Memory Alexa Hindi

चंद्र ग्रहण में क्या करें

Chandra Grahan Me Kya Kare

chandra-grahan-me-rakhe-dhyan




चंद्र ग्रहण में रखे ध्यान
Chandra grahan me rakhe dhyan


chandra-grahan-me-rakhe-dhyan


चंद्रग्रहण में सावधानियाँ
Chandra grahan me savdhaniya


हिन्दू धर्म में ग्रहण को बहुत विशेष माना जाता है, हालांकि ग्रहण एक खगोलीय घटना है लेकिन कई हिन्दु शास्त्रों, भविष्यपुराण, नारदपुराण आदि में चन्द्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण से संबंधित बहुत सी बातें विस्तार से लिखी हैं जिसके अनुसार ग्रहण के दौरान किये गये कार्यो से अहित ही होता है।
चूँकि चन्द्रमा मन का कारक है और चंद्रग्रहण का सीधे सीधे मन मस्तिष्क पर बुरा असर पड़ता है इसलिए चंद्रग्रहण में हर अच्छे काम को करने से मना किया जाता है।
जानिए चंद्रग्रहण में किन बातो का ध्यान रखना चाहिए, चंद्रग्रहण में सावधानियाँ, ( Chandra grahan me savdhaniya ) चंद्रग्रहण में क्या करें क्या ना करे, ( Chandra grahan me kya kare kya na kare )

hand-logo शास्त्रों के अनुसार ग्रहण शुरू होने से पहले स्नान, ग्रहण के मध्य में हवन,पूजा-पाठ , जाप और ग्रहण की समाप्ति पर दान पुण्य करना चाहिए, इससे श्रेष्ठ लाभ प्राप्त होता है।

hand-logo ग्रहण के दौरान भूल कर भी देवी-देवताओं की मूर्ति और तुलसी के पौधे का स्पर्श नहीं करना चाहिए।

hand-logo ग्रहण के समाप्त होने के बाद सर्वप्रथम स्नान करें फिर भगवान की मूर्तियों को स्नान कराएं तत्पश्चात ही पूजा पाठ करनी चाहिए।

hand-logo चंद्रग्रहण ( Chandra Grahan ) के समय गायों को हरी घास/ साग , पक्षियों को अन्न, चींटियों को भुना हुआ आटा, जरूरत मंदों को दान देने से अनंत गुना पुण्य प्राप्त होता है।

hand-logo चंद्रग्रहण ( Chandra grahan ) के समय धोखा, ठगी ,क्रोध, हिंसा भी कतई भी नहीं करनी चाहिए|

hand-logo चंद्रग्रहण ( Chandra grahan ) के समय किसी से धोखा, ठगी करने से सर्प की योनि मिलती है और क्रोध करने, हिंसा करने या किसी भी जीव-जन्तु की हत्या करने से चिर काल तक नारकीय योनी में भटकना पड़ता है ।

hand-logo चंद्रग्रहण ( Chandra grahan ) वाले दिन किसी भी व्यक्ति को किसी भी दशा में माँस और मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए, बहुत से लोग चंद्रग्रहण से पहले या बाद में उक्त का सेवन करते है और यह तर्क देते है कि उन्होंने चंद्रग्रहण के समय नहीं लिया है लेकिन यह बिलकुल गलत है ।
चंद्रग्रहण ( Chandra Grahan ) वाले दिन माँस मदिरा का सेवन करने वाला घोर नरक का पापी होता है इसका पाप ना केवल उसे वरन उसके वंश को भी भोगना पड़ता है । ऐसे व्यक्ति के परिवार में असाध्य रोग अपना घर बना लेते है।

hand-logo चंद्रग्रहण ( Chandra grahan ) के दिन पत्ते, तिनके, लकड़ी और फूल नहीं तोड़ना चाहिए।

hand-logo चंद्रग्रहण ( Chandra Grahan ) के अवसर पर मनुष्यों को पृथ्वी को भी नहीं खोदना चाहिए ।

hand-logo इस समय कोइ भी शुभ और नया कार्य शुरु नहीं करना चाहिये ।

hand-logo चंद्रग्रहण में घर में खूब सफाई रखे, चूँकि चंद्रग्रहण ( Chandra Grahan ) के दौरान झाड़ू नहीं लगती, अतः पहले से ही पूरे घर में साफ़-सफाई कर लें

hand-logo गर्भवती स्त्री को चंद्रग्रहण ( Chandra Grahan ) के समय विशेष ध्यान रखना चाहिए । गर्भवती स्त्री को चंद्रग्रहण नहीं देखना चाहिए, क्योंकि उसके दुष्घ्प्रभाव से शिशु अंगहीन होकर विकलांग बन सकता है । गर्भपात की संभावना बढ़ती है । इसके लिए गर्भवती के उदर भाग में गोबर और तुलसी का लेप लगा दिया जाता है, जिससे कि राहू केतू उसका स्पर्श न करें ।

hand-logo चंद्रग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्री को कुछ भी कैंची, चाकू आदि से काटने, वस्त्र आदि को सिलने से मना किया जाता है । क्घ्योंकि माना जाता है कि ऐसा करने से शिशु के अंग या तो कट जाते हैं या फिर सिल (जुड़) जाते हैं।

hand-logo मान्यता है कि जो गर्भवती स्त्री ग्रहण के दौरान प्रसन्नचित होकर पूरी श्रद्धा से पूजा पाठ, मंत्रो का जाप करती है उसकी सन्तान बहुत ही योग्य, गुणवान और कुल का नाम रौशन करने वाली होती है।






दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।