Memory Alexa Hindi


आँखों से चश्मा हटाने के उपाय
Ankhon Se chasma hatane ke upay


रक्षाबन्धन



चश्मा उतारने के उपाय
Chasma Utarne ke upay



हमारी आँखें ईश्वर के बनाये इस सुंदर संसार को देखने के लिए हमारे पास एकमात्र जरिया है। टीवी, कंप्यूटर, स्मार्ट फोन के आने से पहले समान्यता: आँखों की रौशनी ankho ki raushni, उम्र बढ़ने के साथ ही कम होती थी लेकिन वर्तमान समय में छोटे-छोटे बच्चों की भी आंख्ने कमजोर ankhe kamjor होने लगी है,उनकी भी आँखों में चश्मा ankho men chashma लग जाता है।
आँखों में चश्मा लगने का मुख्य कारण कंप्यूटर, टीवी, मोबाईल का ज्यादा चलन, लेट कर एवं कम रौशनी में पढ़ना, पौष्टिकता की कमी, आँखों की सही तरीके से देखभाल ना करना, या आनुवांशिक हो सकता है। लेकिन ऐसा नहीं है कि एक बार चश्मा लग गया तो वह उतारा नहीं जा सकता है।
आनुवांशिक कारण को छोडकर अन्य किसी भी कारण से यदि आँखे कमजोर हो गयी हो तो निश्चित ही सही देख-भाल, कुछ देसी इलाज से आँखों से चश्में हटाया ankho se chashma hataya जा सकता है।
जानिए आँखों से चश्मा कैसे हटाएँ, ankho se chashma kaise hatayen, आँखों से चश्मा हटाने के उपाय, ankho se chashma hatane ke upay,| चश्मा उतारने के उपाय, chashma utarne ke upay

hand logo लाल मसूर की दाल जिसे मलका मसूर भी कहते है यह दाल आँखों के लिए अत्यंत लाभकारी है। इस दाल को नित्य लगभग 50 ग्राम देसी घी में तलकर लगातर 5 दिनों तक खाएं फिर 2 दिन नागा ( अर्थात 2 दिन नहीं खाएं ) करे। इसके बाद फिर 5 दिन तक इसे खाएं, फिर 2 दिन नागा करे। इस प्रक्रिया को लगातार 5 बार करे। इससे आँखों की रौशनी तेज होती है, धुंधलापन दूर होता है, कुछ ही समय में आँखों से चश्मा उतर जाता है ।
इस उपाय को करने से बुढ़ापे तक आँखों में चश्मा नहीं लगेगा।

hand logo एक चम्मच त्रिफला चूर्ण, एक चम्मच शहद और 2 चम्मच गाय के घी को आपस में मिलाकर नित्य रात को सोने से पहले चाट लें । इससे आँखों के रोग दूर रहते है , आँखों की रौशनी बढ़ती है और शारीरिक कमजोरी भी दूर होती है । इसको लगतार करने से 3 महीने में ही चश्मे का नम्बर सुधरने लगता है, 6 से 9 महीने के भीतर ही आँखों से चश्मा उतर भी जाता है । ( ध्यान रहे कि घी और शहद बराबर मात्रा में ना हो )

hand logo एक चम्मच मुलेठी का पाउडर , एक चम्मच शहद और आधा चम्मच देसी घी इन तीनो को मिलाकर एक गिलास गर्म दूध के साथ सुबह शाम लगातार 3 माह तक लेने से नेत्रों की पड़ने की रौशनी बहुत बड़ जाती है ।

hand logo प्रतिदिन भोजन के साथ 50 से 100 ग्राम मात्रा में पत्तागोभी के पत्तों का सलाद बारीक कतर कर, इन पर पिसा हुआ सेंधा नमक और काली मिर्च डालकर खूब चबा-चबाकर खाएँ।

hand logo आंखों की स्वस्थ्यता के लिए अच्छी नींद जरूरी है, नहीं तो आंखों के नीचे काला घेरा पड़ जाता है और रोशनी भी कम होती है।

hand logo जब आँख भारी होने लगे नींद का समय हो जाए तब जागना उचित नहीं। सूर्योदय के बाद सोये रहने, दिन में सोने और रात में देर तक जागने से आँख पर बुरा प्रभाव पड़ता है और धीरे-धीरे आँखे रुखी और बेजान होने लगती है

hand logo लगातार, बिस्तर पर लेट कर और यात्रा के दौरान पढ़ना नहीं चाहिए। पढ़ाई के समय आंखों को पर्याप्त विश्राम दें। अतिरिक्त सूर्य की और भी टकटकी लगाकर नहीं देखना चाहिए।

hand logo आंखों की रोशनी तेज करने के लिए अपनी डाइट में प्याज और लहसुन को जरूर शामिल करें। इनमें सल्फर होता है जो आंखों के लिए ग्लूटाथाइन नामक एंटीऑक्सीडेंट तैयार करता है, जिससे नेत्रों की ज्योति बढ़ती है ।

hand logo सोया व इसके उत्पाद में फैट्स बहुत कम व प्रोटीन बहुत अच्छी मात्रा में होता है। इसमें जरूरी फैटी एसिड, विटामिन ई व कई जरूरी तत्व होते हैं जो आंखों के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं।

hand logo बालों पर रंग, हेयर डाई और केमीकल वाले शैम्पू नहीं लगाना चाहिए इसका भी बुरा असर हमारी आँखों पर पड़ता है ।

hand logo लगातार टीवी देखने से आंखों की ज्योति घटती है क्योंकि टीवी से निकलने वाली घातक किरणे हमारी आँखों को बहुत ज्यादा नुकसान पहुँचती है। कभी भी बहुत पास या बहुत दूर और लेटकर भी टीवी नहीं देखना चाहिए ।

hand logo आँखों से चश्मा हटाने के लिए अपनी आँखों के आस पास अखरोट के तेल की मालिश करें इससे आँखों की रौशनी तेज होती है और आँखों से चश्मा भी उतर जाता है । यह बहुत ही आसान किन्तु अचूक उपाय है ।

hand logo नज़र तेज करने के लिए एक कटोरी में एक चाय का चम्मच गाय का घी लेकर उसमें 1 / 4 चम्मच काली मिर्च का पाउडर मिलाएं। इसका नित्य प्रात: सेवन करने से आँखों की रौशनी तेज होती है ।

<< पिछले पेज पर जाएँ                                           अगले पेज पर जाएँ >>

Loading...


इस साइट के सभी आलेख शोधो, आयुर्वेद के उपायों, परीक्षित प्रयोगो, लोगो के अनुभवों के आधार पर तैयार किये गए है। किसी भी बीमारी में आप अपने चिकित्सक की सलाह अवश्य ही लें। पहले से ली जा रही कोई भी दवा बंद न करें। इन उपायों का प्रयोग अपने विवेक के आधार पर करें,असुविधा होने पर इस साइट की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी ।