Bootstrap Example
loading...

धनतेरस कैसे मनाएं

dhanteras-kaise-manaye

धनतेरस कैसे मनाएं

dhanteras-kaise-manaye

Om Sign धनतेरस कैसे मनाएं Om Sign


dhanteras-kaise-manaye


धनतेरस दीपावली के 5 पर्वो में सबसे प्रथम पर्व है। यह पाँचो दिन अत्यंत शुभ और पुण्यदायक माने गए है। धनतेरस वर्ष का वह शुभ दिन है जिस दिन कुछ बातों को ध्यान में रखकर समस्त आर्थिक संकटो को दूर करते हुए स्थाई रूप से सुख-समृद्धि को प्राप्त किया जा सकता है । शास्त्रो के अनुसार इस दिन किये गए उपाय अति फलदायी होते है,घर में निरन्तर धन का आगमन होता है। धनतेरस के दिन कुछ उपायों को करके जीवन में श्रेष्ठ सफलता एवं धन सम्पति की प्राप्ति होती है। यहाँ पर है आपको धनतरेस के कुछ उपायों को बता रहे है जिन्हें करके निश्चय ही उत्तम लाभ मिलता है।

Om Signभगवान धन्वंतरि आयुर्वेद के जनक माने गये है इसीलिए यह दिन आरोग्य और दीर्घायु प्राप्ति का दिन भी माना गया है । इस दिन प्रभु धन्वंतरि की धूप दीप जलाकर , पुष्प चडाकर सच्चे मन से पूजा, अर्चना, प्रार्थना करने से मनुष्य को सभी रोगो में लाभ की प्राप्ति होती है ।

Om Signधनत्रयोदशी के दिन यमराज जी की भी आराधना उनका ब्रत किया जाता है ।

Om Signइस दिन संध्या के समय घर के बाहरी मुख्य द्वार के दोनों ओर अनाज के ढेर पर मिटटी के दीपक को तेल से भर कर अवश्य ही जलाना चाहिए दीपक को दक्षिण दिशा की तरफ मुंख करके निम्न मन्त्र का जाप करते हुए रखना चाहिए ।

म्रत्युना दंडपाशाभ्याँ कालेन श्याम्या सह ,

त्रयोदश्याँ दीप दानात सूर्यज प्रीयतां मम।

Om Signयह क्रिया यम दीपदान कहलाती है , कोशिश करनी चाहिए की दीपक बड़ा हो जिससे वह रात भर जलता रहे ऐसा करने से यमराज जी प्रसन होते है ओर उस घर के सदस्यों को दुर्घटना , बिमारियों , आकाल म्रत्यु आदि का कोई भी भय नहीं रहता है , सभी सदस्य निरोगी ओर दीर्ध आयु को प्राप्त करते है।
और यदि घर की स्त्री इस दिन यमराज के निमित स्वयं दीपदान करें तो पूरा परिवार अवश्य ही आरोग्य एवं दीर्घायु को प्राप्त करता है।

Om Sign इस दिन भगवान कुबेर की भी पूर्ण श्रद्धा से पूजन करना अनिवार्य है . कुबेर जी धनाध्यक्ष है , सम्पति प्रदान करने वाले है , इनकी सच्चे मन से पूजा करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है , कुबेर जी अपने भक्तों के समस्त अभावों को दूर करके उनको स्थायी सुख सम्पति प्रदान करते है .

Om Sign आज इनकी आराधना से जातक को महान फल कि प्राप्ति होती है। नीचे दिए गए कुबेर मन्त्र कि साधना से व्यक्ति को जीवन में हर भौतिक सुख समृद्धि कि प्राप्ति होती है।

मंत्र- ॐ श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय: नम:

कुबेर मंत्र को दक्षिण की और मुख करके ही सिद्ध किया जाता है।

Om Sign धनतेरस का दिन धन वृद्धि / धनागमन का दिन माना गया है , इस दिन दोपहर के बाद बर्तन खरीदना अत्यंत शुभ माना गया है , इस दिन चाँदी के बर्तन खरीदने से वर्ष भर घर में सुख सम्पदा स्थायी रूप से बनी रहती है , चाँदी के उपलब्ध न होने पर अन्य धातुओं के बर्तन खरीद सकते है ।

Om Sign धनतेरस के दिन सोने, चांदी के बर्तन, सिक्के और आभूषण खरीदने की परंपरा प्राचीन काल से ही चली आ रही है। सोना चाँदी , आभूषण खरीदना और धारण करना बहुत ही शुभ माना जाता है । सोना धारण करने से सौंदर्य में वृद्धि तो होती ही है, सोना मुश्किल घड़ी में काम भी आता है। धनतेरस के दिन शगुन के रूप में सोने या चांदी के सिक्के खरीदना भी बहुत शुभ माना जाता हैं। कहते है कि इस दिन धन को इन चीजो में लगाने से उसमें 13 गुणा की वृद्धि होती है। लोग इस दिन ही दीवाली की रात पूजा करने के लिए लक्ष्मी व गणेश जी की मूर्ति भी खरीदते हैं।

Om Sign धनतेरस के दिन बर्तन खरीद कर घर में लाते समय खाली न लाएं उसमें कुछ न कुछ मीठा अवश्य डाल कर लाएं .....अगर बर्तन छोटा हो या गहरा न हो तो मीठा उस बर्तन के साथ रख कर लाएं ...आपका घर सदैव धन धान्य से भरा रहेगा ।

Om Sign धनतेरस के दिन तिजोरी में अखंडित अक्षत ( साबुत चावल ) रखे जाते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से तिजोरी में कुबेर देव का वास होता है, घर में धन-समृद्धि की कोई भी कमी नहीं होती है। इस दिन पीतल या चाँदी की खरीददारी अत्यंत शुभ समझी जाती है। पीतल भगवान धन्वंतरी की धातु है धनतेरस के दिन ही भगवान धन्वंतरि हाथ में पीतल का अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। इस दिन शुभ मुहूर्त में पीतल खरीदने से घर के सदस्य आरोग्य एवं दीर्घ आयु को प्राप्त करते है।
इस दी चाँदी की खरीददारी भी अत्यंत शुभ मानी जाती है । चाँदी कुबेर देव की प्रिय धातु है। इस दिन चाँदी खरीदने से घर में घर परिवार में सुख-समृद्धि, ऐश्वर्य एवं यश की प्राप्ति होती है।

Om Signधनतेरस के दिन मान्यता है कि कोई किसी को भी उधार नही देता है। इस दिन सभी लोग नई वस्तुएं लातें है। इस दिन घर / कारोबार में दीपावली की पूजा के लिए नए गणेश लक्ष्मी भी घर लाएं जाते है। धनतेरस और दीपावली दोनों त्योहारों में धन की देवी लक्ष्मी जी की पूजा का विशेष महत्त्व है। धनतेरस के दिन माँ लक्ष्मी के पैरो के छोटे छोटे चिह्नों को घर में स्थापित करना बहुत ही शुभ माना जाता है और सांय को 13 दीपक जलाकर माँ लक्ष्मी के पैरो के चिह्नों की पूजा की जाती है।




दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

धनतेरस कैसे मनाएं

dhanteras-kaise-manaye

धनतेरस कैसे मनाएं

dhanteras-kaise-manaye