती है लेकिन अगर पथरी बड़ी हो तो यह बाहर नहीं निकल पाती है। पथरी के कारण पेशाब करते समय दर्द और जलन सी महसूस होती है। यहाँ पर हम आपको पथरी के अचूक इलाज pathri ke achuk ilaz बता रहे है जिनको करके अवश्य ही पथरी से छुटकारा pathri se chutkara पाया जा सकता है
जानिए पथरी के अचूक इलाज, pathri ke achuk ilaj, पथरी से छुटकारा, pathri se chutkara, पथरी की चिकित्सा,pathri ki chikitsa । hand logo पथरी ( Pathri ) होने पर एपल साइडर विनिगर ( सेब का सिरका ) का प्रयोग करें | इससे खुलकर पेशाब होता है और यह बहुत ही जल्दी पथरी को गला कर ( pathri ko gala kar ) बाहर निकाल देता है|
दो बड़े चम्मच एपल साइडर विनिगर , एक छोटी चम्मच शहद को एक कप गर्म पानी में मिलाकर दिन में दो तीन बार ले | इससे 15 से 20 दिनों में ही पथरी से छुटकारा ( pathri se chutkara ) मिल जाता है |

hand logo नारियल का पानी पीने से पथरी ( pathri ) में फायदा होता है। पथरी होने पर नारियल का प्रतिदिन पानी पीना चाहिए।

hand logo करेला वैसे तो बहुत कड़वा होता है परन्‍तु पथरी में रामबाण ( pathri me ramban ) की तरह काम करता है। करेले में मैग्‍नीशियम और फॉस्‍फोरस नामक तत्‍व होते हैं, जो पथरी को बनने से रोकते हैं।
पथरी होने पर दो छोटे चम्मच करेले के रस को सुबह शाम 8-10 दिन पियें इससे महीन महीन कणो में पथरी ( pathri ) टूटकर पेशाब के द्वारा बाहर निकल जाती है |

hand logo पथरी होने पर अजवाइन का अधिक से अधिक प्रयोग करें | अजवाइन के सेवन से दोहरा लाभ मिलता है, इससे पेशाब अधिक आता है और अजवाइन पथरी के कारणों को समाप्त करती है अर्थात इसके सेवन से पथरी दोबारा नहीं बनती है | प्रतिदिन प्रात: एक चम्मच अजवाइन को गर्म पानी के साथ लें | इससे एक माह में ही पथरी से छुटकारा ( pathri se chutkara ) मिलता है |

hand logo 15 दाने बडी इलायची के एक चम्मच, खरबूजे के बीज की गिरी और दो चम्मच मिश्री, एक कप पानी में मिलाकर सुबह-शाम दो बार पीने से पथरी निकल जाती है।

hand logo अंगूर में एल्ब्यूमिन और सोडियम क्लोराइड बहुत ही कम मात्रा में होता हैं, इसलिए किडनी में स्‍टोन के उपचार के लिए अंगूर को बहुत ही उत्तम माना जाता है। चूँकि इनमें पोटेशियम नमक और पानी भरपूर मात्रा में होते है इसलिए अंगूर प्राकृतिक मूत्रवर्धक के रूप में भी उत्कृष्ट रूप में कार्य करता है।

hand logo पका हुआ जामुन पथरी से निजात दिलाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पथरी होने पर पका हुआ जामुन खाना चाहिए।

hand logo किडनी में स्‍टोन को निकालने में बथुए का साग भी बहुत ही कारगर होता है। इसके लिए आप आधा किलो बथुए के साग को उबाल कर छान लें। अब इस पानी में जरा सी काली मिर्च, जीरा और हल्‍का सा सेंधा नमक मिलाकर, दिन में चार बार पीने से शीघ्र ही फायदा होता है।

hand logo आंवला पथरी में बहुत फायदा करता है। नित्य प्रातः अवाले का चूर्ण मूली के साथ खाने से मूत्राशय की पथरी निकल जाती है।

hand logo प्याज में गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए औषधीय गुण पाए जाते हैं। इसका प्रयोग से हम किडनी में स्‍टोन से निजात पा सकते है। लगभग 70 ग्राम प्‍याज को पीसकर और उसका रस निकाल कर पियें। सुबह, शाम खाली पेट प्‍याज के रस का नियमित सेवन करने से पथरी छोटे-छोटे टुकडे होकर निकल जाती है।

hand logo पथरी ( pathri ) में पथरचट्टा के पत्ते अत्यंत लाभदायक है | पथरी होने पर सुबह शाम 4-5 पथरचट्टे के पत्तो को साफ करके चबा चबा कर खाएं एवं इनका रस निकाल कर पियें | इससे किसी भी तरह की पथरी गल कर निकल जाती है |

hand logo पथरी ( pathri ) में पथरचट्टा के पत्ते अत्यंत लाभदायक है | पथरी होने पर सुबह शाम 4-5 पथरचट्टे के पत्तो को साफ करके चबा चबा कर खाएं एवं इनका रस निकाल कर पियें | इससे किसी भी तरह की पथरी गल कर निकल जाती है |

<< पिछले पेज पर जाएँ                                           अगले पेज पर जाएँ >>

Loading...


इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।