loading...

मधुमेह/शुगर के घरेलू उपचार

Madhumeh Image

जानिए क्या है मधुमेह/शुगर के आसान और अचूक उपचार … विज़िट करें.......

मधुमेह के घरेलू उपचार


Diabetes Image
बदलता परिवेश और रहन-सहन शहर में मधुमेह के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा कर रहा है। खान-पान पर नियंत्रण न होना भी इसके लिए जिम्मेदार है। डायबिटीज के मरीज को सिरदर्द, थकान जैसी समस्याएं हमेशा बनी रहती हैं। मधुमेह में खून में शुगर की मात्रा बढ जाती है। ऐलोपैथिक में इसका कोई स्थायी इलाज नहीं मिल पाया है परन्तु आयुर्वेद के उपायों, जीवनशैली में बदलाव, शिक्षा तथा खान-पान की आदतों में सुधार द्वारा रोग को पूरी तरह नियंत्रित किया जा सकता है।


मधुमेह के कारण और प्रकार


हम जो भी खाते है उसे हमारा पाचन तंत्र ग्लूकोज बना कर रक्त में भेज देता है । इसे हमारे शरीर की कोशिकाओं में पहुँचाने के लिए इंन्सुलीन नामक हारमोन की जरुरत होती है। जब हमारा शरीर इंसुलिन का उत्पादन करने में सक्षम नहीं होता है , तब ग्लुकोज रक्त में बढता जाता है मगर कोशिकाओं के अन्दर नहीं घुस पाताहै । यही मधुमेह कहलाता है।

मधुमेह मुख्यतः दो तरह का होता है।

टाइप - 1 :-- इसमें पैन्क्रियाज की बीटा कोशिकाएँ पूर्णतः नष्ट हो जाती हैं और इस तरह शरीर में इंन्सुलीन का बनना सम्भव नहीं होता है। अनुवांशिक कारणों , आँटो इम्युनिटी एवं किसी प्रकार के वाइरल संक्रमण के कारण बचपन में ही बीटा कोशिकाएँ पूर्णतः नष्ट हो जाती हैं। यह बीमारी मुख्यतः 12 से 25 साल से कम अवस्था में मिलती है। भारत में यह बहुत ही कम मात्र 1% से 2% केसों में ही टाइप-1 के मरीज़ पाये जाते है। यूरोप विशेषकर स्वीडेन एवं फिनलैण्ड आदि में लोगो में टाइप-1 मधुमेह काफी पाया जाता है। ऐसे मरीजों इंसुलीन की सूई अनिवार्य रूप से दी जाती है।

टाइप - 2 :-- भारत में ज्यादातर 98% तक मधुमेह के रोगीयों में टाइप-2 का मधुमेह पाया जाता हैं। ऐसे मरीजों में बीटा कोशिकाएँ कुछ-कुछ इन्सुलीन बनाती है। लेकिन यह थोड़ा बहुत बना हुआ इंसुलीन मोटापे, गलत / अनियमित खान पान एवं शारीरिक श्रम की कमी के कारण व्यर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों के ईलाज के लिए कई तरह की दवाईयाँ उपलब्ध है लेकिन कोई भी विशेष कारगर नहीं है इसलिए उन्हें जीवन भर दवाएँ खानी पड़ती है और कई बार इंसुलीन भी देना पड़ता है।

मधुमेह के लक्षण :------

1. बार-बार पेशाब आना।
2. बहुत ज्यादा प्यास लगना।
3. बहुत पानी पीने के बाद भी गला सूखना।
4. खाना खाने के बाद भी बहुत भूख लगना।
5. मितली होना और कभी-कभी उल्टी होना।
6. हाथ-पैर में अकड़न और शरीर में झंझनाहट होना।
7. हर समय कमजोरी और थकान की शिकायत होना।
8. आंखों से धुंधलापन होना।
9. त्वचा या मूत्रमार्ग में संक्रमण।
10. त्वचा में रूखापन आना।
11. चिड़चिड़ापन।
12. सिरदर्द।
13. शरीर का तापमान कम होना।
14. मांसपेशियों में दर्द।
15. वजन में कमी होना।

यदि हम थोड़ी सी सावधानी बरते,आपने जीवनशैली , खान-पान की आदतों में सुधार करें तो इसपर अवश्य ही विजय प्राप्त कर सकते है।

यहाँ मधुमेह को नियंत्रण करने के हम कुछ आसन से घरेलू उपाय बता रहे है :--

*तुलसी के पत्तों में ऐन्टीआक्सिडन्ट और ज़रूरी तेल होते हैं जो इनसुलिन के लिये सहायक होते है । इसलिए शुगर लेवल को कम करने के लिए दो से तीन तुलसी के पत्ते को प्रतिदिन खाली पेट लें, या एक टेबलस्पून तुलसी के पत्ते का जूस लें।

*10 मिग्रा आंवले के जूस को 2 ग्राम हल्दी के पावडर में मिला लीजिए। इस घोल को दिन में दो बार लीजिए। इससे खून में शुगर की मात्रा नियंत्रित होती है।

*काले जामुन डायबिटीज के मरीजों के लिए अचूक औषधि मानी जाती है। मधुमेह के रोगियों को काले नमक के साथ जामुन खाना चाहिए। इससे खून में शुगर की मात्रा नियंत्रित होती है।

*लगभग एक महीने के लिए अपने रोज़ के आहार में एक ग्राम दालचीनी का इस्तेमाल करें, इससे ब्लड शुगर लेवल को कम करने के साथ वजन को भी नियंत्रण करने में मदद मिलेगी।

*करेले को मधुमेह की औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसका कड़वा रस शुगर की मात्रा कम करता है।अत: इसका रस रोज पीना चाहिए। उबले करेले के पानी से मधुमेह को शीघ्र स्थाई रूप से समाप्त किया जा सकता है।

*मधुमेह के उपचार के लिए मैथीदाने का बहुत महत्व है, इससे पुराना मधुमेह भी ठीक हो जाता है। मैथीदानों का चूर्ण नित्य प्रातः खाली पेट दो टी-स्पून पानी के साथ लेना चाहिए ।

*काँच या चीनी मिट्टी के बर्तन में 5-6 भिंडियाँ काटकर रात को गला दीजिए, सुबह इस पानी को छानकर पी लीजिए।

*मधुमेह मरीजो को नियमित रूप से दो चम्मच नीम और चार चम्मच केले के पत्ते के रस को मिलाकर पीना चाहिए।

*ग्रीन टी भी मधुमेह मे बहुत फायदेमंद मानी । जाती है ग्रीन टी में पॉलीफिनोल्स होते हैं जो एक मज़बूत एंटी-ऑक्सीडेंट और हाइपो-ग्लाइसेमिक तत्व हैं, शरीर इन्सुलिन का सही तरह से इस्तेमाल कर पाता है।

*सहजन के पत्तों में दूध की तुलना में चार गुना कैलशियम और दुगना प्रोटीन पाया जाता है। मधुमेह में इन पत्तों के सेवन से भोजन के पाचन और रक्तचाप को कम करने में मदद मिलती है। इसके नियमित सेवन से भी लाभ प्राप्त होता है ।

*एक टमाटर, एक खीरा और एक करेला को मिलाकर जूस निकाल लीजिए। इस जूस को हर रोज सुबह-सुबह खाली पेट लीजिए। इससे डायबिटीज में बहुत फायदा होता है।

*गेहूं के पौधों में रोगनाशक गुण होते हैं। गेहूं के छोटे-छोटे पौधों से रस निकालकर प्रतिदिन सेवन करने से भी मुधमेह नियंत्रण में रहता है।

*मधुमेह के मरीजों को भूख से थोड़ा कम तथा हल्का भोजन लेने की सलाह दी जाती है। ऐसे में खीरा नींबू निचोड़कर खाकर भूख मिटाना चाहिए।

*मधुमेह उपचार मे शलजम का भी बहुत महत्व है । शलजम के प्रयोग से भी रक्त में स्थित शर्करा की मात्रा कम होने लगती है। इसके अतिरिक्त मधुमेह के रोगी को तरोई, लौकी, परवल, पालक, पपीता आदि का प्रयोग भी ज्यादा करना चाहिए।

*6 बेल पत्र , 6 नीम के पत्ते, 6 तुलसी के पत्ते, 6 बैगनबेलिया के हरे पत्ते, 3 साबुत काली मिर्च ताज़ी पत्तियाँ पीसकर खाली पेट, पानी के साथ लें और सेवन के बाद कम से कम आधा घंटा और कुछ न खाएं , इसके नियमित सेवन से भी शुगर सामान्य हो जाती है ।

* वैज्ञानिकों की नई शोध में अदरक मधुमेह की बीमारी में बेहद कारगर साबित हुई है। आस्ट्रेलिया में किये गए एक शोध के अनुसार अदरक का रस खून में शर्करा के स्तर को पूरी तरह से नियंत्रित करता है। पुराने से पुराने मधुमेह में भी जिसमें शरीर के अंग भी प्रभावित हो चुके हो नित्य खाली पेट अदरक का रस बेहद फायदेमंद है।

* मधुमेह में सोया आटे की रोटी खानी चाहिए । सोयाबीन में स्टार्च और कार्बोहाइड्रेट बहुत कम मात्रा में होता है और यही चीज़े मधुमेह में हानिकारक होती है अत: सोयाबीन को पीस कर आटे में मिलाकर खाने से मधुमेह नियंत्रण में रहता है ।

* मधुमेह के शिकार व्यक्ति को अपने आहार में एलो वेरा जूस को अवश्य ही शामिल करना चाहिए। एलो वेरा में मौजूद विभिन्न प्रकार के विटामिन्स, मिनरल्स, खनिज शरीर के सेल स्तर पर काम करते है जिससे शरीर शर्करा की मात्रा नियंत्रित होती है और व्यक्ति चुस्त और दुरुस्त भी रहता है।

* मधुमेह से ग्रस्त व्यक्ति के लिए अलसी का सेवन उपयुक्त है । अलसी को मिक्सी में पीसकर आटा में मिलकर इसकी रोटी खाएं । इससे शरीर में लम्बे समय तक ताकत रहती है ।

* मधुमेह में नित्य अमरुद का सेवन करें । इसे महीन महीन काट काट कर उसपर सेंधा / काला नमक और काली मिर्च छिड़क कर खाना चाहिए, इससे मधुमेह में बहुत ज्यादा आराम मिलता है ।

* मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए दक्षिण की तरफ सर करके सोएं , अपने बैडरूम में कम से कम 100 ग्राम का साबुत फिटकरी का टुकड़ा अवश्य ही रखें । इससे मधुमेह को नियंत्रित रखने में सहायता मिलती है ।



इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।
अपने उपाय/ टोटके भी लिखे :-----
नाम:     

ई-मेल:   

उपाय:    


  • All Post
  •  
  • Admin Reply
1.
SUGAR
(RAJUDDIN)
RAJUDDIN  

2.
Pait rogs
(sameeransari6438@gmail.come )
sameer  

3.
100 gram neem leaves boil in one litre water for 15 minute. After it is normal keep in glass bottle and use half cup in morning daily to control sugar level. May contact for any ayurvedic medicine treatment
(kailassaraogi85@gmail.com)
Kailas Saraogi  

4.
Meri age 28 mere ko last1 month se sugar khali pet 190 or khane ke bad340 h plz ilaz battery 7300440545
(Sonustu@gmail.com)
Sajjan Kumar   

5.
Sugar
(virendra.k)
VK Khobba  

6.
Sugar ka elah
(mohdvvvvv421 @gmail.com)
mohd imran  

7.
मधुमेह और दिल के मरीजो के रोगियों के लिए बहुत लाभकारी प्रयोग :-
अच्छी क्वालिटी के दो मुट्ठी साफ गेंहू को 10 मिनट तक पानी में उबालने के बाद उन्हें ठंडा होने पर किसी कपडे में रख कर उसको लगातार पानी में भिगो कर रखे ताकि वो अंकुरित हो सके। उबालने के बाद 10-15 प्रतिशत गेंहू में ही अंकुरित होने का सामर्थ्य बचा होगा ।
जब 4-5 दिन के बाद गेंहू में लगभग एक इंच तक लंबे अंकुर निकल आये तो उन्हें सिर्फ दो से तीन तक खाली पेट खाएं इससे मधुमेह से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जायेगा । इस प्रयोग को ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने बहुत से लोगो पर जांचा और ये अद्भुत उपाय जांच में बिलकुल सही साबित हुआ।
यदि इसे दो और दिन तक अर्थात लगातार 5 दिन तक खाया जाय तो हार्ट अटैक की सम्भावना भी बिलकुल नगण्य हो जाती है ।
इसे खाने के बाद एक घंटे तक कुछ भी ना खाएं ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

8.
मधुमेह के रोगियों को नित्य हरे धनिया की चटनी अवश्य ही खानी चाहिए । हरा धनिया मधुमेह में बहुत लाभदायक है ।
यह शरीर में इन्सुलिन की मात्रा बढ़ाता है और खून में गुलूकोज़ की मात्रा को भी कम करता है।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

9.
मधुमेह के रोगियों को नित्य हरे धनिया की चटनी अवश्य ही खानी चाहिए । हरा धनिया मधुमेह में बहुत लाभदायक है ।
यह शरीर में इन्सुलिन की मात्रा बढ़ाता है और खून में गुलूकोज़ की मात्रा को भी कम करता है।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

10.
Sugar level machine kahan mil ta hai
(www.saratranakumar@gmail.com)
sharat kumar rana  

11.
Sugar Ki dawai
(Himanshubisht543@gmail.com)
Himanshu bisht  

12.
Sugar Ki dawai
(Himanshubisht543@gmail.com)
Himanshu bisht  

13.
Suger
(9729101964)
veena pal  

14.
Madhumeh ke rogi yadi pratidin nange pair subah ke samay ghas par chale/tahle to kafi had tak sugar control me rahta hai aur aankho ki roshni bhi thik ho jati hai. yey prayog sat pratishat kargar hai
(palu170n@gmail.com)
satish kumar soni   

15.
Just one call forget your all problems and change your life / Get your love back/ Vashikaran/Husband wife disput/Inter cast love marriage /Black magic / business prombles and etc. Just one call can change your life +91 8437560891 pandit arun bhargav
Please friends dont send me messages because i m nt always online so I can't reply back to u if any body need solution of their problems just call me
+91 8437560891
(panditbhargavji0001@gmail.com)
Pandit Arun   

16.
Just one call forget your all problems and change your life / Get your love back/ Vashikaran/Husband wife disput/Inter cast love marriage /Black magic / business prombles and etc. Just one call can change your life +91 8437560891 pandit arun bhargav
Please friends dont send me messages because i m nt always online so I can't reply back to u if any body need solution of their problems just call me
+91 8437560891
(panditbhargavji0001@gmail.com)
Pandit Arun   

17.
Just one call forget your all problems and change your life / Get your love back/ Vashikaran/Husband wife disput/Inter cast love marriage /Black magic / business prombles and etc. Just one call can change your life +91 8437560891 pandit arun bhargav
Please friends dont send me messages because i m nt always online so I can't reply back to u if any body need solution of their problems just call me
+91 8437560891
(panditbhargavji0001@gmail.com)
Pandit Arun   

18.
Tutsi ke pate khaki pet khaye
(ramjeet113@gmail.com)
Ranjeet. kr  

19.
My bleed suger level round is 160
(SunilKannoujiya 97@gmail.com)
Sunil Kannoujiya   

20.
Sugar
(nasir ali @gimail cm)
nasir ali  

21.
meri age 36 hai mujhe sugar ho gaye hai 2 month pehile pata chala hai but mere paribar wale chahcte ki hum ek baby plaing kare kya me yesa kar sakta hoon plaese sujhab bataye
(ahazare859@gmail.com)
nand kishor  

22.
my blode suger level is round about 160 in fasting
(kali.thakur@acclimited.com)
kali dass  

23.
Suger hone pr madhu nasni buti ke 3-4 pate roj khali pet khane se jald mudhumeh niytrit hoti h
(dheeraamarujala@gmail.com)
Subhash Dogra  

24.
I AM DHARMENDRA SHARMA 32 YEARS OLD. I HAVE SUGAR PROBLEM LAST 1 YEAR AND 6 MONTHS.PLZ HELP 9319979031
(muni.greesh@gmail.com)
dharmendra  

25.
I AM DHARMENDRA SHARMA 32 YEARS OLD. I HAVE SUGAR PROBLEM LAST 1 YEAR AND 6 MONTHS.PLZ HELP 9319979031
(muni.greesh@gmail.com)
dharmendra  

26.
I AM DHARMENDRA SHARMA 32 YEARS OLD. I HAVE SUGAR PROBLEM LAST 1 YEAR AND 6 MONTHS.PLZ HELP 9319979031
(muni.greesh@gmail.com)
dharmendra  

27.
आप रानटी तूलसी का हर रोज सुबह खाली पेट तीन या चार पत्ते खाये तो आपको मधुमेह ,पित्त, अवैद गैस, आदि से फायदा मिलगा इससा सेवन से जल्दी राहत मिलती है
(ry6949450gemil@.com)
राजेंद्र यादव   

28.
4o minutes of brisk morning and evening WAlk may ceate miracle to ensure best glycemic control


BP.ROY
(gm_ravian@rediffmail.com)
BP  

29.
good morning
(mohdnaceem786@gmail.com)
mohd naseem  

30.
Me 55sall ka hu , mera filed work h . ab aafi peresani both h . hamesa back me pain rehta h .
Kirpa upchar batay .
Aap me intjar me ,,,,,,,,,
Aap ka .
Vijay
(vijaysharma0489@gmail.co)
vijay sharma  





1.
मधुमेह में नित्य सुबह शाम 4-5 लहसुन की कली , 1/2 चम्मच हल्दी और थोड़ी सौंठ डाल कर पाव भर दूध को अच्छी तरह से गर्म करें फिर इसमें 2 बूँद शिलाजीत की डाल दे । यह दूध मधुमेह में रामबाण है । इस दूध का गर्मा गर्म सेवन करने से मधुमेह नियंत्रित रहती है शरीर में किसी भी तरह की थकावट कमजोरी भी नहीं आती है और ह्रदय एवं रक्तचाप भी सामान्य रहता है ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

2.
मधुमेह में फ्रिज का पानी बिलकुल भी नहीं पिए ।
मधुमेह के शिकार होने पर रात में एक छोटे मिटटी के घड़े में 10 -12 गिलास पानी भरकर उसमें एक चम्मच मेथी और एक चम्मच अजवाइन डाल दें ,
रात में जब भी नीद खुले और पानी पीना हो तो उसी पानी को मिटटी के गिलास में पियें। फिर सुबह उठकर उस पानी के तीन चार गिलास आराम से पालथी मार कर पियें। बचा हुआ पानी दूसरे दिन भी रात में और अगले दिन सुबह के समय पियें ।
तीसरे दिन घड़े का पानी बदल कर उसमें फिर से एक चम्मच मेथी और एक चम्मच अजवाइन डाल कर उस जल का सेवन करें। ऐसा नियमित रूप से करने पर शीघ्र ही महुमेह नियंत्रित हो जाता है और लगातार नियंत्रित रहता है ।
यह बहुत ही आसान और अचूक उपाय है, अगर आप महुमेह को परास्त करना चाहते है तो इसे अवश्य ही करें ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

3.
एक अमरीकी शोध के अनुसार मधुमेह के रोगी के आहार में ‘फाइबर ’( मोटे रेशेदार पदार्थ ) की मात्रा अधिक होनी चाहिए ।
हर व्यक्ति को कम से कम रोजाना 40 ग्राम फाइबर जरूर अपने भोजन में शामिल करना चाहिए। समान्यता भोजन में 15 से 20 ग्राम फाइबर शामिल रहता है। इसे यदि 20 ग्राम और बढ़ा दें तो मधुमेह और दिल की बीमारी से बचा जा सकता है । फाइवर भोजन के बाद रक्त में शर्करा के स्तर को बढ़ने नहीं देते । ये कब्ज को दूर करते हैं, रक्त में कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करते हैं और इसके सेवन से वजन भी नियंत्रित रहता है ।
चोकर , हरी पत्तो वाली सब्जियाँ और मेथी से फाइबर की पूर्ति की जा सकती है ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

4.
मधुमेह पर नियंत्रण रखने के लिए नित्य प्रात: बिना कुछ भी खाए गिलोय अथवा नीम की दातुन से अपने दाँत साफ करने चाहिए । दातुन करने की प्रकिया में जो भी रस निकले उसे थूकें नहीं वरन नगलते जाएँ । गिलोय एवं नीम का रस मधुमेह में चमत्कार का काम करता है ।
इस छोटे से उपाय को अपनी दिनचर्या बनाने से जीवन में कभी भी मधुमेह पास भी नहीं आएगी और जिन्हे है उनकी पूरी तरह से नियन्त्रण में रहेगी ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

5.
नित्य दोपहर और रात के खाने से 15-20 मिनट पहले एक चौथाई चम्मच दालचीनी के चूर्ण को गुनगुने पानी में मिलाकर उसका सेवन करें । इससे शीघ्र ही मधुमेह नियंत्रित हो जाता है , शरीर को ताकत मिलती है । इसके नियमित रूप से सेवन करने से इन्सुलिन भी बंद हो जाती है ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

6.
एक अध्ययन के अनुसार 9 करोड़ डायबिटीज अर्थात मधुमेह के मरीजों की आबादी के साथ भारत विश्व के तीन सबसे ज्यादा मधुमेह पीड़ित देशों में से है । मधुमेह में तिल का तेल बहुत ही लाभदायक साबित होता है। तिल के तेल में विटामिन ई और अन्य एंटीऑक्सिडेंट्स , जैसे कि लिगनैंस, प्रचुर मात्रा में होते हैं. जो टाइप 2 डायबिटीज में फायदा करते हैं।
तिल का तेल डायबिटीज की रोकथाम करने में भी मदद करता है इसके नियमित रूप से सेवन करने से रक्त में ग्लूकोज का स्तर, और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो जाता है। तिल के तेल के सेवन से मधुमेह के कारण होने वाली अन्य बीमारियाँ भी दूर रहती है ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

7.
मधुमेह में 100 ग्राम मेथीदाना, 100 ग्राम तेजपत्ता, 150 ग्राम जामुन के बीज और 250 ग्राम बेल के पत्तो को धूप में सुखाकर सिलबट्टे पर पीस लें ।
फिर नित्य सुबह नाश्ते से एक घंटे पहले एक चम्मच चूर्ण को गरम पानी के साथ लें और रात को भी खाने से एक घंटे से पहले एक चम्मच चूर्ण को गरम पानी के साथ लें ।
इसका लगातार 2 माह तक सेवन करने से मधुमेह समाप्त हो जाती है ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

8.
मधुमेह के रोगियों को नित्य हरे धनिया की चटनी अवश्य ही खानी चाहिए । हरा धनिया मधुमेह में बहुत लाभदायक है ।
यह शरीर में इन्सुलिन की मात्रा बढ़ाता है और खून में गुलूकोज़ की मात्रा को भी कम करता है।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

9.
मधुमेह के रोगियों को नित्य हरे धनिया की चटनी अवश्य ही खानी चाहिए । हरा धनिया मधुमेह में बहुत लाभदायक है ।
यह शरीर में इन्सुलिन की मात्रा बढ़ाता है और खून में गुलूकोज़ की मात्रा को भी कम करता है।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  

10.
मधुमेह और दिल के मरीजो के रोगियों के लिए बहुत लाभकारी प्रयोग :-
अच्छी क्वालिटी के दो मुट्ठी साफ गेंहू को 10 मिनट तक पानी में उबालने के बाद उन्हें ठंडा होने पर किसी कपडे में रख कर उसको लगातार पानी में भिगो कर रखे ताकि वो अंकुरित हो सके। उबालने के बाद 10-15 प्रतिशत गेंहू में ही अंकुरित होने का सामर्थ्य बचा होगा ।
जब 4-5 दिन के बाद गेंहू में लगभग एक इंच तक लंबे अंकुर निकल आये तो उन्हें सिर्फ दो से तीन तक खाली पेट खाएं इससे मधुमेह से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जायेगा । इस प्रयोग को ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने बहुत से लोगो पर जांचा और ये अद्भुत उपाय जांच में बिलकुल सही साबित हुआ।
यदि इसे दो और दिन तक अर्थात लगातार 5 दिन तक खाया जाय तो हार्ट अटैक की सम्भावना भी बिलकुल नगण्य हो जाती है ।
इसे खाने के बाद एक घंटे तक कुछ भी ना खाएं ।
(info@memorymuseum.net)
admin memorymuseum.net  


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

मधुमेह/शुगर के घरेलू उपचार

Madhumeh Ke Upchaar

मधुमेह/शुगर के आसान और घरेलु उपचारों से उसको नियंत्रण करने के लिए इन उपायों का अवश्य ध्यान रखें ।