Memory Alexa Hindi
Ad space on memory museum

गुरुद्वारा
Gurudwara


images

गुरुद्वारा हेमकुंड साहिब
Gurudwara Hemkund Sahib






हेमकुण्ड साहिब सिक्ख धर्म का एक पवित्र स्थल है जो उत्तराखण्ड राज्य में है। यह समुद्र तल से 4329 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। यहाँ बर्फ से ढके सात पहाड़ है जिन्हें हेमकुण्ड पर्वत के नाम से जाना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि पहले यहाँ पर एक मंदिर था जिसका निर्माण भगवान राम के छोटे भाई लक्ष्मण जी ने करवाया था। यह स्थान सिक्खों के लिये एक तीर्थ का दर्जा रखता है। सिक्खों के दसवें गुरू गोविंद सिंह ने यहाँ पर तपस्या की थी तथा मान्यता है कि गुरू गोविन्द सिंह जी को ‘गुरू ग्रन्थ साहिब लिखने की प्रेरणा यहीं से मिली थी’ बाद में यहाँ पर एक गुरूद्वारे का निर्माण किया गया यह गुरूद्वारा तार के आकार का बना है। इस पवित्र दर्शनीय तीर्थ में चारों ओर से बर्फ की ऊँची चोटियों का प्रतिबिम्ब, विशालकाय झील में बिलकुल सजीव दिखाई पड़ता है। इस झील में हाथी पर्वत और सप्तऋषि पर्वत श्रंृखलाओं से पानी आता है। इस झील से एक छोटी जल धारा निकलती है जिसे हिमगंगा कहते है। बहुत अधिक ऊँचाई पर होने के कारण वर्ष में सात महीने के लगभग यह झील बर्फ के रूप में जमी रहती है। अतः इसे स्नोलेक के रूप में भी जाना जाता है। हेमकुण्ड साहिब को ढूँढ़ने का श्रेय हवलदार सोहन सिंह जी को जाता है। हेमकुण्ड साहिब की इतनी मान्यता है कि खराब मौसम और विषम परिस्थितियों के बावजूद भी जुलाई से अक्टूबर माह तक हजारों श्रद्धालु यहाँ के दर्शन कर अपना जीवन सफल बनाते है तथा इस पवित्र एवं रोमांचक यात्रा को जीवन भर भूल नहीं पाते है। मान्यता है कि गुरू गोविन्द सिंह जी की इस तपोस्थली, गुरूद्वारा एवं सरोवर के दर्षन से असीमित पुण्य मिलता हैं एवं मनुष्य के सारे पाप कट जाते है। झील के किनारे स्थित लक्ष्मण मंदिर भी अत्यन्त पवित्र एवं दर्शनीय है। यहाँ से निकट फूलों की घाटी भी एक रोमांचक पर्यटन स्थल है।


Ad space on memory museum



दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।