Memory Alexa Hindi
यह साइट इस दुनिया के समस्त पित्तरों को समर्पित है। आप अपने समस्त श्रद्धेय दिवंगत प्रियजनों / पूर्वजों का यहाँ पर प्रोफाइल बना कर, उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि देकर उनके नाम को अमर कर दीजिये।

प्रस्तावना

मित्रों इस संसार में हम सभी मनुष्यों के वंश का एक इतिहास एक युग रहा है जिससे शायद हम परिचित भी नहीं है। आज हम जिस भी विकास की अवस्था में है उसके लिये हमारे पूर्वजों ने भी बहुत श्रम किया है। उन्होंने वृक्ष लगायें, कुओं जलाशयों एवं सरोवरों का निर्माण करवाया। चिकित्सा, योग, दर्शन, ज्योतिष, साहित्य, शिक्षा, कृषि, न्याय एवं धर्म के ग्रन्थों एवं नियमों का निर्माण किया था दूसरे शब्दों में आज विश्व में जो भी है वह ज्यादातर हमारे पूर्वजों के नियमों एवं सिद्धान्तों का ही परिष्कृत रूप है। विश्व के लगभग सभी प्रमुख धर्मो के धर्मग्रन्थ चाहे वह हिन्दुओं के पवित्र वेद या गीता, मुसलमानों की पाक कुरान, ईसाइयों की बाइबिल, सिक्खों की गुरूग्रन्थ साहब, बौधों की धम्मपद, पारसियों की गाथा या जैनियों की तत्वार्थसूत्र हो सभी की रचना हमारे पूर्वजों द्वारा ही की गयी है तथा इन समस्त ग्रन्थों का आज भी हमारे ऊपर पूर्णतया प्रभाव है सभी धर्मग्रन्थों में समाज के समस्त नियम एवं उपयोगी शिक्षाएं है।

हमारे जीवन के सभी प्रमुख क्षेत्रों बालक का जन्म हो या मुण्डन या नामकरण संस्कार, विवाह हो या मृत्यु तथा उसके बाद के क्रिया कलाप इन सभी के बारे में सभी धर्मों के धार्मिक ग्रथों में सैकड़ों हजारो साल पहले ही लिखा है तथा आज भी हम चाहे जिस भी धर्म को मानने वाले हों उन्ही नियमों का पालन करते आ रहे हैं।

हमें अपने पूर्वजों से नाम एवं संस्कार प्राप्त होते है तथा प्रत्येक व्यक्ति चाहता है कि उसके वंश का नाम रौशन हो।

यह भी सत्य है कि आज के मनुष्यों को अपने दादा-दादी, परदादा-परदादी, नाना-नानी, परनानी-परनानी या तमाम हमारे प्रियजन जो काल की नियति के कारण, असमय ही हमें छोड़ कर चले गये है उनके बारे में हमें पर्याप्त जानकारी नहीं है।

मैमोरी म्यूजियम डाट नैट श्रंद्धाजलि है उन प्रियजनों को समर्पित है हमारे दिव्य पूर्वजों को जिनकों हम कभी भी भुला नही पायेंगे। हम इस साइट के माध्यम से उनके नाम, तस्वीरों, कार्यों, विचारों एवं उपलब्धियों से दुनिया को परिचित कराकर उनसे प्रेरणा लेकर उनके प्रति श्रृद्धा एवं कृतज्ञता प्रकट कर सकते है।

Ad space on memory museum