Memory Alexa Hindi

आज के शुभ , अशुभ मुहूर्त

shani-dev

दोस्तों हर दिन कुछ समय बहुत शुभ और कुछ समय सावधानी बरतने वाले होते है …इनको समझ कर आसानी से अपने मनवाँछित परिणाम प्राप्त करने के लिए इस निशुल्क साईट पर अवश्य ही विजिट करें

Backword ImageBackword Image रविवारमंगलवार Forward ImageForward Image

सोमबार के शुभ अशुभ मुहूर्त


प्रत्येक दिन में शुभ अशुभ दोनों ही समय आते है । यदि हमें इसके बारे में पूर्व में ही जानकारी मिल जाये, हम शुभ समय का पूरा उपयोग कर लें और अशुभ समय में अपना कोई भी महत्वपूर्ण, नया कार्य शुरू ना करें, उस समय थोड़ी सी सावधानी रखें, तो हमें निश्चित ही अपने कर्मों के सुखद फल प्राप्त होंगे।जो हमारे दैनिक कार्य है या जिन कार्यों के बीच में शुभ अशुभ समय आता है उसकी मान्यता नहीं मानी जाती है,
अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज के मुहूर्त ( muhurat ) शुभ अशुभ मुहूर्त ( Shubh Ashubh muhurat ) ।

Kalash One Image तिथि- आज मार्गशीर्ष (अगहन) माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि दिन सोमवार है ।

Kalash One Image तिथि समय - अष्टमी - 11:02 तक तदुपरान्त नवमी

अष्टमी तिथि के स्वामी भगवान शिव कहे गए है। अष्टमी तिथि को भगवान शिव की विधि पूर्वक पूजा करने से समस्त सिद्धियां प्राप्त होती है , पूजा में उन्हें नारियल का भोग अर्पित करें अथवा शिवजी भगवान के लिए बनाए जाने वाले प्रसाद में नारियल का उपयोग करें लेकिन अष्टमी को नारियल का सेवन ना करें।

अष्टमी तिथि का नाम कलावती कहा गया है। मंगलवार को छोड़कर अष्टमी तिथि सभी प्रकार के कार्यो के शुभ है । अष्टमी तिथि में किसी भी प्रकार की ललित कला और विद्याएं सीखना अत्यन्त शुभ माना गया है।


आज के शुभ मुहूर्त

सर्वदोषनाशक रवि योग योग

27 नवम्बर को सायं 04:37 से 28 नवम्बर को सायं 05:21 तक ।


आज का अभिजित मुहूर्त (शुभ समय)

अभिजित मुहूर्त दिन का आठवां मुहूर्त होता है और यह मघ्याह्न ( दोपहर लगभग 12 बजे ) के समय आता है। और इसके 24 मिनट पहले और 24 मिनट बाद में (अर्थात 48 मिनट) इसका प्रारम्भ और अंत माना जाता है।अर्थात 11.36 से 12.24 तक |


आज का गुलीक काल (शुभ समय) Forward ImageForward Image

सोमवार ---- दोपहर 1.30 से 3 बजे तक

चौघड़िया, ( Chaughadiya ) किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में , कार्यो की सफलता हेतु चौघड़िया को अवश्य ही देखना चाहिए| एक चौघड़ियाँ 1.30 घंटे की होती है, शुभ चौघड़ियां में कार्य करने से समान्यता कार्य सफल होते है |

चौघड़िया, ( Chaughadiya ) किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में, कार्यो की सफलता हेतु चौघड़िया को अवश्य ही देखना चाहिए| एक चौघड़ियाँ 1.30 घंटे की होती है, शुभ चौघड़ियां में कार्य करने से समान्यता कार्य सफल होते है |

आज की दिन की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की अमृत चौघड़िआ ----- 6.00 AM To 7.30 AM

दिन की शुभ चौघड़िआ ---- 9.00 AM To 10.30 AM

दिन की चर चौघड़िआ ---- 1:30 PM To 3:00 PM

दिन की लाभ चौघड़िआ ---- 3.00 PM To 4.30 PM

दिन की अमृत चौघड़िआ ----- 4.30 PM To 6.00 PM

आज की रात्रि की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

चर चौघड़िया ----- रात्रि 6:00 PM To 07:30 PM

लाभ चौघड़िया ----- रात्रि 10.30 PM To 12.00 PM

शुभ चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 1.00 AM To 3.00 AM

अमृत चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 3.00 AM To 4.30 PM प्रात: काल


पूर्व दिशा---------घर से दर्पण देखकर, दूध पीकर जाएँ


आज के अशुभ मुहूर्त

राहु काल ( Rahu kaal )
राहु काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए |

आज का राहु काल (अशुभ समय) Forward ImageForward Image

सोमवार ---- सुबह -7.30 से 9-00 तक।

अशुभ चौघड़िया ( aashubh chaughadiya )
अशुभ चौघड़ियाँ में शुभ कार्य टालना ही बुद्धिमानी है|

आज की दिन की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की काल चौघड़िया ----- प्रात: काल 7.30 AM 9.00 AM

दिन की रोग चौघड़िया ---- प्रात: काल 10.30 AM 12.00 PM

दिन की उद्बेग चौघड़िया ---- अपराह्न 12.00 PM 1.30 PM

आज की रात्रि की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

रात्रि की रोग चौघड़िया ----- रात्रि 7.30 PM 9.00 PM

रात्रि की काल चौघड़िया ---- रात्रि 9.00 PM 10.30 PM

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 12.00 AM 1.30 AM



Kalash One Image इस महीने में तेल की मालिस करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में ठन्डे पेय पदार्थों का सेवन बिलकुल बंद कर दें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन (नवम्बर-दिसम्बर) में ज्यादा ठंडी, ज्यादा गर्म चीजो का सेवन ना करें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में जीरा ना खाएं लेकिन खाद्य तेल का इस्तेमाल अवश्य करें अर्थात तेल से बनी हुई चीजे अधिक खाएं ।
Kalash One Image मार्गशीर्ष (अगहन) माह भगवान श्री कृष्ण को बहुत पसंद है इस महीने में गीता का पाठ करने से भगवान दामोदर की कृपा बनी रहती है ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

Backword ImageBackword Image सोमबार बुधवार Forward ImageForward Image

मंगलवार के शुभ अशुभ मुहूर्त




प्रत्येक दिन में शुभ अशुभ दोनों ही समय आते है । यदि हमें इसके बारे में पूर्व में ही जानकारी मिल जाये, हम शुभ समय का पूरा उपयोग कर लें और अशुभ समय में अपना कोई भी महत्वपूर्ण, नया कार्य शुरू ना करें, उस समय थोड़ी सी सावधानी रखें, तो हमें निश्चित ही अपने कर्मों के सुखद फल प्राप्त होंगे।जो हमारे दैनिक कार्य है या जिन कार्यों के बीच में शुभ अशुभ समय आता है उसकी मान्यता नहीं मानी जाती है।
अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज के मुहूर्त ( muhurat ) शुभ अशुभ मुहूर्त ( shubh ashubh muhurat )

Kalash One Image तिथि- आज मार्गशीर्ष (अगहन) माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि है ।


Kalash One Image तिथि समय - तृतीया - 24:11 तक तदुपरांत चतुर्थी ।

तृतीया तिथि की स्वामी माँ गौरी और कुबेर जी है । तृतीया तिथि में माँ गौरी जी की दूध मिठाई, अक्षत और सफ़ेद फूल से पूजा अर्चना करने से जीवन में सुख सौभाग्य की वृद्धि होती है। तृतीया को देवताओं के कोषाध्यक्ष और भगवान शंकर के प्रिय मित्र कुबेर जी की अवश्य ही पूजा करनी चाहिए।

शिवजी को सर्वाधिक प्रिय बेल पत्रों से कुबेर जी की पूजा करने, कुबेर देव के मन्त्र का जाप शिवजी के मंदिर में या बिल्व (बेल) पेड़ के नीचे बैठ कर करने से विशेष फल फल मिलता है।

कुबेर का मंत्र इस प्रकार है-
‘ओम श्री ओम हृं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नम:।’

इस जप के लिये सर्वोत्तम समय प्रातः काल है। घर में उत्तर दिशा में कुबेर देव जी की तस्वीर अथवा मूर्ति की स्थापना करनी चाहिए । शास्त्रों के अनुसार कुबेर देव की आराधना करने वाला मनुष्य धनाढ्य तथा सुख-समृद्धि से संपन्न हो जाता है औरउसके परिवार के सभी सदस्य आरोग्य प्राप्त करते है ।

आज के शुभ मुहूर्त

आज का अभिजित मुहूर्त (शुभ समय)

अभिजित मुहूर्त दिन का आठवां मुहूर्त होता है और यह मघ्याह्न ( दोपहर लगभग 12 बजे ) के समय आता है। और इसके 24 मिनट पहले और 24 मिनट बाद में (अर्थात 48 मिनट) इसका प्रारम्भ और अंत माना जाता है।अर्थात 11.36 से 12.24 तक |

आज का गुलीक काल (शुभ समय) Forward ImageForward Image

मंगलवार ---- दोपहर 12 से 1.30 बजे तक

चौघड़िया, (Chaughadiya) किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में, कार्यो की सफलता हेतु चौघड़िया को अवश्य ही देखना चाहिए| एक चौघड़ियाँ 1.30 घंटे की होती है, शुभ चौघड़ियां में कार्य करने से समान्यता कार्य सफल होते है |

आज की दिन की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की लाभ चौघड़िया ----- प्रात: काल 09:00 AM To 10:30 AM

दिन की लाभ चौघड़िया ----- प्रात: काल 10.30 AM To 12.00 AM

दिन की अमृत चौघड़िया ---- मध्यान 12.00 PM To 1.30 PM अपराह्न

दिन की शुभ चौघड़िया ---- अपराह्न 3.00 PM To 4.30 PM

आज की रात्रि की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

लाभ चौघड़िया ----- रात्रि 7.30 PM To 9:00 PM

शुभ चौघड़िया ---- रात्रि 10.30 PM To 12:00 PM मध्य रात्रि

अमृत चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 12.00 PM To 1:30 AM

चर चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 01:30 AM To 3:00 AM


उत्तर दिशा---------घर से गुड़ खाकर जाएँ


आज के अशुभ मुहूर्त

मूल-संज्ञक नक्षत्र

ज्येष्ठा मूल 19 नवम्बर को रात्रि 09:57 से 21 नवम्बर को देर रात्रि 03:51 तक
राहु काल ( Rahu kaal )

राहु काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए |

आज का राहु काल (अशुभ समय) Forward ImageForward Image

मंगलवार ---- दिन -3:00 से 4:30 तक।

अशुभ चौघड़िया ( aashubh chaughadiya )

अशुभ चौघड़ियाँ में शुभ कार्य टालना ही बुद्धिमानी है|

आज की दिन की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की रोग चौघड़िया ----- प्रात: काल 6.00 AM 7.30 AM

दिन की उद्बेग चौघड़िया ---- प्रात: काल 7.30 AM 9.00 AM

दिन की काल चौघड़िया ---- मध्यान 1.30 PM 3.00 PM अपराह्न

दिन की रोग चौघड़िया ---- सायं काल 4.30 PM 6.00 PM

आज की रात्रि की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

रात्रि की काल चौघड़िया ----- सायं काल 6.00 PM 7.30 PM रात्रि

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया ---- रात्रि 9.00 PM 10.30 PM

रात्रि की रोग चौघड़िया ---- रात्रि 3.00 AM 4.30 AM

रात्रि की काल चौघड़िया ---- प्रात: काल 4.30 AM 6.30 AM



Kalash One Image इस महीने में तेल की मालिस करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में ठन्डे पेय पदार्थों का सेवन बिलकुल बंद कर दें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन (नवम्बर-दिसम्बर) में ज्यादा ठंडी, ज्यादा गर्म चीजो का सेवन ना करें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में जीरा ना खाएं लेकिन खाद्य तेल का इस्तेमाल अवश्य करें अर्थात तेल से बनी हुई चीजे अधिक खाएं ।
Kalash One Image मार्गशीर्ष (अगहन) माह भगवान श्री कृष्ण को बहुत पसंद है इस महीने में गीता का पाठ करने से भगवान दामोदर की कृपा बनी रहती है ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

Backword ImageBackword Image मंगलवार बृहस्पतिवार Forward ImageForward Image

बुधवार के शुभ अशुभ मुहूर्त


प्रत्येक दिन में शुभ अशुभ दोनों ही समय आते है । यदि हमें इसके बारे में पूर्व में ही जानकारी मिल जाये, हम शुभ समय का पूरा उपयोग कर लें और अशुभ समय में अपना कोई भी महत्वपूर्ण, नया कार्य शुरू ना करें, उस समय थोड़ी सी सावधानी रखें, तो हमें निश्चित ही अपने कर्मों के सुखद फल प्राप्त होंगे।जो हमारे दैनिक कार्य है या जिन कार्यों के बीच में शुभ अशुभ समय आता है उसकी मान्यता नहीं मानी जाती है,
अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज के मुहूर्त ( muhurat ) शुभ अशुभ मुहूर्त ( shubh ashubh muhurat ) ।

Kalash One Image तिथि- आज मार्गशीर्ष (अगहन) माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि दिन बुधवार है ।

Kalash One Image तिथि समय - चतुर्थी - रात्रि 02:54 तक तदुपरांत पंचमी ।

चतुर्थी तिथि के स्वामी विघ्नविनाशक गणपति गणेश जी है । इस तिथि का एक नाम खला भी है खला जिसका अर्थ है किसी विशेष परिणाम / सफलता का प्राप्त ना होना। इसलिए चतुर्थी तिथि में प्रारम्भ किए गए कार्यों के विशेष परिणाम प्राप्त नहीं होते हैं ।

इस तिथि के स्वामी विघ्नविनाशक श्री गणेश जी की आराधना से जीवन के सारे विघ्न दूर हो जाते हैं। चतुर्थी को भगवान गणेश जी के मन्त्र "ॐ गं गणपतये नमः" का अवश्य ही जाप करें । इस दिन ज्यादा से ज्यादा इस मन्त्र का उच्चारण करने से जीवन के सभी कष्ट दूर होते है, कर्ज मिटता है । जीवन में धन, यश और बुद्दि की प्राप्ति होती है ।

आज के शुभ मुहूर्त

सर्वदोषनाशक रवि योग योग

21 नवम्बर को देर रात्रि 03:51 से 23 नवम्बर को प्रात: 06:59 तक ।


आज का अभिजित मुहूर्त (शुभ समय)

अभिजित मुहूर्त दिन का आठवां मुहूर्त होता है और यह मघ्याह्न ( दोपहर लगभग 12 बजे ) के समय आता है। और इसके 24 मिनट पहले और 24 मिनट बाद में (अर्थात 48 मिनट) इसका प्रारम्भ और अंत माना जाता है।अर्थात 11.36 से 12.24 तक |

आज का गुलीक काल (शुभ समय) Forward ImageForward Image

बुधवार ----- प्रातः 10.30 से 12 बजे तक

चौघड़िया, ( Chaughadiya ) किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में, कार्यो की सफलता हेतु चौघड़िया को अवश्य ही देखना चाहिए| एक चौघड़ियाँ 1.30 घंटे की होती है, शुभ चौघड़ियां में कार्य करने से समान्यता कार्य सफल होते है |

आज की दिन की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की लाभ चौघड़िया ----- प्रात: काल 6.00 AM To 7.30 AM

दिन की अमृत चौघड़िया --- प्रात: काल 7.30 AM To 9.00 AM

दिन की शुभ चौघड़िया ---- प्रात: काल 10.30 AM To 12.00 PM

दिन की चर चौघड़िया ---- अपराह्न 03:00 PM To 04:30 PM

दिन की लाभ चौघड़िया ------ सायं काल 4:30 PM To 6.00 PM

आज की रात्रि की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

शुभ चौघड़िया ------ रात्रि 7.30 PM To 9.00 PM

अमृत चौघड़िया ---- रात्रि 9.00 PM To 10.30 PM

चर चौघड़िया ---- रात्रि 10:30 PM To 12:00 AM

लाभ चौघड़िया ----- मध्य रात्रि 3.30 AM To 4.30 AM


उत्तर दिशा---------घर से सुखा/हरा धनिया या तिल खाकर जाएँ


आज के अशुभ मुहूर्त

विघ्नकारक भद्रा

22 नवम्बर को दोपहर 01:33 से देर रात्रि 02:55 तक ।


राहु काल (Rahu kaal)
राहु काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए |

आज का राहु काल (अशुभ समय) Forward ImageForward Image

बुधवार ---- दिन -12.00 से 01.30 तक।

अशुभ चौघड़िया ( aashubh chaughadiya )
अशुभ चौघड़ियाँ में शुभ कार्य टालना ही बुद्धिमानी है|

आज की दिन की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की काल चौघड़िया ----- प्रात: काल 9.00 AM 10.30 AM

दिन की रोग चौघड़िया ---- मध्यान 12.00 PM 1.30 PM अपराह्न

दिन की उद्बेग चौघड़िया ----- अपराह्न 1.30 AM 3.00 AM

आज की रात्रि की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया ----- सायं काल 6.00 PM 7.30 PM

रात्रि की रोग चौघड़िया ----- मध्य रात्रि 12.00 AM 1.30 AM

रात्रि की काल चौघड़िया ------ मध्य रात्रि 1.30 AM 3.00 AM

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया ----- प्रात: काल 4.30 AM 6.00 AM

Kalash One Image इस महीने में तेल की मालिस करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में ठन्डे पेय पदार्थों का सेवन बिलकुल बंद कर दें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन (नवम्बर-दिसम्बर) में ज्यादा ठंडी, ज्यादा गर्म चीजो का सेवन ना करें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में जीरा ना खाएं लेकिन खाद्य तेल का इस्तेमाल अवश्य करें अर्थात तेल से बनी हुई चीजे अधिक खाएं ।
Kalash One Image मार्गशीर्ष (अगहन) माह भगवान श्री कृष्ण को बहुत पसंद है इस महीने में गीता का पाठ करने से भगवान दामोदर की कृपा बनी रहती है ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

Backword ImageBackword Image बुधवार शुक्रवार Forward ImageForward Image

मुहूर्त, आज के शुभ अशुभ मुहूर्त

Muhurt, Aaj ke Shubh Ashubh Muhurt

बृहस्पतिवार के शुभ अशुभ मुहूर्त


"Guruvar" "Brihaspativar ke Shubh Ashubh Muhurt"

प्रत्येक दिन में शुभ अशुभ दोनों ही समय आते है । यदि हमें इसके बारे में पूर्व में ही जानकारी मिल जाये, हम शुभ समय का पूरा उपयोग कर लें और अशुभ समय में अपना कोई भी महत्वपूर्ण, नया कार्य शुरू ना करें, उस समय थोड़ी सी सावधानी रखें, तो हमें निश्चित ही अपने कर्मों के सुखद फल प्राप्त होंगे।जो हमारे दैनिक कार्य है या जिन कार्यों के बीच में शुभ अशुभ समय आता है उसकी मान्यता नहीं मानी जाती है,
अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज के मुहूर्त ( muhurat ) शुभ अशुभ मुहूर्त ( shubh ashubh muhurat ) ।

Kalash One Imageआज की तिथि (Aaj Ki Tithi ) - आज मार्गशीर्ष (अगहन) माह की शुक्ल पक्ष की पञ्चमी तिथि, दिन बृहस्पतिवार है ।

Kalash One Image तिथि समय - पञ्चमी - 24 नवंबर सुबह 05:34 तक तदुपरांत षष्ठी ।

पंचमी तिथि के स्वामी नाग देवता हैं। शास्त्रों के अनुसार इस दिन नाग देव की पूजा करने से भय तथा कालसर्प दोष दूर होता है। पंचमी तिथि को पूर्णा भी कहते है। इस तिथि में कोई भी नया कार्य शुरू करने से उसमे सफलता मिलने की सम्भावना बहुत बढ़ जाती है वह कार्य बहुत लम्बे समय तक चलते है ।

पंचमी को अनंत, बासुकि, शंख, पद्म, कंबल, कर्कोटक, अश्वतर, घृतराष्ट, ऊ शंखपाल, कालिया, तक्षक और पिंगल इन बारह नागों के नामो का उच्चारण करना चाहिए अथवा
पांच पौराणिक नागों अनंत, वासुकि, तक्षक, कर्कोटक व पिंगल के नामो का उच्चारण करें ।

आज के शुभ मुहूर्त

आज का अभिजित मुहूर्त (शुभ समय)

Aaj ka Abhijeet Muhurat ( Shubh Samay )

अभिजित मुहूर्त दिन का आठवां मुहूर्त होता है और यह मघ्याह्न ( दोपहर लगभग 12 बजे ) के समय आता है। और इसके 24 मिनट पहले और 24 मिनट बाद में (अर्थात 48 मिनट) इसका प्रारम्भ और अंत माना जाता है।अर्थात 11:36 से 12:24 तक |

आज का गुलीक काल ( Gulik Kaal )(शुभ समय) Forward ImageForward Image

गुरुवार ---- प्रातः 9 से 10.30 बजे तक

चौघड़िया, ( Chaughadiya ) किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में, कार्यो की सफलता हेतु चौघड़िया को अवश्य ही देखना चाहिए| एक चौघड़ियाँ 1.30 घंटे की होती है, शुभ चौघड़ियां में कार्य करने से समान्यता कार्य सफल होते है |

आज की दिन की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की शुभ चौघड़िया ----- प्रात: काल 6.00 AM To 7.30 PM

दिन की चर चौघड़िया ----- प्रात: काल 10:30 AM To 12:00 PM

दिन की लाभ चौघड़िया ---- मध्यान 12.00 PM To 1.30 PM

दिन की अमृत चौघड़िया ---- अपराह्न 1.30 PM To 3.00 PM

दिन की शुभ चौघड़िया ---- सायं काल 4.30 PM To 6:00 PM


आज की रात्रि की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

अमृत चौघड़िया ----- सायं काल 6.00 PM To 7.30 PM

चर चौघड़िया ----- सायं काल 7:30 PM To 9:00 PM

लाभ चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 12.00 AM To 1.30 AM

शुभ चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 3.00 AM To 4.30 AM

अमृत चौघड़िया ---- प्रात: काल 4.30 AM To 6.00 AM


दक्षिण दिशा ---------घर से सरसो के दाने या जीरा खाकर जाएँ


आज के अशुभ मुहूर्त


राहु काल ( Rahu kaal )
राहु काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए |

आज का राहु काल (अशुभ समय) Forward ImageForward Image

गुरूवार ---- दिन -1.30 से 3.00 तक।

अशुभ चौघड़िया ( aashubh chaughadiya )
अशुभ चौघड़ियाँ में शुभ कार्य टालना ही बुद्धिमानी है|

आज की दिन की अशुभ चौघड़िया ( AShubh Chaughadiya ) Forward ImageForward Image

दिन की रोग चौघड़िया ----- प्रात: काल 7.30 AM 9.00 AM

दिन की उद्बेग चौघड़िया ---- प्रात: काल 9.00 AM 10.30 AM

दिन की काल चौघड़िया ---- अपराह्न 3.00 PM 4.30 PM

आज की रात्रि की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

रात्रि की रोग चौघड़िया ----- रात्रि 9.00 PM 10.30 PM

रात्रि की काल चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 10.30 PM 12.00 AM

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 1.30 AM 3.00 AM



Kalash One Image इस महीने में तेल की मालिस करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में ठन्डे पेय पदार्थों का सेवन बिलकुल बंद कर दें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन (नवम्बर-दिसम्बर) में ज्यादा ठंडी, ज्यादा गर्म चीजो का सेवन ना करें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में जीरा ना खाएं लेकिन खाद्य तेल का इस्तेमाल अवश्य करें अर्थात तेल से बनी हुई चीजे अधिक खाएं ।
Kalash One Image मार्गशीर्ष (अगहन) माह भगवान श्री कृष्ण को बहुत पसंद है इस महीने में गीता का पाठ करने से भगवान दामोदर की कृपा बनी रहती है ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

Backword ImageBackword Image बृहस्पतिवार शनिवार Forward ImageForward Image

मुहूर्त, आज के शुभ अशुभ मुहूर्त

Muhurt, Aaj ke Shubh Ashubh Muhurt

शुक्रवार के शुभ अशुभ मुहूर्त

Shukarwar ke Shubh Ashubh Muhurt

laxmi-ji

प्रत्येक दिन में शुभ अशुभ दोनों ही समय आते है । यदि हमें इसके बारे में पूर्व में ही जानकारी मिल जाये, हम शुभ समय का पूरा उपयोग कर लें और अशुभ समय में अपना कोई भी महत्वपूर्ण, नया कार्य शुरू ना करें, उस समय थोड़ी सी सावधानी रखें, तो हमें निश्चित ही अपने कर्मों के सुखद फल प्राप्त होंगे।जो हमारे दैनिक कार्य है या जिन कार्यों के बीच में शुभ अशुभ समय आता है उसकी मान्यता नहीं मानी जाती है,
अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज के मुहूर्त ( muhurat ) शुभ अशुभ मुहूर्त ( shubh ashubh muhurat ) ।

Kalash One Imageआज की तिथि (Aaj Ki Tithi) - आज मार्गशीर्ष (अगहन) माह की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि दिन शुक्रवार है ।

Kalash One Image तिथि समय - षष्ठी - पूर्ण रात्रि तक तदुपरान्त सप्तमी ।

आज मार्गशीर्ष (अगहन) माह की शुक्ल पक्ष की षष्टी है। इस तिथि को कीर्ति के नाम से भी जाना जाता है। षष्ठी को नए कार्य, मांगलिक कार्य, किसी भी तरह की खरीदारी करने से शुभ फल मिलते हैं। लेकिन रविवार को पड़ने वाली षष्ठी तिथि में शुभ कार्यों की शुरुआत नहीं करनी चाहिए।

षष्ठी तिथि के स्वामी भगवान शिव के पुत्र स्कंद देव अर्थात् भगवान कार्तिकेय हैं। भगवान कार्तिकेय शक्ति के देवता, देवताओं के सेनापति है । दक्षिण भारत में इन्हे 'मुरूगन स्वामी' के नाम से जाना जाता है। मनुष्य को जीवन में निर्भयता, विजय, प्रतिष्ठा, राज द्वार, मुक़दमे में सफलता आदि सब इनकी कृपा से ही प्राप्त होते है। जीवन में सभी प्रकार के कष्टों और संकटों को दूर करने के लिए षष्टी के दिन भगवान कार्तिकेय के गायत्री मंत्र
"ओम तत्पुरुषाय विधमहे:
महा सैन्या धीमहि
तन्नो स्कन्दा प्रचोद्यात:॥" का जाप अवश्य ही करना चाहिए ।

आज के शुभ मुहूर्त

शुभ कार्य सिद्धि योग


24 नवम्बर को प्रात: 10:03 से 25 नवम्बर दोपहर 12:49 तक


सर्वदोषनाशक रवि योग योग

24 नवम्बर को प्रात:10:03 से 25 नवम्बर को दोपहर 12:49 तक ।


आज का गुलीक काल ( Gulik Kaal ) (शुभ समय) Forward ImageForward Image

शुक्रवार ---- प्रातः 7.30 से 9 बजे तक

आज का अभिजित मुहूर्त (शुभ समय)

Aaj ka Abhijeet Muhurat ( Shubh Samay )

अभिजित मुहूर्त दिन का आठवां मुहूर्त होता है और यह मघ्याह्न ( दोपहर लगभग 12 बजे ) के समय आता है। और इसके 24 मिनट पहले और 24 मिनट बाद में (अर्थात 48 मिनट) इसका प्रारम्भ और अंत माना जाता है।अर्थात 11.36 से 12.24 तक |

चौघड़िया, (Chaughadiya) किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में, कार्यो की सफलता हेतु चौघड़िया को अवश्य ही देखना चाहिए| एक चौघड़ियाँ 1:30 घंटे की होती है, शुभ चौघड़ियां में कार्य करने से समान्यता कार्य सफल होते है |

आज की दिन की शुभ चौघड़िया ( Shubh Chaughadiya )Forward ImageForward Image

दिन की चर चौघड़िया ----- प्रात: काल 6:00 AM To 7:30 AM

दिन की लाभ चौघड़िया ----- प्रात: काल 7.30 AM To 9.00 AM

दिन की अमृत चौघड़िया ---- प्रात: काल 9.30 AM To 10:30 AM

दिन की शुभ चौघड़िया ---- मध्यान 12:00 PM To 1:30 PM

आज की रात्रि की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

लाभ चौघड़िया ----- रात्रि काल 9.00 PM To 10.30 PM

शुभ चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 12.00 AM To 1.30 AM

अमृत चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 1:30 AM To 3:00 AM

चर चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 3:00 AM To 4:30 AM


पश्चिम दिशा---------घर से दही खाकर जाएँ


आज के अशुभ मुहूर्त

राहु काल ( Rahu kaal )
राहु काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए |

आज का राहु काल (अशुभ समय) Forward ImageForward Image

शुक्रवार ---- सुबह -10.30 से 12.00 तक।

अशुभ चौघड़िया ( aashubh chaughadiya )
अशुभ चौघड़ियाँ में शुभ कार्य टालना ही बुद्धिमानी है|

आज की दिन की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की काल चौघड़िया ----- प्रात: काल 10.30 AM 12.00 PM

दिन की रोग चौघड़िया ---- अपराह्न 1.30 PM 3.00 PM

दिन की उद्बेग चौघड़िया ---- सायं काल 3.00 AM 4.30 AM

आज की रात्रि की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

रात्रि की रोग चौघड़िया ----- सायं काल 6.00 PM 7.30 PM

रात्रि की काल चौघड़िया ---- रात्रि 7.30 PM 9.00 AM

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया ---- रात्रि 10:30 PM 12:00 AM

रात्रि की रोग चौघड़िया ---- प्रात: काल 4:30 AM 6:00 AM



Kalash One Image इस महीने में तेल की मालिस करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में ठन्डे पेय पदार्थों का सेवन बिलकुल बंद कर दें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन (नवम्बर-दिसम्बर) में ज्यादा ठंडी, ज्यादा गर्म चीजो का सेवन ना करें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में जीरा ना खाएं लेकिन खाद्य तेल का इस्तेमाल अवश्य करें अर्थात तेल से बनी हुई चीजे अधिक खाएं ।
Kalash One Image मार्गशीर्ष (अगहन) माह भगवान श्री कृष्ण को बहुत पसंद है इस महीने में गीता का पाठ करने से भगवान दामोदर की कृपा बनी रहती है ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

Backword ImageBackword Image शुक्रवार रविवार Forward ImageForward Image

मुहूर्त, आज के शुभ अशुभ मुहूर्त

Muhurt, Aaj ke Shubh Ashubh Muhurt

शनिवार के शुभ अशुभ मुहूर्त

Shaniwar ke Shubh Ashubh Muhurt

shani-dev-ji

प्रत्येक दिन में शुभ अशुभ दोनों ही समय आते है । यदि हमें इसके बारे में पूर्व में ही जानकारी मिल जाये, हम शुभ समय का पूरा उपयोग कर लें और अशुभ समय में अपना कोई भी महत्वपूर्ण, नया कार्य शुरू ना करें, उस समय थोड़ी सी सावधानी रखें, तो हमें निश्चित ही अपने कर्मों के सुखद फल प्राप्त होंगे।जो हमारे दैनिक कार्य है या जिन कार्यों के बीच में शुभ अशुभ समय आता है उसकी मान्यता नहीं मानी जाती है,
अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज के मुहूर्त ( muhurat ) शुभ अशुभ मुहूर्त ( shubh ashubh muhurat ) ।

शनिवार को पीपल के पेड़ की सेवा करने से कुंडली के ग्रहो के अशुभ फल दूर होते है, शुभ फलो की प्राप्ति होती है

Kalash One Imageआज की तिथि (Aaj Ki Tithi ) - आज मार्गशीर्ष (अगहन) माह की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि दिन शनिवार है ।

Kalash One Image तिथि समय - षष्ठी - 07:57 तक तदोपरांत सप्तमी ।

आज मार्गशीर्ष (अगहन) माह की शुक्ल पक्ष की षष्टी है। इस तिथि को कीर्ति के नाम से भी जाना जाता है। षष्ठी को नए कार्य, मांगलिक कार्य, किसी भी तरह की खरीदारी करने से शुभ फल मिलते हैं। लेकिन रविवार को पड़ने वाली षष्ठी तिथि में शुभ कार्यों की शुरुआत नहीं करनी चाहिए।

षष्ठी तिथि के स्वामी भगवान शिव के पुत्र स्कंद देव अर्थात् भगवान कार्तिकेय हैं। भगवान कार्तिकेय शक्ति के देवता, देवताओं के सेनापति है । दक्षिण भारत में इन्हे 'मुरूगन स्वामी' के नाम से जाना जाता है। मनुष्य को जीवन में निर्भयता, विजय, प्रतिष्ठा, राज द्वार, मुक़दमे में सफलता आदि सब इनकी कृपा से ही प्राप्त होते है। जीवन में सभी प्रकार के कष्टों और संकटों को दूर करने के लिए षष्टी के दिन भगवान कार्तिकेय के गायत्री मंत्र
"ओम तत्पुरुषाय विधमहे:
महा सैन्या धीमहि
तन्नो स्कन्दा प्रचोद्यात:॥" का जाप अवश्य ही करना चाहिए ।

आज के शुभ मुहूर्त

शुभ कार्य सिद्धि योग

25 नवम्बर को प्रात: 06:25 से दोपहर 12:49 तक


सर्वदोषनाशक रवि योग योग

24 नवम्बर को प्रात:10:03 से 25 नवम्बर को दोपहर 12:49 तक ।
द्विपुष्कर (दो गुना फल) योग

25 नवम्बर को दोपहर 12:49 से 26 नवम्बर सुबह 06:25 तक


आज का गुलीक काल ( Gulik Kaal ) (शुभ समय) Forward ImageForward Image

शनिवार ---- प्रातः 6 से 7:30 बजे तक

आज का अभिजित मुहूर्त (शुभ समय)

Aaj ka Abhijeet Muhurat ( Shubh Samay )

अभिजित मुहूर्त दिन का आठवां मुहूर्त होता है और यह मघ्याह्न ( दोपहर लगभग 12 बजे ) के समय आता है। और इसके 24 मिनट पहले और 24 मिनट बाद में (अर्थात 48 मिनट) इसका प्रारम्भ और अंत माना जाता है।अर्थात 11.36 से 12.24 तक |

चौघड़िया, ( Chaughadiya ) किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में, कार्यो की सफलता हेतु चौघड़िया को अवश्य ही देखना चाहिए| एक चौघड़ियाँ 1.30 घंटे की होती है, शुभ चौघड़ियां में कार्य करने से समान्यता कार्य सफल होते है |

आज की दिन की शुभ चौघड़िया ( Shubh Chaughadiya ) Forward Image Forward Image

दिन की शुभ चौघड़िया ----- प्रात: काल 7.30 AM To 9.00 AM

दिन की चर की चौघड़िया ---- मध्यान 12:00 PM To 1:30 PM

दिन की लाभ की चौघड़िया ---- मध्यान 1:30 PM To 3:00 PM

दिन की अमृत चौघड़िया ---- दोपहर 3:00 PM To 04:30 PM

आज की रात्रि की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

लाभ चौघड़िया ----- 6.00 PM To 07.30 PM

शुभ की चौघड़िया ----- 9.00 PM To 10.30 PM

अमृत की चौघड़िया ---- रात्रि 10.30 AM To मध्य रात्रि 12:00 AM

चर की चौघड़िया ---- रात्रि 12:00 AM To 1:30 AM

लाभ चौघड़िया ---- 04:30 AM To 6:00 AM


उत्तर पूर्व ( ईशान कोण कि दिशा )---------अदरक या उड़द खा कर जाएँ


आज के अशुभ मुहूर्त

पंचक

25 नवम्बर को देर रात्रि 02:01 से 30 नवम्बर को सायं 04:13 तक ।


राहु काल ( Rahu kaal )
राहु काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए |

आज का राहु काल (अशुभ समय) Forward ImageForward Image

शनिवार ---- सुबह - 9:00 से 10:30 तक ।

अशुभ चौघड़िया ( aashubh chaughadiya )
अशुभ चौघड़ियाँ में शुभ कार्य टालना ही बुद्धिमानी है|

आज की दिन की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की काल चौघड़िया ----- प्रात: काल 06:00 AM 07:30 PM

दिन की रोग चौघड़िया ---- 9.00 PM 10:30 PM

दिन की काल की चौघड़िया ---- सायं काल 4.30 AM 06.00 AM

आज की रात्रि की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया ---- रात्रि 07:30 PM 09:00 AM

रात्रि की रोग चौघड़िया ----- सायं काल 1.30 PM 3.00 PM

रात्रि की काल चौघड़िया ---- 3.00 PM 4.30 AM



विशेष :- शनिवार को काले चने, उड़द की खिचड़ी, काला नमक, कड़वे तेल में बने पदार्थो का सेवन करने से शनि देव प्रसन्न होते है कार्यो में अड़चने दूर होती है ।

Kalash One Image इस महीने में तेल की मालिस करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में ठन्डे पेय पदार्थों का सेवन बिलकुल बंद कर दें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन (नवम्बर-दिसम्बर) में ज्यादा ठंडी, ज्यादा गर्म चीजो का सेवन ना करें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में जीरा ना खाएं लेकिन खाद्य तेल का इस्तेमाल अवश्य करें अर्थात तेल से बनी हुई चीजे अधिक खाएं ।
Kalash One Image मार्गशीर्ष (अगहन) माह भगवान श्री कृष्ण को बहुत पसंद है इस महीने में गीता का पाठ करने से भगवान दामोदर की कृपा बनी रहती है ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

Backword ImageBackword Image शनिवार सोमबार Forward ImageForward Image


रविवार के शुभ अशुभ मुहूर्त

surya-dev

प्रत्येक दिन में शुभ अशुभ दोनों ही समय आते है । यदि हमें इसके बारे में पूर्व में ही जानकारी मिल जाये, हम शुभ समय का पूरा उपयोग कर लें और अशुभ समय में अपना कोई भी महत्वपूर्ण, नया कार्य शुरू ना करें, उस समय थोड़ी सी सावधानी रखें, तो हमें निश्चित ही अपने कर्मों के सुखद फल प्राप्त होंगे। जो हमारे दैनिक कार्य है या जिन कार्यों के बीच में शुभ अशुभ समय आता है उसकी मान्यता नहीं मानी जाती है ,
अपने कार्यो में श्रेष्ठ फलो की प्राप्ति के लिए जानिए आज के मुहूर्त ( muhurat ) शुभ अशुभ मुहूर्त ( shubh ashubh muhurat ) ।

रविवार को मंदिर में भैरव नाथ के दर्शन अवश्य करें और उन्हें जलेबी, नमकीन और शराब चढ़ाएं | इससे समस्त संकट और अस्थिरताएँ दूर होती है|

Kalash One Image तिथि- आज अगहन (मार्गशीर्ष) माह की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि दिन रविवार है ।

Kalash One Image तिथि समय - प्रतिपदा - 19:14 तक तदुपरान्त द्वितीया ।

आज प्रतिपदा है । प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्नि देव हैं। अग्नि देव इस पृथ्वी पर साक्षात् देवता हैं, देवताओं में सर्वप्रथम अग्निदेव की उत्पत्ति हुई थी । अग्नि देव का पूजन करके सभी देवताओं की कृपा प्राप्त की जा सकती है।

प्रतिपदा के दिन प्रात: अग्निदेव का मन्त्र
"रं वह्निचैतन्याय नम: " की एक माला का अवश्य ही जप करना चाहिए ।इनकी आराधना से घर, कारोबार में सुख-समृद्धि, तेज, यश, बल, आरोग्य की प्राप्ति होती है ।

आज के शुभ मुहूर्त

द्विपुष्कर (दो गुना फल) योग

26 नवम्बर को प्रात: 06:26 से प्रात: 09:51 तक


आज का अभिजित मुहूर्त (शुभ समय)

अभिजित मुहूर्त दिन का आठवां मुहूर्त होता है और यह मघ्याह्न ( दोपहर लगभग 12 बजे ) के समय आता है। और इसके 24 मिनट पहले और 24 मिनट बाद में (अर्थात 48 मिनट) इसका प्रारम्भ और अंत माना जाता है।अर्थात 11:36 से 12:24 तक |

आज का गुलीक काल (शुभ समय) Forward ImageForward Image

रविवार ----- अपराह्न- 3.00 PM 4.30 PM

चौघड़िया, ( Chaughadiya ) किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में, कार्यो की सफलता हेतु चौघड़िया को अवश्य ही देखना चाहिए| एक चौघड़ियाँ 1.30 घंटे की होती है, शुभ चौघड़ियां में कार्य करने से समान्यता कार्य सफल होते है |

आज की दिन की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की चर चौघड़िया ----- प्रात: काल 7.30 AM To 9.00 AM

दिन की लाभ चौघड़िया ----- प्रात: काल 9.00 AM To 10.30 AM

दिन की अमृत चौघड़िया ---- प्रात: काल 10.30 AM To 12.00 PM

दिन की शुभ चौघड़िया ------ अपराह्न 1.30 PM To 3.00 PM

आज की रात्रि की शुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

रात्रि की शुभ चौघड़िया ------ सायं काल 6.00 PM To 7.30 PM

रात्रि की अमृत चौघड़िया ---- रात्रि काल 7.30 PM To 9.00 PM

रात्रि की चर चौघड़िया ---- रात्रि काल 9.00 PM To 10:30 PM

रात्रि की लाभ चौघड़िया ----- मध्य रात्रि 1.30 AM To 3.00 AM

रात्रि की शुभ चौघड़िया ------ प्रात: काल 4.30 AM To 6.00 AM


पश्चिम दिशा ---------घर से पान या घी खाकर जाएँ


आज के अशुभ मुहूर्त


पंचक

25 नवम्बर को देर रात्रि 02:01 से 30 नवम्बर को सायं 04:13 तक ।


राहु काल ( Rahu kaal )
राहु काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए |

आज का राहु काल (अशुभ समय) Forward ImageForward Image

रविवार ---- सायं - 4.30 से 6.00 तक।

अशुभ चौघड़िया ( aashubh chaughadiya )
अशुभ चौघड़ियाँ में शुभ कार्य टालना ही बुद्धिमानी है|

आज की दिन की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

दिन की उद्बेग चौघड़िया ----- प्रात: काल 6.00 AM 7.30 AM

दिन की काल चौघड़िया ----- अपराह्न 12.00 PM 1.30 PM

दिन की रोग चौघड़िया ------ अपराह्न 3.00 PM 4.30 PM

दिन की उद्बेग चौघड़िया ----- सायं काल 4.30 PM 6.00 PM

आज की रात्रि की अशुभ चौघड़िया Forward ImageForward Image

रात्रि की रोग चौघड़िया ----- रात्रि 10.30 PM 12.00 AM

रात्रि की काल चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 12.00 AM 1.30 AM

रात्रि की उद्बेग चौघड़िया ---- मध्य रात्रि 3.00 AM 4.30 AM प्रात: काल



Kalash One Image इस महीने में तेल की मालिस करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में ठन्डे पेय पदार्थों का सेवन बिलकुल बंद कर दें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन (नवम्बर-दिसम्बर) में ज्यादा ठंडी, ज्यादा गर्म चीजो का सेवन ना करें ।
Kalash One Image मार्गशीष / अगहन माह में जीरा ना खाएं लेकिन खाद्य तेल का इस्तेमाल अवश्य करें अर्थात तेल से बनी हुई चीजे अधिक खाएं ।
Kalash One Image मार्गशीर्ष (अगहन) माह भगवान श्री कृष्ण को बहुत पसंद है इस महीने में गीता का पाठ करने से भगवान दामोदर की कृपा बनी रहती है ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

Loading...



तो देखा आपने ईश्वर पर पूर्ण श्रद्धा और विश्वास रखते हुए बस अपने कार्यों को बतलाये गए समय के हिसाब से करने कि कोशिश करें आपको अवश्य ही अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे ।


दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो , आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

आज के शुभ , अशुभ मुहूर्त

shani-dev

दोस्तों क्या आप जानते है कि यदि आपको प्रतिदिन के शुभ अशुभ समय का पूर्व में ही पता लग जाये तो आपके कितने काम आसानी से बन सकते है …. अगर नहीं जानते है तो अवश्य ही विजिट करें