Memory Alexa Hindi

Backword ImageBackword Image शनिवार का पंचाग सोमबार का पंचाग Forward ImageForward Image



Kalash One Image रविवार का पंचाग Kalash One Image
Kalash One Image Raviwar Ka Panchang Kalash One Image

आज का पंचांग

Aaj Ka Panchang, epanchang

surya-dev


Kalash One Image पंचाग 2018 Kalash One Image
Kalash One Image panchang, epanchang Kalash One Image

Panchang 2018, पंचाग, हिन्दू पंचाग ( Hindu Panchang ) पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं:- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचाग ( panchang ) का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचाग का श्रवण करते थे ।
*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है ।
*वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है।
* नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है।
* योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है ।
*करण के पठन श्रवण से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना ,पढ़ना चाहिए ।

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

22 अप्रैल 2018

भगवान सूर्य जी का मंत्र : ऊँ घृणि सूर्याय नम: ।।

।। आज का दिन मंगलमय हो ।।


Kalash One Image दिन (वार) रविवार को भगवान सूर्य को प्रात: ताम्बे के बर्तन में लाल चन्दन, गुड़, और लाल पुष्प डाल कर अर्घ्य देना चाहिए, एवं आदित्यहृदयस्तोत्रम्‌ का पाठ करना चाहिए। रविवार को यदि संभव हो तो नमक ना खाएं रविवार को मीठा खाना श्रेयकर होता है ।
स्कंद पुराण के अनुसार रविवार के दिन बिल्ववृक्ष का पूजन करना चाहिए। इससे ब्रह्महत्या आदि महापाप भी नष्ट हो जाते हैं।

*विक्रम संवत् 2075 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य
*शक संवत - 1940
*अयन - उत्तरायण
*ऋतु - ग्रीष्म ऋतु
*मास - वैशाख माह
*पक्ष - शुक्ल पक्ष

Kalash One Image तिथि (Tithi)- सप्तमी - 16:17 तक तदुपरान्त अष्टमी ।

Kalash One Image तिथि का स्वामी - सप्तमी तिथि के स्वामी भगवान सूर्यदेव हैं तथा अष्टमी तिथि के स्वामी भगवान शिव जी हैं ।

सप्तमी तिथि के स्वामी भगवान सूर्य है। सूर्य देव इस संसार  प्रत्यक्ष देव है जो अपनी किरणों, अपने प्रकाश से इस ब्रह्माण्ड को आलोकिक करते है।  कार्यों में सफलता, विद्द्या, तेज, मान-सम्मान की प्राप्ति के लिए सप्तमी तिथि को सूर्य देव का पूजन अवश्य ही किया जाना चाहिए । सप्तमी के दिन मीठा भोजन या फलाहार करने भोजन में नमक का सेवन ना करने से सूर्य भगवान प्रसन्न होते हैं । 

Kalash One Image नक्षत्र (Nakshatra) पुनर्वसु - 18:18 तक तदुपरान्त पुष्य ।

Kalash One Image नक्षत्र के देवता,ग्रह स्वामी- पुनर्वसु नक्षत्र के देवता आदिती (देवमाता) हैं एवं ग्रह स्वामी वृहस्पति देव है । तथा पुष्य नक्षत्र के देवता वृहस्पति देव हैं एवं ग्रह स्वामी भगवान शनि देव है ।

Kalash One Image योग(Yog) - धृति - रात्रि 02:26 तक ।

Kalash One Image प्रथम करण : - वणिज - 16:17 तक

Kalash One Image द्वितीय करण : - विष्टि - रात्रि 03:15 तक

Kalash One Image गुलिक काल : - अपराह्न - 3:00 से 4:30 तक ।

Kalash One Image दिशाशूल (Dishashool)- रविवार को पश्चिम दिशा का दिकशूल होता है । यदि यात्रा आवश्यक हो घर से पान या घी खाकर जाएँ ।

Kalash One Image राहुकाल (Rahukaal)-सायं - 4:30 से 6:00 तक ।

Kalash One Imageसूर्योदय -प्रातः 06:00 ।

Kalash One Imageसूर्यास्त - सायं 06:50 ।

Kalash One Image विशेष - सप्तमी को ताड़ का सेवन नहीं करना चाहिए । 

Kalash One Image पर्व त्यौहार-

Kalash One Image मुहूर्त (Muhurt) -
सप्तमी तिथि को राज संबंधी कार्य ( सरकारी कार्य ), व्रतबंध, प्रतिष्ठा, विवाह, यात्रा, भूषणादि के लिए शुभ होते हैं। 
सप्तमी तिथि को यात्रा, शिल्प, चूड़ा कर्म, अन्नप्राशन व गृह प्रवेश शुभ है।


"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण,आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।

pandit-ji

पं मुक्ति नारायण पाण्डेय
( कुंडली, ज्योतिष विशेषज्ञ )

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट को प्रति दिन ना केवल खुद ज्यादा से ज्यादा विजिट करे वरन अपने सम्पर्कियों को भी इस साईट के बारे में अवश्य बताएं .....धन्यवाद ।

Ad space on memory museum


Published By : Memory Museum
Updated On : 2018-03-28 04:20:55 PM

आज का पंचाग (aaj ka panchang)

surya-dev-ji surya-dev-ji

जानिए क्या है आज का पंचाग